शुक्रवार, 31 अक्टूबर, 2014 | 23:16 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
विद्या प्रकाश ठाकुर ने भी राज्यमंत्री पद की शपथ लीदिलीप कांबले ने ली राज्यमंत्री पद की शपथविष्णु सावरा ने ली मंत्री पद की शपथपंकजा गोपीनाथ मुंडे ने ली मंत्री पद की शपथचंद्रकांत पाटिल ने ली मंत्री पद की शपथप्रकाश मंसूभाई मेहता ने ली मंत्री पद की शपथविनोद तावड़े ने मंत्री पद की शपथ लीसुधीर मुनघंटीवार ने मंत्री पद की शपथ लीएकनाथ खड़से ने मंत्री पद की शपथ लीदेवेंद्र फडणवीस ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली
राज ठाकरे के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी के लिए गिरफ्तार किशोर रिहा
मुम्बई, एजेंसी First Published:29-11-12 11:50 AMLast Updated:29-11-12 11:56 AM
Image Loading

मनसे प्रमुख राज ठाकरे के खिलाफ फेसबुक पर आपत्तिजक टिप्पणी करने के लिए महाराष्ट्र के ठाणे जिले में गिरफ्तार 19 वर्षीय एक किशोर को पुलिस ने आज यह बात सामने आने पर रिहा कर दिया कि कुछ लोगों ने इसके लिए उसके नाम से फर्जी अकाउंट बनाया।  
    
पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि सुनील विश्वकर्मा इस मामले में हमसे सहयोग कर रहा है और उन्हें कल प्रारंभिक पूछताछ के बाद जाने दिया गया। वह किसी भी तरह से इस मामले में शामिल नहीं है।
    
ठाणे जिले में पुलिस ने किशोर को उस समय पकड़ा था जब यह शिकायत मिली कि उसने सोशल नेटवर्किंग साइट पर राज ठाकरे के खिलाफ कुछ आपत्तिजनक टिप्पणी की है। पुलिस के अनुसार अज्ञात व्यक्ति या व्यक्तियों ने किशारे के नाम पर एक फर्जी अकाउंट का इस्तेमाल किया था। इस मामले की जांच की जा रही है।
    
पालघर में शिवसेना प्रमुख बाल ठाकरे के निधन और उनके अंतिम संस्कार के दिन मुम्बई बंद रहने की आलोचना करते हुए फेसबुक पर टिप्पणी करने के लिए दो लड़कियों को गिरफ्तारी करने वाले दो पुलिस अधिकारियों के निलंबन के बाद पुलिस इस मामले में सावधानी बरत रही है।
    
पालघर पुलिस थाने के एक अधिकारी ने कल रात बताया कि किशोर पर आरोप नहीं बनाया गया है और पुलिस ने इस मामले में कानूनी राय मांगी है। मनसे की ठाणे (ग्रामीण) इकाई के अध्यक्ष कुंदन सांखे ने दावा किया कि किशोर ने राज ठाकरे और महिलाओं सहित महाराष्ट्र के लोगों के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणियां की थीं। 
    
देर रात ठाणे के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक एस निशंदर ने बताया कि जांच के अनुसार कुछ अज्ञात व्यक्तियों ने फर्जी ईमेल अकाउंट बनाया और उसके नाम से ठाकरे और मराठियों के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी की। विश्वकर्मा ने अपना खाता आखिरी बार सोमवार को खोला था, जबकि फर्जी एकाउंट पर टिप्पणी अगले दिन डाली गई।

 
 
 
टिप्पणियाँ