शनिवार, 29 अगस्त, 2015 | 03:46 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
मोदी की PM पद की दावेदारी पर भाजपा में मतभेद
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:20-12-2012 12:05:56 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
Image Loading

गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी जहां राज्य में हैट्रिक लगाने की ओर बढ़ रहे हैं, वहीं उनकी पार्टी भाजपा ने इस बारे में कोई सीधा रुख स्पष्ट नहीं किया कि क्या वह अगले लोकसभा चुनाव में पार्टी के प्रधानमंत्री पद के दावेदार होंगे।
   
भाजपा के मुख्य प्रवक्ता रविशंकर प्रसाद ने कहा कि मोदी भाई हमेशा से भाजपा में एक महत्वपूर्ण नेता रहे हैं। हमारी पार्टी वंशवाद से नहीं चलती जिसमें कोई युवराज नेता हो। हम लोकतांत्रिक तरीके से काम करते हैं।
   
प्रसाद से सवाल किया गया था कि क्या गुजरात में लगातार तीसरी जीत दिलाने वाले मोदी अगले लोकसभा चुनाव में पार्टी के प्रधानमंत्री पद के दावेदार हो सकते हैं।
   
उन्होंने यह भी कहा कि भाजपा को इस बात का गर्व है कि उसमें प्रधानमंत्री बनने की क्षमता रखने वाले अनेक नेता हैं। उचित समय पर उम्मीदवार को चुना जाएगा।
   
प्रसाद ने कहा कि मोदी राज्य में ही नहीं बल्कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी अपने खिलाफ अनेक अभियानों के खिलाफ लड़ते रहे हैं। उन्होंने कहा कि इस चुनाव की सबसे खास बात यह है कि देश में जहां जाति के नाम पर इतना विभाजन है वहां एक नेता पूरी जनता की आकांक्षाओं के अनुएप पहचान बनाते हुए विजेता बनकर उभरा है।
   
प्रसाद ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के भाजपा के साथ जटिल रिश्तों के सवाल पर भी सीधा जवाब नहीं दिया। नीतीश हमेशा से राष्ट्रीय स्तर पर मोदी के बढ़ने के खिलाफ रहे हैं। प्रसाद ने कहा कि इस मुद्दे (मोदी और नीतीश के) पर अनेक बार चर्चा हुई है। हमारी (भाजपा और जदयू की) जड़ें बहुत मजबूत हैं और हमने अनेक चुनाव मिलकर लड़े हैं।
   
इस बारे में अन्य प्रश्नों को उन्होंने केवल अटकल कहकर खारिज कर दिया। प्रसाद ने कहा, हमें मोदी भाई की तीसरी जीत की खुशियां मनानी चाहिए।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingबारिश ने धोया पहले दिन का खेल, भारत 50/2
भारत और श्रीलंका के बीच तीसरे और आखिरी क्रिकेट टेस्ट के पहले दिन शुक्रवार को बारिश के कारण दो सत्र से अधिक का खेल नहीं हो सका जबकि भारत ने पहली पारी में दो विकेट पर 50 रन बनाए।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
 
Image Loading

जब जय की हुई जमकर पिटाई...
वीरू (जय से): कल तुझे मेरे मोहल्ले के दस लड़कों ने बहुत बुरी तरह पीटा। फिर तूने क्या किया?
जय: मैंने उन सभी से कहा कि कि अगर हिम्मत है, तो अकेले-अकेले आओ।
वीरू: फिर क्या हुआ?
जय: होना क्या था, उसके बाद उन सबने एक-एक करके फिर से मुझे पीटा।