शनिवार, 04 जुलाई, 2015 | 01:48 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    फिल्म देखने से पहले पढ़ें 'गुड्डू रंगीला' का रिव्यू फिल्म रिव्यू: टर्मिनेटर जेनेसिस पूर्व रॉ प्रमुख के खुलासे के बाद सरकार पर हमलावर हुई कांग्रेस, PM से की माफी की मांग झारखंड: मेदिनीनगर के हुसैनाबाद में ओझा-गुणी की हत्या हजारीबाग के पदमा में दो गुटों में भिड़ंत, आधा दर्जन घायल गुमला में बाइक के साथ नदी में गिरा सरकारी कर्मी, मौत हेमा मालिनी के ड्राइवर को कुछ ही घंटों में मिली जमानत, बच्ची की मौत से हेमा दुखी झारखंड के चाईबासा में रिश्वत लेते दारोगा रंगे हाथ गिरफ्तार झारखंड: हजारीबाग में पिता ने अबोध बेटी को पटक कर मार डाला जमशेदपुर में स्कूल वाहन चालक हड़ताल पर, अभिभावक परेशान
कमलनाथ ने कहा, झूठे हैं विपक्ष के दावे
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:02-12-12 11:26 AMLast Updated:02-12-12 02:24 PM
Image Loading

संसदीय कार्य मंत्री कमलनाथ ने विपक्ष के दावे को झूठा बताते हुए कहा है कि खुदरा क्षेत्र में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) से संबंधित विदेशी विनिमय प्रबंधन अधिनियम (फेमा) अधिसूचना को संसद के केवल एक ही सदन की मंजूरी की जरूरत है।

विपक्ष का कहना है कि राज्यसभा से मंजूरी नहीं मिलने पर फैसला लागू नहीं किया जा सकता, जहां संप्रग के पास बहुमत नहीं है। कमलनाथ ने कहा कि एक सदन से पारित होने पर यह पारित हो जाएगा। इसे दोनों सदनों से पारित कराने की आवश्यकता नहीं है। यही नियमों में निहित है।

माकपा नेता सीताराम येचुरी ने कहा था कि बहु ब्रांड खुदरा क्षेत्र में 51 प्रतिशत एफडीआई को मंजूरी दिए जाने संबंधी फेमा अधिसूचना को संसद के दोनों सदनों से पारित कराया जाना जरूरी है।

कमलनाथ विपक्ष के इस तर्क से सहमत नजर नहीं आए। उन्होंने कहा कि किसी भी चीज को अदालत ले जाया जा सकता है। यदि ऐसा होता है तो हम इससे निपटेंगे। मंत्री ने जोर देकर कहा कि लोकसभा और राज्यसभा के लिए नियम अलग-अलग हैं।

कमलनाथ ने हालांकि, स्वीकार किया कि फेमा अधिसूचना अगले सत्र तक खिंच सकती है जो तीन महीने बाद है। इसे बजट सत्र में पारित किया जा सकता है और सरकार के पास इसे मंजूर कराने के लिए संसद के 30 कार्य दिवस हैं।

उन्होंने कहा कि उन्हें एफडीआई के मुद्दे पर सपा और बसपा से कोई आश्वासन नहीं मिला है जिस पर इस हफ्ते दोनों सदनों में चर्चा और मतदान होगा। हालांकि, उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि वे (सपा-बसपा) संप्रग का समर्थन करेंगे।

 

 

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड