रविवार, 05 जुलाई, 2015 | 23:01 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    लालू की हैसियत महुआ रैली में उजागर, नीतीश को पक्का मारेंगे लंगड़ीः पासवान एयरइंडिया के यात्री ने की खाने में मक्खी की शिकायत  फेसबुक ने 15 साल बाद मां-बेटे को मिलाया  व्हाट्सएप मैसेज से बवाल कराने वाला बीए का छात्र मोहित गिरफ्तार मुरादाबाद: नदी में पलटी जुगाड़ नाव, आठ डूबे, सर्च ऑपरेशन जारी यूपी के रामपुर में दो भाईयों की गोली मारकर हत्या, पुलिस जांच में जुटी बिहार के हाजीपुर में भारी मात्रा में विस्फोटक बरामद, छह गिरफ्तार झारखंड: चतरा के टंडवा में हाथियों ने कई घर तोड़े, खा गए धान बिहार में आंखों का अस्पताल बनाने के लिए इंडो-अमेरिकन्स का बड़ा कदम मुजफ्फरनगर के शुक्रताल में हजारों मछलियां मरीं, संत समाज बैठा धरने पर
म्यांमार में मिले स्वीडिश हथियार, भारत कर रहा जांच
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:15-12-12 02:25 PM
Image Loading

म्यांमार में स्वीडन निर्मित हथियार मिलने के मामले पर भारत गौर कर रहा है। कहा जाता है कि इन हथियारों की खरीद भारतीय सेना ने की थी।

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि स्वीडन ने हमारे समक्ष मुद्दा उठाया है। हम मामले को देख रहे हैं, लेकिन हमने म्यांमार में कभी कोई घातक हथियार नहीं भेजा।

इससे पूर्व स्टॉकहोम में स्वीडिश वाणिज्य मंत्री ईवा ब्जोर्लिंग ने कहा कि स्वीडन ने भारत से यह स्पष्ट करने को कहा है कि यूरोपीय संघ के प्रतिबंधों का उल्लंघन कर किस तरह स्वीडन निर्मित हथियार म्यांमार पहुंचे।

उनकी टिप्पणी स्वीडन की निर्यात नियंत्रण एजेंसी के इस बयान के बाद आई है कि वह हथियार पाए जाने के बारे में जांच कर रही है। ब्जोर्लिंग ने गुरुवार को स्वीडन की संसद में कहा था कि स्वीडन की अप्रसार एवं निर्यात नियंत्रण एजेंसी ने उन्हें सूचित किया है कि म्यांमार में पाए गए हथियार भारत से आए थे।

स्वीडिश मीडिया में इस हफ्ते के शुरू में प्रकाशित तस्वीरों में म्यांमार के सैनिकों द्वारा छोड़ी गई टैंक भेदी राइफल कार्ल गुस्ताफ एम3 एवं गोला बारूद दिखाया गया था। यूरोपीय संघ ने 1996 में म्यांमार के खिलाफ हथियार प्रतिबंध लगा दिए थे।

 

 
 
 
अन्य खबरें
 
 
 
 
 
 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड