मंगलवार, 07 जुलाई, 2015 | 10:17 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    बरमूडा ट्राइएंगल की तरह हो चुका है व्यापमं, राज जानने वाला नहीं बचता जिन्दा ग्वालियर-चंबल से जुड़े हैं व्यापमं के तार, इलाके से अब तक 21 लोगों की मौत ढाई करोड़ का फ्रॉड कर बन गया था बाबा, दस साल बाद चढ़ा सीबीआई के हत्थे व्यापमं में हो रही मौतों पर बोलीं उमा भारती: मंत्री हूं लेकिन फिर भी लगता है डर बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने अपने विश्वासपात्रों को पार्टी में दी महत्वपूर्ण भूमिका यूपी के बाराबंकी में पुलिसवालों ने थाने में महिला को जिंदा फूंका वनडे मैचों में 5000 रन बनाने वाली दुनिया की दूसरी क्रिकेटर बनीं मिताली चीन ने विज्ञापन में दिखाई भारतीय शहरों में गंदगी  VIDEO: आकाशवाणी दिल्ली परिसर में सिपाही पर गोलीबारी कुंआरी मां बन सकती है बच्चे की अभिभावक
महिला उत्पीड़न मामलों की त्वरित सुनवाई हो: कबीर
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:07-01-13 05:19 PMLast Updated:07-01-13 10:52 PM
Image Loading

राजधानी में चलती बस में पैरा-मेडिकल छात्रा के साथ हुए नृशंस सामूहिक बलात्कार को लेकर देश में बचे बवाल की पृष्ठभूमि में उच्चतम नयायालय के मुख्य न्यायाधीश अल्तमश कबीर ने सभी उच्च न्यायालयों से बलात्कार और महिला उत्पीड़न के मामलों की सुनवाई को प्राथमिकता देने को कहा है।
 
न्यायमूर्ति कबीर ने देश के सभी उच्च न्यायालयों के मुख्य न्यायाधीशों को पत्र लिखकर महिला उत्पीड़न और बलात्कार संबंधी मामलों की त्वरित सुनवाई सुनिश्चित करने को कहा है। न्यायाधीश ने कहा कि उच्च न्यायालयों एवं निचली अदालतों में ऐसे मामलों को सर्वाधिक प्राथमिकता दी जानी चाहिए।

न्यायमूर्ति कबीर ने लिखा है कि महिलाओं के खिलाफ उत्पीड़न के अनेक मामले लंबित है और हाल के सालों में ऐसे मामलों की संख्या काफी बढ़ी है। उन्होंने लिखा है कि ऐसे मामलों में बढ़ोत्तरी के लिए सुनवाई में होने वाली देरी भी एक प्रमुख कारण हो सकता है।

उन्होंने लिखा है कि अब समय आ गया है कि ऐसे मामलों की त्वरित सुनवाई हो, अन्यथा महिलाओं के खिलाफ हिंसा एवं उत्पीड़न के मामलों को रोकने के प्रयासों में हम असफल हो जाएंगे।

मुख्य न्यायाधीश ने लिखा है कि महिलाओं के खिलाफ हिंसा के मामलों की सुनवाई के लिए त्वरित अदालत गठित करने का कदम तत्काल उठाया जाना चाहिए। इस बीच मौजूदा न्यायिक अधिकारियों को इसकी जिम्मेदारी दी जा सकती है, ताकि नई अदालतों के गठन एवं रिक्तियां भरे जाने तक इन मामलों का निपटारा सुनिश्चित की जा सके।

उन्होंने लिखा है कि उच्च न्यायालयों एवं अधीनस्थ अदालतों में बडी संख्या में पद रिक्त हैं और यह आवश्यक है कि इन रिक्तियों को यथाशीघ्र भरा जाए। न्यायमूर्ति कबीर ने लिखा है कि आप यह सुनिश्चित करें कि उच्च न्यायालयों एवं जिला अदालतों के स्तर पर महिला उत्पीड़न मामलों की सुनवाई त्वरित आधार पर की जाए।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingवनडे मैचों में 5000 रन बनाने वाली दुनिया की दूसरी क्रिकेटर बनीं मिताली
भारतीय महिला क्रिकेट टीम की कप्तान मिताली राज ने सोमवार को एकदिवसीय क्रिकेट में 5000 रन पूरे कर लिए। इस मुकाम पर पहुंचने वाली वह भारत की पहली और विश्व की दूसरी बल्लेबाज हैं।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड