शुक्रवार, 30 जनवरी, 2015 | 19:25 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
अमिता को पीजीआई लखनऊ भेजा गया था महिला के खून का नमूना, जांच में स्वाइन फ्लू की पुष्टिबरेली में स्वाइन फ्लू से पहली मौत की पुष्टि, राममूर्ति मेडिकल कालेज में हुई थी 24 जनवरी को सीबीगंज की अमिता उपाध्याय की मौतपाकिस्तान के शिकारपुर में ब्लास्ट, 20 लोगों की मौतयूपी: लखीमपुर खीरी के मैगलंगज में युवक की हत्या, ट्रैक्टर ट्रॉली पर फेंक दिया शव, गला दबाकर हत्या का आरोपबरेली : इंडियन वैटेनरी रिसर्च इंस्टीट्यूट (आईवीआरआई) और सेंट्रल एवियन रिसर्च इंस्टीट्यूट (सीएआरआई) में रेबीज का कहर, आवारा कुत्तों के काटने से कई वैज्ञानिक रेबीज की चपेट में, मारे गए कुत्तों के पोस्टमार्टम में रेबीज की पुष्टि
म्यांमार में मिले स्वीडिश हथियार, भारत कर रहा जांच
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:15-12-12 02:25 PM
Image Loading

म्यांमार में स्वीडन निर्मित हथियार मिलने के मामले पर भारत गौर कर रहा है। कहा जाता है कि इन हथियारों की खरीद भारतीय सेना ने की थी।

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि स्वीडन ने हमारे समक्ष मुद्दा उठाया है। हम मामले को देख रहे हैं, लेकिन हमने म्यांमार में कभी कोई घातक हथियार नहीं भेजा।

इससे पूर्व स्टॉकहोम में स्वीडिश वाणिज्य मंत्री ईवा ब्जोर्लिंग ने कहा कि स्वीडन ने भारत से यह स्पष्ट करने को कहा है कि यूरोपीय संघ के प्रतिबंधों का उल्लंघन कर किस तरह स्वीडन निर्मित हथियार म्यांमार पहुंचे।

उनकी टिप्पणी स्वीडन की निर्यात नियंत्रण एजेंसी के इस बयान के बाद आई है कि वह हथियार पाए जाने के बारे में जांच कर रही है। ब्जोर्लिंग ने गुरुवार को स्वीडन की संसद में कहा था कि स्वीडन की अप्रसार एवं निर्यात नियंत्रण एजेंसी ने उन्हें सूचित किया है कि म्यांमार में पाए गए हथियार भारत से आए थे।

स्वीडिश मीडिया में इस हफ्ते के शुरू में प्रकाशित तस्वीरों में म्यांमार के सैनिकों द्वारा छोड़ी गई टैंक भेदी राइफल कार्ल गुस्ताफ एम3 एवं गोला बारूद दिखाया गया था। यूरोपीय संघ ने 1996 में म्यांमार के खिलाफ हथियार प्रतिबंध लगा दिए थे।

 

 
 
 
टिप्पणियाँ
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड