बुधवार, 27 मई, 2015 | 17:20 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    आईसीसी टेस्ट रैंकिंग: कोहली दसवें स्थान पर बरकरार देश की आत्मा के खिलाफ जा रही है केंद्र सरकार: राहुल बिना बॉस वाली इस कंपनी के बारे में जानते हैं आप? मोदी सरकार पर मनमोहन सिंह का निशाना, कहा जनता का ध्यान भटका रही है केंद्र सरकार राजनाथ, सोनिया समेत 298 सांसदों ने नहीं खर्च की सांसद निधि यूपी: टल्ली होकर पटरी पर गिरे, रोकनी पड़ी ट्रेन मुस्लिम होने के कारण मुझसे खाली कराया गया घर: मिस्बाह कादरी 'समलैंगिकों के अड्डे बन गए हैं मदरसे, इन्हें बंद कर देना चाहिये'  39000 फुट की ऊंचाई पर गुल हुई विमान के इंजन की बिजली EXCLUSIVE: पूरे देश में कारों पर अब नहीं लगेगा टोल...!
मनमोहन अर्थव्यवस्था को राह पर लौटाने को प्रतिबद्ध
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:15-12-12 12:27 PMLast Updated:15-12-12 02:12 PM
Image Loading

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा है कि सरकार अर्थव्यवस्था को 8 से 9 प्रतिशत की ऊंची वृद्धि दर की राह पर लौटाने को प्रतिबद्ध है। उद्योग मंडल फिक्की की 85वीं आम बैठक को संबोधित करते हुए सिंह ने कहा कि हमने हाल में जो कदम उठाए हैं वे अर्थव्यवस्था में गति लाने के प्रयासों की शुरुआत है।

उन्होंने कहा कि इससे अर्थव्यवस्था को एक बार फिर से 8-9 प्रतिशत की ऊंची वृद्धि दर पर पहुंचाया जा सकेगा। उन्होंने कहा कि वैश्विक अर्थव्यवस्था संकट के दौर से गुजर रही है और घरेलू मोर्चे पर अत्यधिक निराशावाद से देश की वृद्धि की प्रक्रिया प्रभावित हो रही है।

सिंह ने उद्योग जगत के दिग्गजों को संबोधित करते हुए कहा कि मैं आपके समक्ष खड़ा होकर भरोसा दिलाता हूं कि सरकार नीतिगत माहौल में बदलाव, आर्थिक वृद्धि को रफ्तार देने तथा वृद्धि की प्रक्रिया को अधिक सामाजिक एवं क्षेत्रीय बनाने के लिए हरसंभव उपाय करने को प्रतिबद्ध है।

बीते वित्त वर्ष 2011-12 में आर्थिक वृद्धि दर घटकर 6.5 प्रतिशत पर आ गई, जो इसका 9 साल का निचला स्तर है। रिजर्व बैंक के अनुमान के अनुसार चालू वित्त वर्ष में आर्थिक वृद्धि दर 5.8 प्रतिशत रहेगी। 2008 के वैश्विक वित्तीय संकट से तीन साल पहले तक भारतीय अर्थव्यवस्था लगातार 9 प्रतिशत से अधिक की दर से बढ़ रही थी।

 

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
Image Loadingधौनी से कप्तानी के गुर सीखे : होल्डर
वेस्टइंडीज की वनडे टीम के युवा कप्तान जैसन होल्डर को लगता है कि चेन्नई सुपरकिंग्स के साथ बिताये गये दिनों में उन्हें किसी और से नहीं बल्कि भारत के सीमित ओवरों की टीम के कप्तान महेंद्र सिंह धौनी से कप्तानी के गुर सीखने को मिले थे।