शनिवार, 01 नवम्बर, 2014 | 11:37 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    आम आदमी की उम्मीदों को पूरा करे सरकार: शिवसेना वर्जिन का अंतरिक्ष यान दुर्घटनाग्रस्त, पायलट की मौत केंद्र सरकार के सचिवों से आज चाय पर चर्चा करेंगे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भाजपा आज से शुरू करेगी विशेष सदस्यता अभियान आयोग कर सकता है देह व्यापार को कानूनी बनाने की सिफारिश भाजपा की अपनी पहली सरकार के समारोह में दर्शक रही शिवसेना बेटी ने फडणवीस से कहा, ऑल द बेस्ट बाबा झारखंड में हेमंत सरकार से समर्थन वापसी की तैयारी में कांग्रेस अब एटीएम से महीने में पांच लेन-देन के बाद लगेगा शुल्क  पेट्रोल 2.41 रुपये, डीजल 2.25 रुपये सस्ता
यात्री किराया बढ़ाने की तैयारी में रेलवे
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:23-12-12 02:59 PMLast Updated:23-12-12 05:16 PM
Image Loading

यात्री वर्ग में करीब 20,000 करोड़ रुपये के घाटे में चल रही रेलवे आगामी महीनों में किराया दरों में 5 से 10 पैसे प्रति किलोमीटर की वृद्धि चाहती है। इससे उसे 4,000 करोड़ रुपये का अतिरिक्त राजस्व जुटाने में मदद मिलेगी।

इस बीच, रेलवे द्वारा प्रस्तावित रेल शुल्क प्राधिकरण (आरटीए) के व्यापक पहलुओं को अंतिम रूप दिया जा रहा है। इसे कैबिनेट के समक्ष जनवरी में रखा जाएगा। रेल राज्यमंत्री केजे सूर्य प्रकाश रेड्डी ने कहा कि रेल बजट (2013-14) में यात्री किरायों में 5 से 10 पैसे प्रति किलोमीटर की वृद्धि हो सकती है। रेलवे की वित्तीय हालत ठीक नहीं है। हमें धन की जरूरत है। अन्यथा रेलवे को बचाना काफी कठिन होगा।

दूसरे रेल राज्यमंत्री अधीर रंजन चौधरी ने भी रेल किरायों में बढ़ोतरी की वकालत की है। उन्होंने कहा कि यात्री किरायों में तत्काल वृद्धि की जरूरत है, क्योंकि रेलवे की वित्तीय हालत काफी खस्ता है। इस साल रेलवे को यात्री खंड में 22,000 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है। पिछले साल की तुलना में उसका घाटा 4,000 करोड़ रुपये बढ़ा है।

हालांकि, रेलवे के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि इस बात का अभी निर्णय किया जाना है कि यात्री किरायों में बढ़ोतरी पहले की जाए या फिर इसकी घोषणा रेल बजट में की जाए। यह पूछे जाने पर कि रेल किरायों में बढ़ोतरी कितनी होगी, अधिकारी ने कहा कि यह 10 से 15 प्रतिशत के दायरे में नहीं होगी। पूर्व रेल मंत्री दिनेश त्रिवेदी ने पिछले साल रेल बजट में इतनी ही बढ़ोतरी का प्रस्ताव किया था।

रेलवे के प्रदर्शन की समीक्षा करते हुए प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) ने रेलवे बोर्ड के चेयरमैन से प्रस्तावित आरटीए पर अपनी सिफारिशों को 31 दिसंबर तक अंतिम रूप देने और सौंपने को कहा है। समझा जाता है कि आरटीए द्वारा यात्री किरायों में बढ़ोतरी की मात्रा तथा मालभाडे़ पर सुझाव दिए जाएंगे।

आरटीए की प्रगति के बारे में पूछे जाने पर रेल मंत्री पवन कुमार बंसल ने कहा कि हम आरटीए पर काम कर रहे हैं।

 
 
 
टिप्पणियाँ