रविवार, 26 अक्टूबर, 2014 | 11:27 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    आज मोदी की चाय पार्टी में शामिल हो सकते हैं शिवसेना सांसद शिक्षिका ने की थी गोलीबारी रोकने की कोशिश नांदेड-मनमाड पैसेजर ट्रेन के डिब्बे में आग,यात्री सुरक्षित दिल्ली के त्रिलोकपुरी में हिंसा के बाद बाजार बंद, लगाया गया कर्फ्यू मनोहर लाल खट्टर आज मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे, मोदी होंगे शामिल राजनाथ सोमवार को मुंबई में कर सकते हैं शिवसेना से वार्ता नरेंद्र मोदी ने सफाई और स्वच्छता पर दिया जोर मुंबई में मोदी से उद्धव के मिलने का कार्यक्रम नहीं था: शिवसेना  कांग्रेस ने विवादित लेख पर भाजपा की आलोचना की केन्द्र ने 80 हजार करोड़ की रक्षा परियोजनाओं को दी मंजूरी
छत्तीसगढ़ में 11 आदिवासी लड़कियों के साथ बलात्कार
नई दिल्ली/कांकेर, एजेंसी/लाइव हिन्दुस्तान First Published:07-01-13 01:16 PMLast Updated:07-01-13 03:58 PM
Image Loading

छत्तीसगढ़ में कांकेर के एक हॉस्टल में 11 नाबालिग छात्राओं से बलात्कार का मामला सामने आया है। हॉस्टल के टीचर और चौकीदार पर बलात्कार करने का आरोप है।

सभी पीड़ित नाबालिग छात्राओं की उम्र 8 से 12 साल है। टीचर और चौकीदार पर दो साल तक दुष्कर्म करने का आरोप है। इस आरोप में एक टीचर और एक चौकीदार को पुलिस ने गिरफ्तार भी कर लिया है। मामले को दर्ज कर पुलिस ने जांच शुरू कर दी है।

छत्तीसगढ़ में नक्‍सल प्रभावित बस्‍तर क्षेत्र के कांकेर जिले के नरहरपुर ब्लॉक के झलियामारी गांव के एक कन्या आश्रम में 11 आदिवासी बच्चियों के साथ दुष्कर्म को अंजाम दिया जा रहा है। डर से यहां की छात्राएं इस बात को किसी को नहीं बता रहीं थीं। लेकिन जब मामला खुला, तब जाकर इस दुष्कर्म का खुलासा हुआ।

छत्तीसगढ़ के आदिवासी बहुल कांकेर जिले में 11 आदिवासी बच्चियों से बलात्कार का सनसनीखेज मामला सामने आने के बाद सत्ताधारी दल के सांसद नंद कुमार साय ने कहा है कि इस मामले में राज्यपाल अपने अधिकार का इस्तेमाल करें। उन्होंने कहा कि घटना की जितनी निंदा की जाए कम है।

उन्होंने अपनी ही सरकार के खिलाफ आवाज उठाते हुये कहा कि जनजातियों की सुरक्षा का अधिकार संविधान में राज्यपाल को दिए गए हैं। राज्यपाल अपने अधिकारों का क्यों इस्तेमाल नहीं करते?

पुलिस ने 11 आदिवासी छात्राओं के साथ पिछले कई साल से बलात्कार कर रहे शिक्षाकर्मी मन्नूराम गोटा और चौकीदार दीनानाथ को पकड़ा है। इसके अलावा आश्रम की अधीक्षिका बबीता मरकाम को भी निलंबित कर जांच शुरु की गई है।

पुलिस का कहना है कि दोनों आरोपी लंबे समय से आदिवासी बच्चियों के साथ बलात्कार कर रहे थे। बच्चियां डर के मारे इस बात को किसी से बता नहीं पा रही थीं।

शुक्रवार को बच्चियों ने बलात्कार की शिकायत महिला एवं बाल विकास अधिकारी को की। इसके बाद कलेक्टर अलरमेल मंगई डी ने तत्काल मामले की जांच की और शिकायत को सही पाया। इसके नरहरपुर थाने में शिक्षाकर्मी मन्नूराम गोटा और चौकीदार दीनानाथ के खिलाफ भादवि की धारा 376, 2ख एवं 34 के तहत मामला दर्ज किया गया।

स्कूल शिक्षा मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने घटना की निंदा करते हुए दो सदस्यीय जांच कमेटी बना दी है। जांच कमेटी में एसपी नीथू कमल और अनुसूचित जनजाति विभाग की शारदा वर्मा को शामिल किया गया है। मुख्यमंत्री डॉक्टर रमन सिंह ने दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने की बात कही है।
 
 
 
टिप्पणियाँ