गुरुवार, 03 सितम्बर, 2015 | 05:19 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
न्यूज चैनल के खिलाफ कार्रवाई अस्वीकार्य: भाजपा
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:05-01-2013 05:21:17 PMLast Updated:05-01-2013 06:55:55 PM
Image Loading

पिछले महीने दिल्ली में चलती बस में सामूहिक बलात्कार की शिकार लड़की के मित्र और चश्मदीद गवाह से बातचीत को प्रसारित करने वाले समाचार चैनल के विरुद्ध मामला दर्ज करने की चेतावनी की भाजपा ने भर्त्सना की। पार्टी ने इसे प्रेस की आजादी पर प्रहार बताया है।

पार्टी के प्रवक्ता रविशंकर प्रसाद ने यहां कहा कि संबंधित चैनल के खिलाफ मामला दर्ज करने की दिल्ली पुलिस की घोषणा एक ऐसा आचरण है, जिसे किसी तरह भी स्वीकार नहीं किया जा सकता। यह अस्वीकार्य आचरण होने के साथ ही प्रेस की आजादी पर भी हमला है।

पीड़ित लड़की और उसके मित्र को अस्पताल पहुंचाने में बेवजह की देरी करने के लिए उन्होंने पुलिस की आलोचना की।

प्रसाद ने कहा कि वीभत्स घटना के बाद दोनों अर्ध-नग्न अवस्था में सड़क पर पड़े हुए थे और पीसीआर वाहनों के पुलिस कर्मी 25 मिनट तक आपस में यही तकरार करते रहे कि यह मामला किसके इलाके में आता है और कौन सी पीसीआर वैन पीडिम्तों को अस्पताल ले जाएगी।

भाजपा के निलंबित सदस्य और सांसद राम जेठमलानी ने दिल्ली पुलिस आयुक्त नीरज कुमार की इसलिए आलोचना की कि उन्होंने पीड़ितों के साथ पुलिस के इस व्यवहार की जांच नहीं करवाई और अस्पताल पहुंचाने में हुए विलंब की जवाबदेही तय नहीं की।

उन्होंने कहा कि यह खेद की बात है कि पीड़ित लड़की के मित्र के बताए जाने पर पुलिस के इस आचरण पर से पर्दा हटा है, जबकि हमें मालूम होना चाहिए था कि क्या हुआ, पुलिस आयुक्त क्या कर रहे थे, वह प्रदर्शनकारियों पर प्रहार कर रहे थे और जो किया जाना चाहिए था, उन्होंने वह नहीं किया।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingश्रीलंका में 22 साल बाद भारत ने टेस्ट सीरीज जीती
भारतीय क्रिकेट टीम ने सिंहलीज स्पोर्ट्स क्लब मैदान पर जारी तीसरे टेस्ट मैच के पांचवें दिन श्रीलंका को 117 रनों से हराया। इस जीत के साथ भारत ने 22 साल बाद टेस्ट सीरीज पर कब्जा कर इतिहास रचा।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड Others
 
Image Loading

मैथ नहीं जानते
टीचर-सोनू, तुम्हारे पापा ने 10 प्रतिशत के सालाना ब्याज पर 5000 रुपए कर्ज लिए। वे एक साल बाद कर्ज वापस करते हैं, बताओ वह कुल कितने पैसे वापस करेंगे?
सोनू-कुछ भी नहीं।
टीचर (गुस्से में)-तुम मैथ नहीं जानते।
सोनू-सर, मैं तो मैथ जानता हूं, पर आप मेरे पिताजी को नहीं जानते