ब्रेकिंग
उच्चतम न्यायालय द्वारा रद्द कोयला ब्लाकों की जमीन के अधिग्रहण के लिए सरकार की अध्यादेश लाने की योजना। प्रस्ताव पर मंत्रिमंडल में होगा विचार: सूत्र।
 
अकेले मां बच्चों को गोद नहीं दे सकती है: अदालत
नई दिल्ली, एजेंसी
First Published:09-12-12 01:43 PM
 imageloadingई-मेल Image Loadingप्रिंट  टिप्पणियॉ: (0) अ+ अ-

दिल्ली की एक अदालत ने कहा है कि पिता की सहमति के बगैर ही अकेले मां अपने बच्चों को गोद नहीं दे सकती है और कानून की नजर में ऐसा करना अवैध है।

अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश अनुराधा शुक्ला भारद्वाज ने पत्नी और नाबालिग पुत्री के लिए गुजारा भत्ते के आदेश को चुनौती देने वाली याचिका की सुनवाई के दौरान यह टिप्पणी की। इस व्यक्ति का कहना था कि उसकी पत्नी ने कथित रूप से बच्ची को दूसरे को गोद दे दिया है।

अदालत ने कहा कि यदि इस महिला ने किसी अन्य को बच्ची को गोद दे दिया है तो यह व्यक्ति इस कार्यवाही को चुनौती दे सकता है और अपनी पुत्री को वापस पा सकता है, लेकिन फिर उसे इसका लालन पालन करना होगा।

हिन्दू दत्तक और गुजारा भत्ता कानून के तहत हिन्दुओं में बच्चा गोद लेने से सबंधित कानून पर विचार करते हुये अदालत ने कहा कि यदि पिता जीवित है तो अकेले उसे ही बच्चा गोद देने का अधिकार प्राप्त है। अदालत ने कहा कि मां को स्वतंत्र रूप से बच्चों को किसी अन्य को गोद देने का अधिकार नहीं है और गोद देने की ऐसी प्रक्रिया कानून की नजर में अवैध है।

 
 imageloadingई-मेल Image Loadingप्रिंट  टिप्पणियॉ: (0) अ+ अ- share  स्टोरी का मूल्याकंन
 
टिप्पणियाँ
 

लाइवहिन्दुस्तान पर अन्य ख़बरें

आज का मौसम राशिफल
अपना शहर चुने  
धूपसूर्यादय
सूर्यास्त
नमी
 : 05:41 AM
 : 06:55 PM
 : 16 %
अधिकतम
तापमान
43°
.
|
न्यूनतम
तापमान
24°