शुक्रवार, 04 सितम्बर, 2015 | 17:54 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
दिल्ली में लालू-मुलायम की बैठक खत्म, 5 सीटें मिलने से सपा नाराजअगले हफ्ते होगी बिहार चुनाव की घोषणा, पांच चरणों में होगा चुनावआरएसएस की बैठक में पहुंचे प्रधानमंत्री मोदीपटना में निषाद समुदाय के प्रदर्शन के दौरान हुआ लाठी चार्जअमरोहा में धरना स्थल पर अधिकारियों के न आने से भाकियू कार्यकर्ताओं ने गजरौला में दिल्ली लखनऊ हाईवे और दिल्ली लखनऊ रेल ट्रैक किया जामअमरोहा में धरना स्थल पर अधिकारियों के न आने से भाकियू कार्यकर्ताओं ने गजरौला में दिल्ली लखनऊ हाईवे और दिल्ली लखनऊ रेल ट्रैक किया जामदिल्ली में लालू और मुलायम की मुलाकातदिल्ली: पीएम 6 सितंबर को करेंगे बदरपुर से फरीदाबाद तक चलने वाली मेट्रो का शुभारंभदिल्ली: तीन दिन से गायब दो साल के बच्चे का शव घर में मिला, हत्या की आशंका
दुष्कर्म के अपराधियों को फांसी की सजा भी कम: रमन
रायपुर, एजेंसी First Published:08-01-2013 03:01:04 PMLast Updated:08-01-2013 03:34:07 PM
Image Loading

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह ने कहा है कि दुष्कर्म जैसे घिनौने अपराध करने वाले व्यक्तियों के लिए फांसी की सजा भी कम होगी और ऐसे लोगों को कठोर से कठोर सजा मिलनी चाहिए।
    
आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि राज्य के कांकेर जिले में आदिवासी कन्या छात्रावास की बच्चियों के साथ दुष्कर्म की घटना की मुख्यमंत्री रमन सिंह ने कठोर शब्दों में भर्त्सना की है। उन्होंने कहा है कि महिलाओं के साथ दुष्कर्म जैसे अपराध करने वाले व्यक्तियों के लिए फांसी की सजा भी कम होगी और ईश्वर भी उन्हें माफ नहीं करेंगे। उन्हें कठोर से कठोर दण्ड मिलना चाहिए।
    
सिंह ने कहा कि अगर इस प्रकार का अपराध शिक्षा जैसे पवित्र कार्य से जुड़ा कोई व्यक्ति कर रहा है, तो उसे शिक्षाकर्मी अथवा शिक्षक कहलाने का भी नैतिक अधिकार नहीं रह जाता है।
    
अधिकारियों ने बताया कि इस बीच मुख्यमंत्री के निर्देश पर जांच के बाद मामले में दोषी पाए गए व्यक्तियों के खिलाफ प्रशासनिक और पुलिस कार्रवाई भी तेज हो गई है। राज्य सरकार ने कांकेर के प्रभारी सहायक आयुक्त और नरहरपुर के विकास खण्ड शिक्षा अधिकारी को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है।
    
घटना की गंभीरता को देखते हुए राज्य शासन के निर्देश पर कांकेर की कलेक्टर अलरमेल मंगई डी़ ने प्रशासनिक जांच के बाद संबंधित आश्रम शाला के पांच कर्मचारियों को नौकरी से बर्खास्त कर दिया है। इनमें आश्रम शाला की अधीक्षिक के पद पर कार्यरत महिला शिक्षाकर्मी सहित एक पुरुष शिक्षाकर्मी तथा दैनिक वेतन पर कार्यरत एक चौकीदार, एक चपरासी और एक रसोईया शामिल है।

इस बीच, महिला एवं बाल विकास तथा समाज कल्याण मंत्री और कांकेर जिले की प्रभारी मंत्री लता उसेण्डी, कांकेर की विधायक सुमित्रा मारकोले, छत्तीसगढ़ राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग के अध्यक्ष यशवंत जैन, बस्तर राजस्व संभाग के कमिश्नर दुर्गेश चन्द्र मिश्र और कलेक्टर अलरमेल मंगई डी ने टना से संबंधित गांव में पहुंचकर आश्रम का दौरा किया।
    
उन्होंने बालिकाओं, उनके अभिभावकों और स्थानीय ग्रामीणों से टना के बारे में पूरी जानकारी ली। महिला एवं बाल विकास मंत्री ने अधिकारियों को आश्रम शाला की व्यवस्था सुधारने और बालिकाओं की सुरक्षा के बेहतर इंतजाम करने के निर्देश दिए।
    
अधिकारियों ने बताया कि कांकेर जिले की कलेक्टर ने आज जिले में सभी विभागों के कन्या आश्रमों और कन्या छात्रावासों के निरीक्षण के लिए महिला एवं बाल विकास विभाग की महिला अधिकारियों और आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की अलग-अलग निरीक्षण टीमों का गठन किया है। इन्हें 15 दिनों में प्रतिवेदन प्रस्तुत करने के निर्देश दिए गए हैं।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingपापा द्रविड़ के नक्शेकदम पर चला बेटा, दिखाया बल्ले का जौहर
द वॉल’ के नाम से मशहूर भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान राहुल द्रविड़ के बेटे ने भी अपने पिता के नक्शेकदम पर चलने का संकेत देते हुए स्कूल टीम को अपनी उम्दा बल्लेबाजी की बदौलत जीत दिला दी।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड Others
 
Image Loading

अलार्म से नहीं खुलती संता की नींद
संता बंता से: 20 सालों में, आज पहली बार अलार्म से सुबह-सुबह मेरी नींद खुल गई।
बंता: क्यों, क्या तुम्हें अलार्म सुनाई नहीं देता था?
संता: नहीं आज सुबह मुझे जगाने के लिए मेरी बीवी ने अलार्म घड़ी फेंक कर सिर पर मारी।