शुक्रवार, 04 सितम्बर, 2015 | 17:53 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
दिल्ली में लालू-मुलायम की बैठक खत्म, 5 सीटें मिलने से सपा नाराजअगले हफ्ते होगी बिहार चुनाव की घोषणा, पांच चरणों में होगा चुनावआरएसएस की बैठक में पहुंचे प्रधानमंत्री मोदीपटना में निषाद समुदाय के प्रदर्शन के दौरान हुआ लाठी चार्जअमरोहा में धरना स्थल पर अधिकारियों के न आने से भाकियू कार्यकर्ताओं ने गजरौला में दिल्ली लखनऊ हाईवे और दिल्ली लखनऊ रेल ट्रैक किया जामअमरोहा में धरना स्थल पर अधिकारियों के न आने से भाकियू कार्यकर्ताओं ने गजरौला में दिल्ली लखनऊ हाईवे और दिल्ली लखनऊ रेल ट्रैक किया जामदिल्ली में लालू और मुलायम की मुलाकातदिल्ली: पीएम 6 सितंबर को करेंगे बदरपुर से फरीदाबाद तक चलने वाली मेट्रो का शुभारंभदिल्ली: तीन दिन से गायब दो साल के बच्चे का शव घर में मिला, हत्या की आशंका
रिहा होंगे पाकिस्तानी वायरोलॉजिस्ट खलील चिश्ती
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:12-12-2012 02:18:00 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
Image Loading

सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को पाकिस्तानी वायरोलॉजिस्ट (वायरस एवं इससे होने वाली बीमारियों के विशेषज्ञ) मोहम्मद खलील चिश्ती को रिहा करने के आदेश दिए हैं। उन्हें वर्ष 1992 में एक हत्या के सिलसिले में आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई थी, जिसे उन्होंने सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी।

न्यायमूर्ति पी सतशिवम और रंजन गोगोई की पीठ ने कहा कि चिश्ती एक साल चार महीने की सजा भुगत चुके हैं और यह काफी है। निर्णय सुनाते हुए न्यायमूर्ति सतशिवम ने कहा कि चिश्ती बिनी किसी प्रतिबंध के अपने देश जाने के लिए स्वतंत्र हैं।

चिश्ती की उम्र और योग्यता को देखते हुए न्यायालय ने सम्बद्ध सरकारी विभाग को उन्हें बिना किसी परेशानी के पाकिस्तान भेजना सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। न्यायालय ने अपने पंजीकरण कार्यालय को भी ब्याज सहित पांच लाख रुपये चिश्ती को लौटाने के निर्देश दिए, जो उन्होंने मई, 2012 के आदेश के बाद जमा कराए थे।

सुप्रीम कोर्ट ने 10 मई को चिश्ती को पाकिस्तान के कराची में अपने घर जाने की अनुमति दी थी। उस वक्त उनकी अपील लम्बित थी। इसके बाद वह जल्द ही अजमेर लौट गए थे। सुप्रीम कोर्ट ने नौ अप्रैल को उन्हें जमानत दी थी। करीब 18 वर्ष चले मुकदमे के बाद उन्हें वर्ष 2010 में हत्या का दोषी करार दिया गया था।

चिश्ती को अप्रैल 1992 में अजमेर में सूफी संत ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती की दरगाह पर नमाज के दौरान झगड़े में एक व्यक्ति को जान से मार दिए जाने के लिए आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई थी।

 

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingपापा द्रविड़ के नक्शेकदम पर चला बेटा, दिखाया बल्ले का जौहर
द वॉल’ के नाम से मशहूर भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान राहुल द्रविड़ के बेटे ने भी अपने पिता के नक्शेकदम पर चलने का संकेत देते हुए स्कूल टीम को अपनी उम्दा बल्लेबाजी की बदौलत जीत दिला दी।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड Others
 
Image Loading

अलार्म से नहीं खुलती संता की नींद
संता बंता से: 20 सालों में, आज पहली बार अलार्म से सुबह-सुबह मेरी नींद खुल गई।
बंता: क्यों, क्या तुम्हें अलार्म सुनाई नहीं देता था?
संता: नहीं आज सुबह मुझे जगाने के लिए मेरी बीवी ने अलार्म घड़ी फेंक कर सिर पर मारी।