गुरुवार, 02 जुलाई, 2015 | 10:51 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    ललित मोदी ने बीजेपी नेता सुधांशु मित्तल पर लगाए हवाला कारोबारी से संबंधों के आरोप मोदी के विजय रथ को रोकना कांग्रेस के लिए असंभव: हंसराज भारद्वाज  किरण रिजिजु के लिए तीन यात्रियों को एयर इंडिया की फ्लाइट से उतारा ये सिफारिशें मानी गईं तो डबल हो जाएगी सांसदों की सैलेरी, पेंशन में होगी 75% बढ़ोत्तरी RSS की सलाह, भूमि बिल पर सहयोगी दलों से बातचीत करे सरकार  भैंस और मुर्गियों के बाद अब यूपी पुलिस को है 'चुड़ैल' की तलाश यूपी: नौकरी का झांसा देकर छात्रा के साथ किया रेप, बनाया वीडियो ललित मोदी मामला: इन नए खुलासों से कांग्रेस और बीजेपी दोनों परेशान अब मोबाइल फोन से डायल हो सकेगा लैंडलाइन नंबर गोद से गिरी बच्ची, बचाने के लिए मां भी चलती ट्रेन से कूदी
गुजराल ने भारतीय राजनीति में अमिट छाप छोड़ी: अश्विनी
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:30-11-12 05:10 PM

केन्द्रीय कानून मंत्री अश्विनी कुमार ने पूर्व प्रधानमंत्री इंद्र कुमार गुजराल के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है और उन्हें मूल्यों की राजनीति करने वाला भारत का सपूत बताया है।

कुमार ने संसद भवन परिसर में अपने शोक संदेश में कहा कि गुजराल जंगे आजादी के सिपाही थे और उन्होंने भारतीय राजनीति में अपनी छाप छोड़ी थी। वह न केवल ऊंचे दर्जे के राजनयिक थे, बल्कि पढ़ने-लिखने में भी काफी रुचि रखते थे तथा मूल्यों की राजनीति करते थे और देश की चिंता करते थे।

उन्होंने कहा कि गुजराल ने भारत की विदेश नीति में भी काफी योगदान दिया था, विशेषकर रूस के साथ भारत के संबंधों को मजबूत बनाने में। इसके अलावा गुटनिरपेक्ष आंदोलन में भारत की भूमिका में भी उनका योगदान अविस्मरणीय है।

प्रधानमंत्री कार्यालय में राज्य मंत्री वी. नारायणसामी ने भी अपने शोक संदेश में गुजराल को एक विद्वान नेता बताते हुए कहा कि संयुक्त मोर्चा सरकार में घटक दलों को साथ लेकर चलने में उन्होंने अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। वे भारतीय राजनीति में ईमानदारी तथा मूल्यों के पक्षधर थे।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड