शनिवार, 25 अक्टूबर, 2014 | 12:31 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
समारोह में बीजेपी नेता अमित शाह भी मौजूदप्रधानमंत्री ने सफाई अभियान में मदद के लिये की तारीफआजादी के बाद माहौल बन गया था कि सब सरकार करेगी, लेकिन अब सब मिलकर करेंगे: मोदीजितना स्वास्थ्य जरूरी उतना ही स्वास्थ्य के लिये जागरुकता : मोदीमोदी ने कहा, सफाई राष्ट्रीय कर्तव्य हैबीजेपी के दीवाली समारोह में पीएम मोदीपत्रकारों से कहा, आपसे काफी दोस्ताना रिश्ता रहा हैमैं भी आपके लिये कुर्सियां लगाता था : मोदीमोदी : कभी कभार आपसे दृष्टी भी मिलती है
कांग्रेस ने मोदी को कठघरे में किया खड़ा
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:03-12-12 06:55 PMLast Updated:03-12-12 08:17 PM
Image Loading

कांग्रेस ने गुजरात में 2003 में गैस ब्लॉक के आवंटन के मामले में मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी को कठघरे में खड़ा करते हुए जानना चाहा है कि जिस जियो ग्लोबल कंपनी के प्रमुख ज्यां पाल राय को छप्पर फाड़कर लाभ पहुंचाया गया वह शख्स कौन है और मॉरीशस की जिस कंपनी को फायदा पहुंचा वह किसकी है।

सूचना एवं प्रसारण राज्य मंत्री मनीष तिवारी ने मंत्री पद संभालने के बाद पहली बार सोमवार को पार्टी के मंच पर पहुंचकर गुजरात में गैस दोहन के मामले में हुए खुलासे को लेकर कई सवाल उठाए, लेकिन उन्होंने इसके बारे में कोई जांच की मांग करने या अपनी तरफ से कोई आरोप लगाने से इनकार कर दिया।

उनका कहना था कि हम मुख्यमंत्री को अपनी बात रखने का मौका देना चाहते हैं। हम अपनी ओर से कोई आरोप नहीं लगा रहे हैं। एक रिपोर्ट सामने आई है और उसे हम सार्वजनिक मंच से उठाकर मुख्यमंत्री से जवाब की अपेक्षा कर रहे हैं।

एक साप्ताहिक पत्रिका में छपी रिपोर्ट का हवाला देते हुए तिवारी ने कहा कि बारबाडोस की एक कंपनी जियो ग्लोबल के साथ गुजरात स्टेट पेट्रोलियम कापरेरेशन ने संयुक्त उपक्रम बनाया और 20 अरब डॉलर की अनुमानित लागत वाले गैस ब्लॉक से दोहन के लिए कंपनी को दस प्रतिशत शेयर पूंजी दे दी। बाद में जियो ग्लोबल को अपनी पांच प्रतिशत पूंजी मॉरीशस की एक कंपनी को बेचने की अनुमति दे दी गई।

यह पूछने पर कि अब नरेंद्र मोदी सरकार के सिर्फ बीस दिन बाकी हैं और पार्टी तब तक इंतजार क्यों नहीं कर लेती। तिवारी ने कहा कि गुजरात में पिछले दस साल से एक ही पार्टी का और एक ही मुख्यमंत्री का शासन है। ऐसे में मोदी ही इन सवालों का जवाब दे सकते हैं।
 
 
 
टिप्पणियाँ