शुक्रवार, 24 अक्टूबर, 2014 | 23:36 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    नरेंद्र मोदी की चाय पार्टी में नहीं शामिल होंगे उद्धव ठाकरे भूपेंद्र सिंह हुड्डा की बढ़ सकती हैं मुश्किलें  कालेधन पर राम जेठमलानी ने बढ़ाई सरकार की मुश्किलें जमशेदपुर से लश्कर का आतंकवादी गिरफ्तार  कोई गैर गांधी भी बन सकता है कांग्रेस अध्यक्ष: चिदंबरम भाजपा के साथ सरकार के लिए उद्धव बहुत उत्सुक: अठावले रांची : एंथ्रेक्स ने ली सात लोगों की जान, 8 गंभीर हालत में भर्ती भारत-पाक तनाव के लिये भारत जिम्मेदार : बिलावल भुट्टो अमेरिकी विदेश विभाग में पहली बार मनी दीवाली एनआईए प्रमुख ने बर्दवान विस्फोट की जांच का जायजा लिया
'फेमा संशोधन का दोनों सदनों से पारित होना आवश्यक'
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:03-12-12 02:13 PMLast Updated:03-12-12 02:14 PM
Image Loading

केंद्र सरकार के दावे को खारिज करते हुए मुख्य विपक्षी दल भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने सोमवार को कहा कि विदेशी मुद्रा प्रबंधन अधिनियम (फेमा) का संसद के दोनों सदनों से पारित होना आवश्यक है।

भाजपा की यह प्रतिक्रिया केंद्रीय संसदीय कार्य मंत्री कमलनाथ द्वारा एक टेलीविजन कार्यक्रम में यह कहे जाने के बाद आई है कि फेमा संशोधन का संसद के एक ही सदन से पारित होना काफी होगा।

भाजपा नेता एम. वेंकैया नायडू ने कहा कि यदि एक ही सदन से पारित हो जाना काफी है तो दो सदनों की आवश्यकता क्या है? यह संसद का अपमान है। संसद लोकसभा और राज्यसभा दोनों को मिलाकर बनता है। दोनों समान रूप से महत्वपूर्ण हैं। संसदीय कार्य मंत्री को संसद के बारे में कुछ जानकारी होनी चाहिए।

भाजपा ने केंद्र सरकार पर संसद में समर्थन जुटाने के लिए केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) का इस्तेमाल करने का आरोप लगाया।

नायडू ने कहा कि बंद दरवाजे की गतिविधियां हो रही हैं। उनके पास सीबीआई है। सीबीआई एक बार फिर सक्रिय है और सरकार के लिए समर्थन जुटाने की कोशिश कर रही है। हमारे पास इस बारे में जानकारी है।

कमलनाथ के इस दावे के बारे में पूछे जाने पर कि सरकार के पास संख्या बल है, नायडू ने कहा, ''यदि ऐसा है तो उन्होंने संसद का वक्त क्यों बर्बाद किया। फेमा पर मतदान उन सभी राजनीतिक पार्टियों के लिए अग्नि परीक्षा की तरह होगा, जिन्होंने खुदरा क्षेत्र में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) के खिलाफ भारत बंद में हिस्सा लिया था। इससे स्पष्ट हो जाएगा कि कौन कहां है?''

उल्लेखनीय है कि खुदरा क्षेत्र में एफडीआई की अनुमति के लिए फेमा में संशोधन आवश्यक है। यह संशोधन हालांकि भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा किया जाता है, लेकिन इसे संसद से सहमति मिलना आवश्यक है।
 
 
 
टिप्पणियाँ