शनिवार, 25 अक्टूबर, 2014 | 11:03 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    अमेरिकी स्कूल में गोलीबारी में दो की मौत, चार घायल पाकिस्तान ने फिर किया संघर्ष विराम का उल्लंघन हुदहुद से आई टी क्षेत्र को भारी क्षति हुई है :रेड्डी  मिस्र में आतंकी हमले में 31 सैनिकों की मौत गूगल के अधिकारी ने हवा में गोताखोरी का बनाया विश्व रिकॉर्ड  चीन सीमा पर 54 चौकियां बनाएगा भारत, 175 करोड़ के पैकेज की घोषणा  बर्धवान के बम थे बांग्लादेश के लिए: एनआईए नरेंद्र मोदी की चाय पार्टी में नहीं शामिल होंगे उद्धव ठाकरे भूपेंद्र सिंह हुड्डा की बढ़ सकती हैं मुश्किलें  कालेधन पर राम जेठमलानी ने बढ़ाई सरकार की मुश्किलें
'आर्थिक माहौल मुश्किल, पर बीत जाएगा यह दौर'
मुंबई, एजेंसी First Published:28-12-12 08:26 PMLast Updated:28-12-12 11:45 PM
Image Loading

टाटा उद्योग समूह के चेयरमैन के पद से शुक्रवार को सेवानिवृत्त हुए प्रतिष्ठित उद्योगपति रतन टाटा ने कहा है कि फिलहाल देश कठिन आर्थिक दौर से गुजर रहा है, जो संभवत: अगले साल तक बना रहेगा। टाटा को उम्मीद है कि उसके बाद भारतीय अर्थव्यवस्था फिर रफ्तार पकड़ने लगेगी।

टाटा आज 75 साल के हो गए और देश के इस प्रमुख औद्योगिक घराने की लगभग 50 साल तक सेवा करने के बाद उन्होंने समूह की कमान 44 वर्षीय साइरस मिस्त्री को सौंपी। टाटा 21 साल चेयरमैन रहे। उन्होंने सहयोगियों के नाम विदाई पत्र में कहा है कि वे इस कठिन समय में सफलता हासिल करने के लिए पूरी प्रतिबद्धता और समर्पण भाव से कम करें।

पत्र में टाटा ने कंपनी के कर्मचारियों से कहा कि वे उन मूल्यों तथा नैतिक आदर्शों के अनुसार ही काम करें, जिन पर समूह का गठन हुआ है। रतन टाटा को मानद चेयरमैन नियुक्त किया गया है।

उन्होंने कहा कि मौजूदा साल में हमने जो कठिन आर्थिक वातावरण देखा है, वह संभवत: अगले साल तक जारी रहेगा। उन्होंने कहा कि हमें संभवत: उपभोक्ता मांग में कमी, अधिक क्षमता तथा आयात से बढ़ती प्रतिस्पर्धा को झेलना होगा।

टाटा ने कहा कि टाटा की कंपनियों पर कारोबारी प्रक्रिया के मामले में खुद के लिए अपनी नयी जगह बनानी होगी ताकि लागत में उल्लेखनीय कमी की जा सके। बाजार में ज्यादा आक्रामक बनना होगा और उपभोक्ताओं की जरूरतों को पूरा करने के लिए उत्पादों की सीरीज का विस्तार करना होगा।

 
 
 
 
टिप्पणियाँ