शनिवार, 30 मई, 2015 | 05:54 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    केजरीवाल को सुप्रीम कोर्ट और हाई कोर्ट का डबल झटका, एलजी ही करेंगे नियुक्ति   क्या दाऊद को जल्द भारत ला रही सरकार बीएमडब्ल्यू ने पेश किया ग्रान कूपे का नया मॉडल  चीन में आमिर का एलियन अवतार हुआ हिट चीन में आमिर का एलियन अवतार हुआ हिट सायना की हार के साथ भारतीय चुनौती समाप्त 26 लड़कियों से रेप के आरोपी टीचर को मौत की सजा दिल्ली एयरपोर्ट पर रेडियोएक्टिव पदार्थ लीक से मचा हड़कंप, काबू में लीकेज स्पेलिंग बी प्रतियोगिता में फिर से भारतीयों का बोलबाला सरकारी नौकरीः 400 से ज्यादा दसवीं पास से लेकर इंजीनियर तक वैकेंसी
लड़की के नाम पर संशोधित कानून के नामकरण पर विवाद
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:02-01-13 06:03 PMLast Updated:02-01-13 09:27 PM
Image Loading

दिल्ली में सामूहिक बलात्कार की शिकार लड़की के नाम पर संशोधित बलात्कार विरोधी कानून का नामकरण करने पर विवाद गहरा गया है। एक तरफ केंद्र ने जहां इसे स्थापित नियमों के खिलाफ बताया, वहीं कुछ संवैधानिक विशेषज्ञ इसे जायज बता रहे हैं।

सरकारी सूत्रों ने कहा कि इस तरह के नामकरण की कोई संभावना नहीं है, हालांकि कुछ तबकों से ऐसा करने के सुझाव आ रहे हैं।

बुधवार को खुद गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे ने सार्वजनिक तौर पर कहा कि किसी गैंगरेप पीड़िता के नाम पर कानून का नाम रखने का कोई प्रावधान भारत में नहीं है। दूसरी तरफ संविधान विशेषज्ञ सुभाष कश्यप ने एक खबरिया चैनल से बातचीत में कहा कि इस तरह का नामकरण किया जा सकता है।

गौरतलब है कि 1929 के चाइल्ड मैरेज रिस्ट्रेंट एक्ट के तहत लड़कियों की शादी की उम्र बढ़ाकर 14 और लड़कों की शादी की उम्र को 18 कर दिया गया था। खास बात यह है कि इस एक्ट को नाम राय साहब हरिबिलास सारदा के नाम पर सारदा एक्ट भी कहा गया जो लोगों में अधिक चर्चित हुआ,  क्योंकि उन्होंने इसकी पहल की थी।

न्यायमूर्ति (सेवानिवृत्त) वर्मा समिति की ओर से जनवरी के आखिर में रिपोर्ट दायर करने के बाद उसकी अनुशंसाओं के अनुसार नया कानून बनाया जाएगा। गृह मंत्रालय के अधिकारियों का कहना है कि भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) और दंड प्रक्रिया संहिता (सीआरपीसी) में किसी व्यक्ति के नाम पर किसी कानून का नामकरण करने के प्रावधान नहीं है।

एक अधिकारी ने कहा कि भारत में किसी व्यक्ति के नाम पर कोई कानून नहीं बनाया गया है। आईपीसी और सीआरपीसी में ऐसा करने का कोई प्रावधान नहीं है। मामले को राष्ट्रीय परिप्रेक्ष्य में देखने की जरूरत है।

कई लोगों के अलावा केंद्रीय मंत्री शशि थरूर ने मंगलवार को कहा था कि अगर लड़की के माता-पिता को कोई आपत्ति नहीं हो तो संशोधित कानून का नाम लड़की के नाम रखा जाना चाहिए।

उधर, सामूहिक बलात्कार की घटना को लेकर दिल्ली की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित और पुलिस आयुक्त नीरज कुमार के बीच आरोप-प्रत्यारोप के कारण खड़े विवाद की गृह मंत्रालय की ओर से की जा रही जांच अभी पूरी नहीं हुई है।

अधिकारी ने कहा कि हम इस जांच के जल्द पूरी होने की उम्मीद कर रहे हैं, लेकिन इस प्रक्रिया को लेकर कोई समयसीमा नहीं बताई जा सकती।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
Image Loadingअंतिम 11 में जगह मिलने की नहीं थी उम्मीद : सरफराज
इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में अपने प्रदर्शन से प्रभावित करने वाले रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर (आरसीबी) के सबसे युवा बल्लेबाज सरफराज खान का कहना है कि उन्हें क्रिस गेल, ए.बी. डीविलियर्स और विराट कोहली जैसे विध्वंसक बल्लेबाजों के बीच अंतिम 11 में जगह मिलने का यकीन नहीं था और नम्बर छह की बेहद महत्वपूर्ण स्थान पर मौका दिये जाने से उनका आत्मविश्वास सातवें आसमान पर है।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड