शुक्रवार, 28 अगस्त, 2015 | 18:11 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
पाकिस्तान के विदेश सचिव ने भारतीय उच्चायुक्त को तलब किया, संघर्ष विराम उल्लंघन के खिलाफ विरोध दर्ज कराया।
राष्ट्रपति के बेटे ने रंगी पुती कहने पर मांगी माफी
कोलकाता, नई दिल्ली, एजेंसी First Published:27-12-2012 11:34:47 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
Image Loading

राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी के पुत्र और सांसद अभिजीत मुखर्जी ने दिल्ली में सामूहिक बलात्कार की घटना का विरोध करने वाली महिला प्रदर्शनकारियों को बेहद रंगी पुती कहकर विवाद में फंसने के बाद माफी मांगी।

उनकी इस टिप्पणी की बेहद तीखी प्रतिक्रिया हुई है और इस टिप्पणी को लोगों ने सैक्सी करार दिया है। जांगीपुर से सांसद अभिजीत ने एक स्थानीय न्यूज चैनल से बातचीत में कहा था कि रैलियों में जो छात्रों के नाम पर आ रही हैं, सुंदर सुंदर महिलाएं बेहद रंगी पुती।

प्रणव मुखर्जी के राष्ट्रपति बनने के बाद जांगीपुर सीट खाली हुई थी और उसी सीट पर हुए उपचुनाव में अभिजीत जीते हैं । अभिजीत ने कहा कि टीवी में साक्षात्कार दे रही हैं और अपने बच्चों को दिखा रही हैं। मुझे हैरानी है कि क्या वे कहीं से भी छात्राएं हैं। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि वास्तव में दिल्ली में जो कुछ हो रहा है, वह गुलाबी क्रांति है जिसका जमीनी सच्चाइयों से बहुत अधिक वास्ता नहीं है।

उनकी इस असंवेदनशील टिप्पणी को लेकर तुरंत हंगामा खड़ा हो गया और उनकी बहन शर्मिष्ठा तक ने इस पर गहरा आघात और आक्रोश जताया तथा अपने भाई की ओर से माफी मांगी। अभिजीत ने बाद में खुद कहा कि वह इस टिप्पणी को लेकर बिना शर्त  माफी मांगते हैं और यदि पार्टी और जनता कहेगी तो वह लोकसभा सीट से इस्तीफा देने को भी तैयार हैं । महिला कार्यकर्ताओं की ओर से उनके इस्तीफे की मांग की जा रही है ।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingबारिश ने धोया पहले दिन का खेल, भारत 50/2
भारत और श्रीलंका के बीच तीसरे और आखिरी क्रिकेट टेस्ट के पहले दिन शुक्रवार को बारिश के कारण दो सत्र से अधिक का खेल नहीं हो सका जबकि भारत ने पहली पारी में दो विकेट पर 50 रन बनाए।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
 
Image Loading

जब जय की हुई जमकर पिटाई...
वीरू (जय से): कल तुझे मेरे मोहल्ले के दस लड़कों ने बहुत बुरी तरह पीटा। फिर तूने क्या किया?
जय: मैंने उन सभी से कहा कि कि अगर हिम्मत है, तो अकेले-अकेले आओ।
वीरू: फिर क्या हुआ?
जय: होना क्या था, उसके बाद उन सबने एक-एक करके फिर से मुझे पीटा।