सोमवार, 06 जुलाई, 2015 | 00:55 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    लालू की हैसियत महुआ रैली में उजागर, नीतीश को पक्का मारेंगे लंगड़ीः पासवान एयरइंडिया के यात्री ने की खाने में मक्खी की शिकायत  फेसबुक ने 15 साल बाद मां-बेटे को मिलाया  व्हाट्सएप मैसेज से बवाल कराने वाला बीए का छात्र मोहित गिरफ्तार मुरादाबाद: नदी में पलटी जुगाड़ नाव, आठ डूबे, सर्च ऑपरेशन जारी यूपी के रामपुर में दो भाईयों की गोली मारकर हत्या, पुलिस जांच में जुटी बिहार के हाजीपुर में भारी मात्रा में विस्फोटक बरामद, छह गिरफ्तार झारखंड: चतरा के टंडवा में हाथियों ने कई घर तोड़े, खा गए धान बिहार में आंखों का अस्पताल बनाने के लिए इंडो-अमेरिकन्स का बड़ा कदम मुजफ्फरनगर के शुक्रताल में हजारों मछलियां मरीं, संत समाज बैठा धरने पर
मेरी बेटी को मत छीनो : पीड़िता की मां
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:30-12-12 10:26 PM

दिल्ली में दुष्कर्म की शिकार लड़की को जिस समय अंत्येष्टि के लिए ले जाया जा रहा था तब उसकी मां का क्रंदन पत्थर दिल को भी हिला गया। बिलखती हुई मां ने, ''मेरी बच्ची को मेरे पास रहने दो, उसे मुझसे दूर मत करो'' कहते हुए विलाप किया।

23 वर्षीया दिवंगत पीड़िता की मां दक्षिण पश्चिमी दिल्ली के महावीर विहार स्थित आवास में शव लाए जाने के बाद कई बार बेहोश हो गई। मां की खराब हालत को देखते हुए दीन दयाल उपाध्याय अस्पताल में भर्ती कराया गया है जहां उनकी हालत स्थिर बताई गई है।

परिवार की पड़ोसन विमला ने बताया कि जैसे ही अंत्येष्टि के लिए शव को ले जाया जाने लगा पीड़िता की मां बेहोश हो गई। पड़ोसियों ने कहा कि शव पर लोट-लोट कर लगातार रोती मां कई बार बेहोश हुई।

सवेरे 6:15 बजे शव को जब एक एंबुलेंस में रखा जा रहा था तब मां ने रोते हुए गुजारिश की, ''मेरी बेटी को मत छुओ, और बेहोश हो गई।'' परिवार के सदस्यों और मित्रों ने होश में लाने के लिए चेहरे पर पानी के छींटे मारे। अचेत होने से पहले बार-बार दोहराती रही, ''मैं अपनी बेटी को अकेले नहीं छोड़ना चाहती, उसे मेरे पास रहने दो।''

 
 
 
अन्य खबरें
 
 
 
 
 
 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड