शुक्रवार, 31 जुलाई, 2015 | 04:33 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    ना 'पाक' हरकतों से नहीं बाज आ रहा है पाकिस्तान, फिर किया सीजफायर का उल्लंघन, 1 जवान शहीद देश में केवल 17 व्यक्तियों पर 2.14 लाख करोड़ का कर बकाया  2022 तक आबादी में चीन को पीछे छोड़ देगा भारत  झारखंड में दिसंबर तक होगी 40 हजार शिक्षकों की नियुक्तियां महिन्द्रा सितंबर में पेश करेगी एसयूवी टीयूवी-300  नेपाल: भारी बारिश के बाद भूस्खलन, 13 महिलाओं समेत 33 की मौत, 20 से अधिक लापता पेट्रोल-डीजल के दामों में हो सकती है कटौती, 1 रुपये 50 पैसे तक घट सकते हैं दाम नागपुर की सेंट्रल जेल में 1984 के बाद पहली बार दी गई फांसी पढ़ें 1993 में हुए सीरियल बम ब्लास्ट से अब तक का घटनाक्रम निर्दोषों को आतंकी कहा जा रहा है, मैं धमाकों का जिम्मेदार नहीं: याकूब
सत्ता के लालची हैं अरविंद केजरीवाल: अन्ना हजारे
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:06-12-2012 02:35:23 PMLast Updated:06-12-2012 02:43:58 PM
Image Loading

भ्रष्टाचार के खिलाफ आंदोलन में दरार पड़ने के लिए अरविंद केजरीवाल की सत्ता की ललक को जिम्मेदार ठहराते हुए सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे ने गुरुवार को कहा कि वह आम आदमी पार्टी को वोट नहीं देंगे।
    
हजारे ने आरोप लगाया कि यह पार्टी अन्य की तरह सत्ता के जरिये धन और धन के जरिये सत्ता के रास्ते पर जा रही है। यह पूछे जाने पर कि क्या उनके पूर्व साथी केजरीवाल सत्ता के लालची हैं, हजारे ने कहा कि यह सही है।
    
उन्होंने कहा कि मैंने सोचा था कि मैं आम आदमी पार्टी के लिए मतदान करूंगा, लेकिन अब मेरे लिए ऐसा करना मुश्किल है क्योंकि यह देखा जा रहा है कि यह सत्ता के जरिये धन और धन के जरिये सत्ता के रास्ते में बढ़ रही है। मैं कहीं भी उसके आस पास नहीं हूं।
    
वह इस सवाल पर प्रतिक्रिया दे रहे थे कि क्या वह केजरीवाल द्वारा हजारे से अलग होने के बाद बनाई पार्टी आप को वोट देंगे। हजारे ने इससे पहले कहा कि जो भी पार्टी ईमानदार प्रत्याशियों को खड़ा करेगी, वह उसे समर्थन देंगे और अगर केजरीवाल केन्द्रीय मंत्री कपिल सिब्बल के खिलाफ चुनाव लड़ते हैं तो वह उनके लिए चुनाव प्रचार करेंगे।

यह पूछे जाने पर कि क्या केजरीवाल सत्ता के लालची हो गये हैं और क्या इसी कारण आंदोलन में दरार आई, हजारे ने कहा, यह सही है। पहले मैं सोचा करता था कि अरविंद निस्वार्थ सेवा में है। लेकिन मुझे समझ नहीं आता कि राजनीति में प्रवेश करने का विचार उसके दिमाग में कैसे आया।
    
वह एक सवाल पर इस बात पर सहमत हुए कि केजरीवाल की राजनीतिक महत्वाकांक्षा के कारण ही दरार आई। हजारे ने कहा कि व्यवस्था परिवर्तन के लिए स्वतंत्रता के बाद पहली बार आंदोलन चल रहा था। जनता बाहर आ रही थी। मुझे लगा कि अच्छा आंदोलन चल रहा है। ऐसी भावना थी कि इसका कुछ नतीजा आएगा। लेकिन उसी समय मुझे नहीं पता कि उसके दिमाग में यह विचार कैसे आया।
    
उन्होंने कहा कि व्यवस्था परिवर्तन की लड़ाई में एकता की जरूरत है और केजरीवाल, स्वामी रामदेव और अन्य सहित सभी भ्रष्टाचार के खिलाफ है।
    
उन्होंने कहा, यह का्रंति अभी पूरी नहीं हुई है। हमें एक साथ खड़ा होना होगा। हम सभी, रामदेव, अरविंद, सभी को मिलकर लड़ाई लड़नी चाहिए। नरेंद्र मोदी पर हजारे ने कहा कि गुजरात में काफी भ्रष्टाचार है और मुख्यमंत्री के तौर पर वह अपने राज्य में लोकायुक्त विधेयक नहीं लेकर आए हैं।
    
उन्होंने कहा कि वह विधेयक क्यों नहीं ला रहे हैं हर कोई सत्ता का उपयोग करके धन बना रहा है।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingपे टीएम ने बीसीसीआई से 2019 तक प्रायोजन अधिकार खरीदे
पे टीएम के मालिक वन97 कम्युनिकेशंस ने आज भारत में अगले चार साल तक होने वाले घरेलू और अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैचों के अधिकार 203.28 करोड़ रूप में खरीद लिए।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड