शुक्रवार, 24 अक्टूबर, 2014 | 23:38 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    नरेंद्र मोदी की चाय पार्टी में नहीं शामिल होंगे उद्धव ठाकरे भूपेंद्र सिंह हुड्डा की बढ़ सकती हैं मुश्किलें  कालेधन पर राम जेठमलानी ने बढ़ाई सरकार की मुश्किलें जमशेदपुर से लश्कर का आतंकवादी गिरफ्तार  कोई गैर गांधी भी बन सकता है कांग्रेस अध्यक्ष: चिदंबरम भाजपा के साथ सरकार के लिए उद्धव बहुत उत्सुक: अठावले रांची : एंथ्रेक्स ने ली सात लोगों की जान, 8 गंभीर हालत में भर्ती भारत-पाक तनाव के लिये भारत जिम्मेदार : बिलावल भुट्टो अमेरिकी विदेश विभाग में पहली बार मनी दीवाली एनआईए प्रमुख ने बर्दवान विस्फोट की जांच का जायजा लिया
खुदरा क्षेत्र में एफडीआई राष्ट्रीय जरूरत: अश्विनी कुमार
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:06-12-12 03:27 PM

कानून मंत्री अश्विनी कुमार ने गुरुवार को राज्यसभा में कहा कि खुदरा क्षेत्र में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) 'राष्ट्रीय जरूरत' है। यह किसानों और छोटे व्यापारियों के लिए लाभदायक है।

राज्य सभा में बहु ब्रांड खुदरा क्षेत्र में एफडीआई को अनुमति देने के मुद्दे पर जारी बहस में उन्होंने कहा कि बहु ब्रांड खुदरा क्षेत्र में एफडीआई को अनुमति देना राष्ट्रीय जरूरत है.. देश की अर्थव्यवस्था का हर क्षेत्र इस नीति से लाभ में रहने वाला है। मंत्री ने कहा कि किसानों ने सरकार के इस कदम को समर्थन दिया है।

उन्होंने कहा, ''पंजाब में भारतीय किसान संघ ने हमारा साथ दिया है। महाराष्ट्र में स्वाभिमान शेतकारी संगठन ने हमें समर्थन दिया है। कोई भी किसान इस नीति के विरोध में सड़क पर नहीं गया है, क्योंकि उन्हें पता है कि आज या कल उन्हें इस नीति का लाभ मिलने ही वाला है।''

उन्होंने कहा कि हर साल 35 से 40 फीसदी फल और सब्जियां बर्बाद हो जाती है, किसानों को हर साल 65 हजार करोड़ रुपये तक का नुकसान होता है, क्योंकि आधारभूत संरचना और शीत भंडार सुविधा का अभाव है। उन्होंने कहा कि खुदरा क्षेत्र में एफडीआई आने पर उसका एक बड़ा हिस्सा इन अवसंरचनाओं पर खर्च होगा।

उन्होंने कहा, ''एक समय आता है, जब देश को अपने हित में कोई फैसला लेना होता है। हमें दलगत राजनीति से ऊपर उठना होगा। यह नीति देश का भविष्य तय करेगी।''
 
 
 
टिप्पणियाँ