शुक्रवार, 28 अगस्त, 2015 | 07:43 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
सरकारों को गिरने का भय, विरोध प्रदर्शन का नहीं: अन्ना
भुवनेश्वर, एजेंसी First Published:01-12-2012 08:17:11 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
Image Loading

भारत के लोगों को उनकी शक्ति के बारे में जगरूक बनाने और संसद में जन लोकपाल विधेयक पारित करना सुनिश्चित करने की प्रतिबद्धता व्यक्त करते हुए अन्ना हजारे ने कहा कि सरकारों को केवल अपने गिरने का भय होता है। उन्होंने कहा कि सरकार को विरोध प्रदर्शन एवं धरना का नहीं।

हजारे ने यहां लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि सरकारें चाहे केंद्र में हो या राज्यों में, उन्हें केवल सत्ता जाने का भय होता है। उन्हें पता होता है कि लोग उन्हें गिरा सकते हैं। लोगों को समझना चाहिए कि वे ही असली मालिक है। मैं लोगों को उनके इन अधिकारों के बारे में जागरूक बनाने का काम करूंगा।

उन्होंने कहा कि जब तक लोग अपनी शक्ति का उपयोग नहीं करेंगे और सरकार पर दबाव नहीं बनायेंग़े़, तब तक सत्ता में बैठे लोग देश को भ्रष्टाचार से मुक्त बनाने के लिए कानून नहीं बनायेंगे।

हजारे ने कहा कि उन्होंने लोगों में जागरूकता फैलाने के लिए राष्ट्रव्यापी यात्रा करने की योजना बनाई है।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
 
Image Loading

जब पप्पू पहंचा परीक्षा देने...
अध्यापिका: परेशान क्यों हो?
पप्पू ने कोई जवाब नहीं दिया।
अध्यापिका: क्या हुआ, पेन भूल आये हो?
पप्पू फिर चुप।
अध्यापिका : रोल नंबर भूल गए हो?
अध्यापिका फिर से: हुआ क्या है, कुछ तो बताओ क्या भूल गए?
पप्पू गुस्से से: अरे! यहां मैं पर्ची गलत ले आया हूं और आपको पेन-पेंसिल की पड़ी है।