रविवार, 26 अक्टूबर, 2014 | 09:54 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    दिल्ली के त्रिलोकपुरी में हिंसा के बाद बाजार बंद, लगाया गया कर्फ्यू मनोहर लाल खट्टर आज मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे, मोदी होंगे शामिल राजनाथ सोमवार को मुंबई में कर सकते हैं शिवसेना से वार्ता नरेंद्र मोदी ने सफाई और स्वच्छता पर दिया जोर मुंबई में मोदी से उद्धव के मिलने का कार्यक्रम नहीं था: शिवसेना  कांग्रेस ने विवादित लेख पर भाजपा की आलोचना की केन्द्र ने 80 हजार करोड़ की रक्षा परियोजनाओं को दी मंजूरी  कांग्रेस नेता शशि थरूर शामिल हुए स्वच्छता अभियान में हेलमेट के बगैर स्कूटर चला कर विवाद में आए गडकरी  नस्ली घटनाओं पर राज्यों को सलाह देगा गृह मंत्रालय: रिजिजू
गुजराल ने भारतीय राजनीति में अमिट छाप छोड़ी: अश्विनी
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:30-11-12 05:10 PM

केन्द्रीय कानून मंत्री अश्विनी कुमार ने पूर्व प्रधानमंत्री इंद्र कुमार गुजराल के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है और उन्हें मूल्यों की राजनीति करने वाला भारत का सपूत बताया है।

कुमार ने संसद भवन परिसर में अपने शोक संदेश में कहा कि गुजराल जंगे आजादी के सिपाही थे और उन्होंने भारतीय राजनीति में अपनी छाप छोड़ी थी। वह न केवल ऊंचे दर्जे के राजनयिक थे, बल्कि पढ़ने-लिखने में भी काफी रुचि रखते थे तथा मूल्यों की राजनीति करते थे और देश की चिंता करते थे।

उन्होंने कहा कि गुजराल ने भारत की विदेश नीति में भी काफी योगदान दिया था, विशेषकर रूस के साथ भारत के संबंधों को मजबूत बनाने में। इसके अलावा गुटनिरपेक्ष आंदोलन में भारत की भूमिका में भी उनका योगदान अविस्मरणीय है।

प्रधानमंत्री कार्यालय में राज्य मंत्री वी. नारायणसामी ने भी अपने शोक संदेश में गुजराल को एक विद्वान नेता बताते हुए कहा कि संयुक्त मोर्चा सरकार में घटक दलों को साथ लेकर चलने में उन्होंने अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। वे भारतीय राजनीति में ईमानदारी तथा मूल्यों के पक्षधर थे।
 
 
 
टिप्पणियाँ