बुधवार, 26 नवम्बर, 2014 | 05:52 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    झारखंड में पहले चरण में लगभग 62 फीसदी मतदान  जम्मू-कश्मीर में आतंक को वोटरों का मुंहतोड़ जवाब, रिकार्ड 70 फीसदी मतदान  राज्यसभा चुनाव: बीरेंद्र सिंह, सुरेश प्रभु ने पर्चा भरा डीडीए हाउसिंग योजना का ड्रॉ जारी, घर का सपना साकार अस्थिर सरकारों ने किया झारखंड का बेड़ा गर्क: मोदी नेपाल में आज से शुरू होगा दक्षेस शिखर सम्मेलन  दक्षिण एशिया में शांति, विकास के लिए सहयोग करेगा भारत काले धन पर तृणमूल का संसद परिसर में धरना प्रदर्शन 'कोयला घोटाले में मनमोहन से क्यों नहीं हुई पूछताछ' दो राज्यों में प्रथम चरण के चुनाव की पल-पल की खबर
दारूल उलूम ने छात्रों से छीने कैमरे वाले मोबाइल फोन
मुजफ्फरनगर/नई दिल्ली, एजेंसी First Published:31-12-12 12:18 PM
Image Loading

देश की प्रमुख इस्लामी शिक्षण संस्था दारूल उलूम देवबंद के प्रबंधन ने मल्टीमीडिया मोबाइल पर रोक लगाने के अपने कदम के तहत छात्रावास में रहने वाले छात्रों से कैमरे वाले 14 फोन छीन लिए हैं।
   
संस्थान प्रबंधन ने छात्रों को चेतावनी दी है कि कैमरे वाले अथवा मल्टीमीडिया फोन रखने वाले छात्रों के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी।
   
दारूल उलूम देवबंद के उप कुलपति (नायब मोहतमिम) मौलाना अब्दुल खालिक ने कहा है कि कैमरे अथवा वीडियो क्लिप्स वाले मोबाइल रखने पर रोक लगाई गई है, ताकि बच्चों पर इसका कोई बुरा प्रभाव नहीं पड़े।
   
इस बारे में पूछे जाने पर दारूल उलूम के प्रवक्ता अशरफ उस्मानी ने कहा कि संस्थान के छात्रावास में कैमरे वाले अथवा मल्टीमीडिया फोन रखने पर रोक कोई नई बात नहीं है। यह फैसला मजहबी नजरिए से किया गया है।
   
उन्होंने इस कदम को जायज ठहराते हुए कहा कि यह फैसला बहुत लोगों को अजीब लगेगा, लेकिन हम ऐसा नहीं मानते। यह रोक इसलिए लगाई गई है, ताकि बच्चे तकनीक का बेजा इस्तेमाल नहीं कर सकें। हम बच्चों को मजहबी दायरे में रहकर शिक्षा हासिल करने और दीनी बातों पर अमल करने की तालीम देते हैं।

 
 
 
टिप्पणियाँ