शनिवार, 01 नवम्बर, 2014 | 14:32 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    आम आदमी की उम्मीदों को पूरा करे सरकार: शिवसेना वर्जिन का अंतरिक्ष यान दुर्घटनाग्रस्त, पायलट की मौत केंद्र सरकार के सचिवों से आज चाय पर चर्चा करेंगे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भाजपा आज से शुरू करेगी विशेष सदस्यता अभियान आयोग कर सकता है देह व्यापार को कानूनी बनाने की सिफारिश भाजपा की अपनी पहली सरकार के समारोह में दर्शक रही शिवसेना बेटी ने फडणवीस से कहा, ऑल द बेस्ट बाबा झारखंड में हेमंत सरकार से समर्थन वापसी की तैयारी में कांग्रेस अब एटीएम से महीने में पांच लेन-देन के बाद लगेगा शुल्क  पेट्रोल 2.41 रुपये, डीजल 2.25 रुपये सस्ता
छत्तीसगढ़ में 11 आदिवासी लड़कियों के साथ बलात्कार
नई दिल्ली/कांकेर, एजेंसी/लाइव हिन्दुस्तान First Published:07-01-13 01:16 PMLast Updated:07-01-13 03:58 PM
Image Loading

छत्तीसगढ़ में कांकेर के एक हॉस्टल में 11 नाबालिग छात्राओं से बलात्कार का मामला सामने आया है। हॉस्टल के टीचर और चौकीदार पर बलात्कार करने का आरोप है।

सभी पीड़ित नाबालिग छात्राओं की उम्र 8 से 12 साल है। टीचर और चौकीदार पर दो साल तक दुष्कर्म करने का आरोप है। इस आरोप में एक टीचर और एक चौकीदार को पुलिस ने गिरफ्तार भी कर लिया है। मामले को दर्ज कर पुलिस ने जांच शुरू कर दी है।

छत्तीसगढ़ में नक्‍सल प्रभावित बस्‍तर क्षेत्र के कांकेर जिले के नरहरपुर ब्लॉक के झलियामारी गांव के एक कन्या आश्रम में 11 आदिवासी बच्चियों के साथ दुष्कर्म को अंजाम दिया जा रहा है। डर से यहां की छात्राएं इस बात को किसी को नहीं बता रहीं थीं। लेकिन जब मामला खुला, तब जाकर इस दुष्कर्म का खुलासा हुआ।

छत्तीसगढ़ के आदिवासी बहुल कांकेर जिले में 11 आदिवासी बच्चियों से बलात्कार का सनसनीखेज मामला सामने आने के बाद सत्ताधारी दल के सांसद नंद कुमार साय ने कहा है कि इस मामले में राज्यपाल अपने अधिकार का इस्तेमाल करें। उन्होंने कहा कि घटना की जितनी निंदा की जाए कम है।

उन्होंने अपनी ही सरकार के खिलाफ आवाज उठाते हुये कहा कि जनजातियों की सुरक्षा का अधिकार संविधान में राज्यपाल को दिए गए हैं। राज्यपाल अपने अधिकारों का क्यों इस्तेमाल नहीं करते?

पुलिस ने 11 आदिवासी छात्राओं के साथ पिछले कई साल से बलात्कार कर रहे शिक्षाकर्मी मन्नूराम गोटा और चौकीदार दीनानाथ को पकड़ा है। इसके अलावा आश्रम की अधीक्षिका बबीता मरकाम को भी निलंबित कर जांच शुरु की गई है।

पुलिस का कहना है कि दोनों आरोपी लंबे समय से आदिवासी बच्चियों के साथ बलात्कार कर रहे थे। बच्चियां डर के मारे इस बात को किसी से बता नहीं पा रही थीं।

शुक्रवार को बच्चियों ने बलात्कार की शिकायत महिला एवं बाल विकास अधिकारी को की। इसके बाद कलेक्टर अलरमेल मंगई डी ने तत्काल मामले की जांच की और शिकायत को सही पाया। इसके नरहरपुर थाने में शिक्षाकर्मी मन्नूराम गोटा और चौकीदार दीनानाथ के खिलाफ भादवि की धारा 376, 2ख एवं 34 के तहत मामला दर्ज किया गया।

स्कूल शिक्षा मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने घटना की निंदा करते हुए दो सदस्यीय जांच कमेटी बना दी है। जांच कमेटी में एसपी नीथू कमल और अनुसूचित जनजाति विभाग की शारदा वर्मा को शामिल किया गया है। मुख्यमंत्री डॉक्टर रमन सिंह ने दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने की बात कही है।

 
 
 
टिप्पणियाँ