शुक्रवार, 22 मई, 2015 | 23:07 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    9 अभिनेत्रियां जिनकी मौत आज भी है रहस्य कोयला घोटाला: जिंदल, राव, कोड़ा को जमानत पिछले एक साल में मोदी सरकार ने दुनिया भर में बढ़ाया भारत का मान: जेटली प्रकृति एवं पर्यावरण पर ग्रीष्मकालीन शिविर आईपीएल सट्टेबाजी केस में ईडी ने मारे छापे मतदाताओं के लिए आधार की अनिवार्यता पर माकपा को आपत्ति उपराज्यपाल जंग को मिलते हैं प्रधानमंत्री ऑफिस से निर्देश: केजरीवाल पीएफ का पैसा निकालने जा रहे हैं, तो पहले जरूर पढ़ें ये खबर आतंकवाद पर रक्षामंत्री मनोहर पर्रिकर ने दिखाया सख्त रुख आईपीएल: मैच ही नहीं, कप्तानी का भी मुकाबला
खुदरा क्षेत्र में एफडीआई राष्ट्रीय जरूरत: अश्विनी कुमार
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:06-12-12 03:27 PM

कानून मंत्री अश्विनी कुमार ने गुरुवार को राज्यसभा में कहा कि खुदरा क्षेत्र में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) 'राष्ट्रीय जरूरत' है। यह किसानों और छोटे व्यापारियों के लिए लाभदायक है।

राज्य सभा में बहु ब्रांड खुदरा क्षेत्र में एफडीआई को अनुमति देने के मुद्दे पर जारी बहस में उन्होंने कहा कि बहु ब्रांड खुदरा क्षेत्र में एफडीआई को अनुमति देना राष्ट्रीय जरूरत है.. देश की अर्थव्यवस्था का हर क्षेत्र इस नीति से लाभ में रहने वाला है। मंत्री ने कहा कि किसानों ने सरकार के इस कदम को समर्थन दिया है।

उन्होंने कहा, ''पंजाब में भारतीय किसान संघ ने हमारा साथ दिया है। महाराष्ट्र में स्वाभिमान शेतकारी संगठन ने हमें समर्थन दिया है। कोई भी किसान इस नीति के विरोध में सड़क पर नहीं गया है, क्योंकि उन्हें पता है कि आज या कल उन्हें इस नीति का लाभ मिलने ही वाला है।''

उन्होंने कहा कि हर साल 35 से 40 फीसदी फल और सब्जियां बर्बाद हो जाती है, किसानों को हर साल 65 हजार करोड़ रुपये तक का नुकसान होता है, क्योंकि आधारभूत संरचना और शीत भंडार सुविधा का अभाव है। उन्होंने कहा कि खुदरा क्षेत्र में एफडीआई आने पर उसका एक बड़ा हिस्सा इन अवसंरचनाओं पर खर्च होगा।

उन्होंने कहा, ''एक समय आता है, जब देश को अपने हित में कोई फैसला लेना होता है। हमें दलगत राजनीति से ऊपर उठना होगा। यह नीति देश का भविष्य तय करेगी।''

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
Image LoadingLIVE: चेन्नई ने 10 ओवर में 62 रन बनाए
चेन्नई सुपरकिंग्स ने इंडियन प्रीमियर लीग में शुक्रवार को रॉयल चैलेंजर्स बेंगलूर के खिलाफ 6 ओवर में एक विकेट खोकर 34 रन बना लिए थे।