मंगलवार, 30 जून, 2015 | 04:38 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    PHOTO: सचिन ने खींची बेटी सारा के साथ सेल्फी, इंटरनेट पर हुई वायरल बांग्लादेश में जिसे धौनी ने प्लेइंग इलेवन से किया बाहर, BCCI ने उसी रहाणे को बनाया नया कप्तान जब 1200 पाकिस्तानी सैनिकों पर भारी पड़ा एक हिन्‍दुस्तानी, पढ़िए पूरी कहानी तिहाड़ में सुरंग: LG ने दिए जांच के आदेश, कैदी की भी तलाश जारी व्यापमं आरोपियों की मौत सामान्य, सीबीआई जांच की जरूरत नहीं: गौर आर्डिनेंस फैक्टरियों ने रक्षा मंत्रालय को उत्पादन घटने की चेतावनी दी लाफार्ज के मैनेजर की लापता पत्नी की लाश मिली मौके लेकर आएगी दूसरी कटऑफ जिम्बाब्‍वे दौरा: धोनी-विराट-रोहित को आराम, अजिंक्य रहाणे होंगे कप्तान, हरभजन की वनडे में वापसी IPL स्पॉट फिक्सिंग: श्रीसंथ मामले की सुनवाई 25 जुलाई तक स्थगित
रक्षा खरीद में कैग को मिली बड़ी खामियां
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:29-11-12 09:26 PMLast Updated:30-11-12 01:33 AM
Image Loading

देश के नियंत्रक एवं महालेखापरीक्षक (सीएजी) ने गुरुवार को कहा कि रक्षा खरीद में कुछ बड़ी खामियां हुई हैं, जो देश की रक्षा तैयारी पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकता है। संसद में पेश वायु सेना और नौसेना पर सीएजी की रिपोर्ट में कई खामियों की ओर इशारा किया गया। इन खामियों में रक्षा मंत्रालय द्वारा रडार वार्निग रिसीवर प्रणाली की खरीद और एकीकरण में देरी और नौसेना द्वारा अनुपयुक्त नेविगेशन कम्प्यूटर की खरीद शामिल है।

रिपोर्ट में ऐसी बड़ी खरीद की ओर इशारा किया गया है, जिसमें या तो देरी हुई या फिर वह अपना मकसद हासिल करने में कामयाब नहीं रहा। जहां तक 336 रडार वार्निग रिसीवर (आरडब्ल्यूआर) की खरीद की बात है, 521 करोड़ रुपये का निवेश करने के बाद भारतीय वायु सेना निर्धारित लक्ष्य हासिल नहीं कर पाई, क्योंकि एकीकृत आरडब्ल्यूआर के प्रदर्शन को असंतोषजनक पाया गया।

सीएजी ने कहा कि भारतीय नौसेना को करीब एक दशक पहले 167.64 करोड़ रुपये निवेश से कुछ महत्वपूर्ण लाभ नहीं मिला। यह पनडुब्बियों को काम पर लगाने की प्रणाली से सम्बंधित खरीददारी थी। रिपोर्ट में कहा गया, ‘रक्षा मंत्रालय (नौसेना) के एकीकृत मुख्यालय द्वारा एक क्रिटिकल टेस्ट सुविधा के निर्माण तथा एक उपकरण की खरीद में तालमेल नहीं बना पाने के कारण 10.72 करोड़ रुपये का जांच उपकरण तीन सालों से अधिक समय तक काम में नहीं लाया जा सका।’ सीएजी ने पैसे की कीमत वसूल करने के लिए रक्षा मंत्रलय और सेवाओं के मुख्यालय में फैसला लेने की प्रक्रिया में सुधार की जरूरत बताई।

 
 
 
अन्य खबरें
 
 
 
 
 
 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड