सोमवार, 06 जुलाई, 2015 | 10:36 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    आयुध फैक्टरियों में 67 हजार पदों को भरने की प्रक्रिया जल्द होगी शुरू दिल्ली: सवा सौ साल पुराना जर्जर पुल अब बनेगा ऐतिहासिक विरासत खुशखबरी: वेस्ट यूपी में 500 जगहों को वाईफाई करेगा बीएसएनएल यूपी: चलती गाड़ी में छात्रा के साथ रेप के बाद रेलवे स्टेशन पर फेंका पहले दिया संवेदनहीन बयान, अब पत्रकार अक्षय के घर जाएंगे कैलाश विजयवर्गीय पत्रकार अक्षय के विसरा जांच एम्स में होगी, परिवार की मांग मंजूर अक्षय की मौत स्वाभाविक नहीं, व्यापमं गिरोह ने की हत्या: भूरिया पाकिस्तान ने किया संघर्षविराम का उल्लंघन, बीएसएफ जवान शहीद लालू की हैसियत महुआ रैली में उजागर, नीतीश को पक्का मारेंगे लंगड़ीः पासवान एयरइंडिया के यात्री ने की खाने में मक्खी की शिकायत
पालघर में शिव सेना के बंद का व्यापक असर
ठाणे, एजेंसी First Published:28-11-12 03:46 PM
Image Loading

महाराष्ट्र के पालघर और उसके आसपास के इलाके में दो पुलिस अधिकारियों के निलम्बन के विरोध में बुधवार को शिव सेना की ओर से किए गए बंद का व्यापक असर देखा गया। इन दो अधिकारियों ने बाल ठाकरे के निधन पर फेसबुक पर प्रतिक्रिया देने वाली दो लड़कियों को गिरफ्तार किया था।

पालघर की दो लड़कियों शाहीन डाढा और उसकी मित्र रेणु श्रीनिवासन ने ठाकरे के निधन पर 17 नवम्बर और उसके अगले दिन मुम्बई के बंद होने पर सवाल उठाया था। सवाल उठाए जाने पर इन्हें दो पुलिसकर्मियों ने गिरफ्तार कर लिया था और फिर इन अधिकारियों को निलम्बन का सामना करना पड़ा।

स्थानीय निवासी जीआर पाटिल के मुताबिक इस बंद की वजह से दो लाख जनसंख्या वाले इस शहर के सार्वजनिक वाहन, व्यापार और व्यवसाय पर खासा असर पड़ा है। इन दोनों लड़कियों के फेसबुक पर प्रतिक्रिया जाहिर करने के बाद शिवसेना कार्यकर्ताओं ने उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया था साथ ही शाहीन के चाचा के अस्पताल में तोड़-फोड़ की थी।

इस घटना पर देश भर में फैले आक्रोश के बाद महाराष्ट्र के गृहमंत्री आरआर पाटिल ने मामले की जांच के आदेश दे दिए थे जिसके परिणामस्वरुप इन दो पुलिसकर्मियों को निलम्बित किया गया था।

पाटिल ने पत्रकारों से कहा कि कोंकण इलाके के पुलिस महानिरीक्षक सुखविंदर सिंह द्वारा रिपोर्ट प्रस्तुत करने के बाद ठाणे के पुलिस अधिक्षक रविंद्र सेंगाओंकार को निलम्बित कर दिया गया और विभागीय जांच शुरू कर दी गई।

उन्होंने कहा कि इसी तरह, पालघर के पुलिस प्रमुख वरिष्ठ निरीक्षक श्रीकांत पिंगले को भी निलम्बित कर विभागीय जांच के आदेश दे दिए गए। जांच-पड़ताल में किसी भी तरह के पक्षपात से बचने के लिए इस मामले को पालघर से 15 किलोमीटर दूर ठाणे जिले में स्थित बाइसार पुलिस थाने में स्थानांतरित कर दिया गया है।

 

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड