रविवार, 26 अक्टूबर, 2014 | 13:10 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    एयर इंडिंया के कई पायलट खत्म लाइसेंस पर उड़ा रहे हैं विमान इराक में आईएस के ठिकानों पर अमेरिका के 23 हवाई हमले राजनाथ ने युवाओं से शांति और सौहार्द का संदेश फैलाने को कहा  शीतकालीन सत्र से पहले नए योजना निकाय का गठन कर सकती है सरकार  आज मोदी की चाय पार्टी में शामिल हो सकते हैं शिवसेना सांसद शिक्षिका ने की थी गोलीबारी रोकने की कोशिश नांदेड-मनमाड पैसेजर ट्रेन के डिब्बे में आग,यात्री सुरक्षित दिल्ली के त्रिलोकपुरी में हिंसा के बाद बाजार बंद, लगाया गया कर्फ्यू  मोदी की मौजूदगी में मनोहर लाल खट्टर ने ली मुख्यमंत्री पद की शपथ राजनाथ सोमवार को मुंबई में कर सकते हैं शिवसेना से वार्ता
बच्चे पर धर्म नहीं थोपा जा सकता: कोर्ट
मुंबई, एजेंसी First Published:08-12-12 05:15 PM
Image Loading

एक ईसाई पिता और हिंदू मां की संतान, तीन वर्षीय बच्ची की रोमन कैथोलिक के तौर पर परवरिश करने के लिए संरक्षण में देने के उसके पिता के परिवार के आग्रह को खारिज करते हुए बंबई उच्च न्यायालय ने व्यवस्था दी है कि बच्चे पर धर्म नहीं थोपा जा सकता।

बच्ची के पिता ने अपनी पत्नी की छुरा मार कर हत्या कर दी थी और अब वह जेल की सजा काट रहा है। बच्ची के पिता, उसकी बुआ और बच्ची के नाना ने उसके संरक्षण का जिम्मा लेने के लिए याचिकाएं दाखिल की थीं। पिता और बुआ का कहना है कि वह बच्ची की परवरिश रोमन कैथोलिक तरीके से करना चाहते हैं। उनके अनुसार, कैथोलिक रस्में पूरी करनी चाहिए और बच्ची की पढ़ाई कॉन्वेन्ट स्कूल में होनी चाहिए जहां उसे ईसाई धर्म के आदर्शों के बारे में बताया जाएगा।

न्यायमूर्ति रोशन दलवी ने अपनी व्यवस्था में कहा कि बच्ची पर कोई धर्म थोपा नहीं जा सकता और धर्म के मत से बच्ची को दूर रखना उसके ही हित में होगा ताकि उसका बचपन बिना किसी बंदिश और तनाव के रह सके। उन्होंने यह भी कहा कि बच्ची अपनी नाना नानी के परिवार में घुलमिल चुकी है और उसके संरक्षण में उसके पिता के कहने पर व्यवधान पहुंचाने का कोई कारण नहीं है।
 
 
 
टिप्पणियाँ