बुधवार, 27 मई, 2015 | 17:19 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    आईसीसी टेस्ट रैंकिंग: कोहली दसवें स्थान पर बरकरार देश की आत्मा के खिलाफ जा रही है केंद्र सरकार: राहुल बिना बॉस वाली इस कंपनी के बारे में जानते हैं आप? मोदी सरकार पर मनमोहन सिंह का निशाना, कहा जनता का ध्यान भटका रही है केंद्र सरकार राजनाथ, सोनिया समेत 298 सांसदों ने नहीं खर्च की सांसद निधि यूपी: टल्ली होकर पटरी पर गिरे, रोकनी पड़ी ट्रेन मुस्लिम होने के कारण मुझसे खाली कराया गया घर: मिस्बाह कादरी 'समलैंगिकों के अड्डे बन गए हैं मदरसे, इन्हें बंद कर देना चाहिये'  39000 फुट की ऊंचाई पर गुल हुई विमान के इंजन की बिजली EXCLUSIVE: पूरे देश में कारों पर अब नहीं लगेगा टोल...!
सूर्यास्त के बाद महिलाओं को गिरफ्तार नहीं करे पुलिस: कोर्ट
मुंबई, एजेंसी First Published:26-12-12 09:42 AM
Image Loading

सूर्यास्त के बाद एक महिला को पकड़ने और गिरफ्तार करने पर पुलिस को कड़ी फटकार लगाते हुए बंबई उच्च न्यायालय ने महाराष्ट्र के पुलिस महानिदेशक और नगर पुलिस आयुक्त को कहा कि वह तमाम पुलिस थानों को ये निर्देश जारी करें कि सूर्यास्त के बाद और सूर्योदय से पहले किसी भी महिला को गिरफ्तार नहीं करें या हिरासत में नहीं लिया जाए।
     
न्यायमूर्ति ए एस ओका और न्यायमूर्ति शिंदे की खंडपीठ ने महाराष्ट्र के पुलिस महानिदेशक और नगर पुलिस आयुक्त को निर्देश दिया कि वे दो हफ्तों में निर्देश जारी कर तमाम पुलिस अधिकारियों को आपराधिक प्रक्रिया संहिता की धारा 64 (4) का पालन करें, जिसमें अपरिहार्य परिस्थितियों को छोड़ कर किसी भी अपराध में आरोपित किसी महिला को सूर्यास्त के बाद और सूर्योदय से पहले गिरफ्तार करने से मना किया गया है।
    
इस धारा के अनुसार, अगर पुलिस सूर्यास्त के बाद और सूर्योदय से पहले किसी महिला को गिरफ्तार करना चाहती है तो उसके लिए उसे किसी न्यायिक मजिस्ट्रेट से पूर्व अनुमति लेनी पड़ेगी जिसके अधिकार क्षेत्र में अपराध हुआ है या गिरफ्तारी की जानी है।
     
अदालत ने यह निर्देश भारती खंदहार की ओर से दायर एक याचिका की सुनवाई के क्रम में जारी किया। भारती को इलाहाबाद की एक अदालत की ओर से जारी एक गैर-जमानती वारंट के क्रम में माटुंगा पुलिस थाने ने गिरफ्तार किया था।
      
भारती को 13 जून 2007 को पुलिस उप निरीक्षक मारूति जाधव ने गिरफ्तार किया था। उसे माटुंगा पुलिस थाना लाया गया जहां उसे तीन घंटा बैठाया गया। उसके बाद एक अन्य पुलिस उपनिरीक्षक अनंत गुराव ने भारती की गिरफ्तारी दिखाने के लिए कागजी कार्रवाई की।
     
उसे दूसरे दिन एक मजिस्ट्रेट के सामने पेश किया गया, जिसने उसे जमानत पर रिहा कर दिया। रिहाई के बाद भारती ने थाना में अवैध रूप से रोके जाने और गिरफ्तारी पर जाधव और गुराव के खिलाफ कार्रवाई की मांग करते हुए पुलिस आयुक्त को पत्र लिखे।
     
जब भारती को पुलिस आयुक्त से कोई जवाब नहीं आया तो उसने उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
Image Loadingधौनी से कप्तानी के गुर सीखे : होल्डर
वेस्टइंडीज की वनडे टीम के युवा कप्तान जैसन होल्डर को लगता है कि चेन्नई सुपरकिंग्स के साथ बिताये गये दिनों में उन्हें किसी और से नहीं बल्कि भारत के सीमित ओवरों की टीम के कप्तान महेंद्र सिंह धौनी से कप्तानी के गुर सीखने को मिले थे।