रविवार, 01 फरवरी, 2015 | 18:42 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
दिल्ली को आगे बढ़ाना है तो भाजपा को पूर्ण बहुमत दीजिए : मोदीजहां झुग्गी होगी वहीं पक्का मकान बनाएंगे : मोदीशहर में ट्रफिक की समस्या का समाधान किरण बेदी करा देंगी : मोदीगरीबों को गरीब रखकर राजनीति हुई : मोदीचुनाव भी विकास के मु्द्दे पर लड़ता हूं और सरकार भी विकास के मुद्दे पर चलाता हूं : मोदीमेरे पास किताबी ज्ञान नहीं, लोगों की शक्ति की पहचान है : मोदीटीवी में जगह से सरकार नहीं चलती : मोदीयुवा देश का लाभ लेना मुझे आता है : मोदीअगर नसीबवाले से आपका पैसा बचता है तो बदनसीब की क्या जरूरत : मोदीमेरे नसीब से तेल-पेट्रोल सस्ता हुआ तो क्या बुरा है : मोदीआपने जो प्यार दिया अब मुझे वह ब्याज समेत लौटाना है : मोदीआंदोलन की आदत रखने वालों को सिर्फ टीवी में जगह चाहिए : मोदीदिल्ली को जिम्मेवार सरकार चाहिए : मोदीभागने से काम नहीं चलता, सरकार चलाना बड़ी जिम्मेदारी : मोदीरोज विरोधी सुबह उठकर सोचते हैं कि आज कौन सा झूठ फैलाया जाए : मोदीकांग्रेस-आप में झूठ बोलने की होड़ : मोदीकांग्रस-आप ने कुर्सी के लिए सौदा किया : मोदीहम समस्या दूर करने की सोचते हैं : मोदीदिल्ली से पानी का वादा पूरा किया : मोदीदिल्ली के द्वारका में पीएम मोदी ने रैली के दौरान कहा, मैं असली दिल्लीवाला हो गया हूंदिल्ली के द्वारका में पीएम मोदी की रैलीबीजेपी नफरत फैला रही है : सोनियाबीजेपी ने झूठे वादे किए, किसानों के सपने का क्या हुआ, काला धन वापस कहां आया : सोनियाहमने झुग्गीवालों को घर दिये : सोनियादिखावे की राजनीति करने वालों से सतर्क रहने की जरूरत : सोनियाबिहार के फारबिरगंज में काले झंडों के साथ अल्पसंख्यक समुदाय के हजारों लोगों ने किया प्रदर्शन, फांस की शार्ली एब्दो पत्रिका द्वारा पैगंबर मोहम्मद साहब का कार्टून छापने के विरोध में किया प्रदर्शन।
किफायती युवा ट्रेनों में जुड़ सकते हैं एसी-3 कोच
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:06-01-13 01:49 PMLast Updated:06-01-13 01:55 PM
Image Loading

आर्थिक रूप से किफायती युवा ट्रेन सेवा की आय बढ़ाने के मकसद से उसमें अतिरिक्त एसी-3 डिब्बे जोड़े जा सकते हैं। भारतीय रेल द्वारा ऐसी दो युवा ट्रेनों का परिचालन किया जा रहा है जिसमें एसी चेयर सुविधा है। इन ट्रेनों का परिचालन कोलकाता और मुंबई से दिल्ली के बीच किया जा रहा है।

रेल मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि ऐसी दो ट्रेन दो महत्वपूर्ण मार्गों पर चल रही हैं जिन पर पूरे साल भारी मांग होती है, लेकिन इसकी आय उम्मीद के मुताबिक नहीं रही है। भारत में प्रतिदिन करीब 10,500 ट्रेनें चलती हैं और मौजूदा वित्त वर्ष में भारतीय रेल को यात्री किराए से होने वाला घाटा 25 हजार करोड़ रुपये तक पहुंच गया है। अब रेल इस घाटे को कम करने की कोशिश कर रहा है। इसके तहत खर्च में कटौती के साथ कई कदम उठाए जा रहे हैं।

रेल अधिकारी ने कहा कि अतिरिक्त एसी-3 स्लीपर कोच को जोड़ने का विचार इसलिए आया क्योंकि लंबी यात्रा में यात्री इसे तवज्जो देते हैं। युवा ट्रेन फिलहाल बैठने की सुविधा ही मुहैया कराती है। अधिकारी ने कहा कि हम दोनों ट्रेन में एसी-3 टायर डिब्बे जोड़ने की योजना बना रहे हैं क्योंकि ये दोनों मार्ग यात्रियों की लिहाज से भारी मांग वाले होते हैं।

 
 
 
टिप्पणियाँ
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड