मंगलवार, 04 अगस्त, 2015 | 23:23 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    परिवार मोह में फंसकर लालू बन गए हैं नेता से नीतीश का पिछलग्गुः रामकृपाल  होंडा ने 7.30 लाख में पेश की सीबीआर-650  आतंकियों तक जाने वाले कालेधन के रूट पर कसेगी लगाम  बेनकाब हुआ पाक का नापाक चेहरा, पाकिस्तान में रची गई थी मुंबई अटैक की साजिश सीबीआई ने यादव सिंह के खिलाफ भ्रष्टाचार के दो मामले दर्ज किए  आरबीआई की नीतिगत दर में बदलाव नहीं, फिलहाल नहीं घटेगी ईएमआई  खुशखबरी...और सस्ता होने वाला है पेट्रोल और डीजल बॉस हो तो ऐसा, हर एक कर्मचारी को बोनस में दिए 1.6 करोड़ रुपये  पाकिस्तानी पत्रकार चांद नवाब का नया वीडियो वायरल, क्या आपने देखा  हॉकी: पहले टेस्ट मैच में भारत ने फ्रांस को 2-0 से हराया
सरकारों को गिरने का भय, विरोध प्रदर्शन का नहीं: अन्ना
भुवनेश्वर, एजेंसी First Published:01-12-2012 08:17:11 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
Image Loading

भारत के लोगों को उनकी शक्ति के बारे में जगरूक बनाने और संसद में जन लोकपाल विधेयक पारित करना सुनिश्चित करने की प्रतिबद्धता व्यक्त करते हुए अन्ना हजारे ने कहा कि सरकारों को केवल अपने गिरने का भय होता है। उन्होंने कहा कि सरकार को विरोध प्रदर्शन एवं धरना का नहीं।

हजारे ने यहां लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि सरकारें चाहे केंद्र में हो या राज्यों में, उन्हें केवल सत्ता जाने का भय होता है। उन्हें पता होता है कि लोग उन्हें गिरा सकते हैं। लोगों को समझना चाहिए कि वे ही असली मालिक है। मैं लोगों को उनके इन अधिकारों के बारे में जागरूक बनाने का काम करूंगा।

उन्होंने कहा कि जब तक लोग अपनी शक्ति का उपयोग नहीं करेंगे और सरकार पर दबाव नहीं बनायेंग़े़, तब तक सत्ता में बैठे लोग देश को भ्रष्टाचार से मुक्त बनाने के लिए कानून नहीं बनायेंगे।

हजारे ने कहा कि उन्होंने लोगों में जागरूकता फैलाने के लिए राष्ट्रव्यापी यात्रा करने की योजना बनाई है।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingतेंदुलकर ने मलिंगा की तारीफों के पुल बांधे
तेज गेंदबाज लसिथ मलिंगा की तारीफ करते हुए महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर ने आज कहा कि श्रीलंका का यह क्रिकेटर विश्व स्तरीय गेंदबाज है और उनके साथ इंडियन प्रीमियर लीग में खेलना शानदार अनुभव रहा।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
 
Image Loading

संता बंता और अलार्म

संता बंता से - 20 सालों में, आज पहली बार अलार्म से सुबह सुबह मेरी नींद खुल गई।

बंता - क्यों, क्या तुम्हें अलार्म सुनाई नहीं देता था?

संता - नहीं आज सुबह मुझे जगाने के लिए मेरी बीवी ने अलार्म घड़ी फेंक कर सिर पर मारी।