गुरुवार, 29 जनवरी, 2015 | 17:50 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
मेरठ में दो दिन पहले हुए नरसंहार में पुलिस ने पांच लोगों को गिरफ्तार किया है।यूपी के उन्नाव में पुलिस लाइन कैम्पस में एक बंद कमरे में ढेरों नर कंकाल मिलने की सूचना, कारण अजातबरेली के शाहाबाद में दोस्‍त के घर मिली लापता सब्‍जी आढ़ती की लाश, बुधवार से लापता था कुतुबखाना मंडी का आढती ताहिर, जांच में जुटी पुलिस।पटना विश्वविद्यालय के सिनेट की बैठक के दौरान विरोध कर रहे छात्रों पर लाठी चार्ज, छपरा संघ के चुनाव की मांग को लेकर विरोधमुरादाबाद: वकीलों ने दिया सिटी मजिस्ट्रेट को ज्ञापन। आज का आंदोलन समाप्त। कल रेल रोकेंगे। वकीलों की सीओ से नोंकझोंक भी हुई।लोकायुक्त की रिपोर्ट के बाद यूपी के दो विधायक बर्खास्तसंभल के मोहल्ला ठेर में रूम हीटर से दम घुटने की वजह से एक व्यापारी की मौत हो गई। कमरे में व्यापारी के साथ सो रही उसकी पत्नी व एक साल के मासूम की हालत भी गंभीर।अमरोहा के मेहंदीपुर गांव में नकली दूध बनाने की फैक्टी पकड़ी. पचास लीटर दूध व सामान बरामद. खाद्य एवं आपूर्ति विभाग की कार्रवाई.बरेली के फतेहगंज पश्चिमी कस्बे में प्रॉपर्टी डीलर के घर लाखों का डाकाआगरा : हाईकोर्ट बेंच को लेकर वकीलों में आपसी टकराव, संघर्ष समिति और ग्रेटर बार के पदाधिकारी भिड़े, बड़ी संख्या में फोर्स तैनात, पुलिस को फटकारनी पड़ीं लाठियांरामपुर के लालपुर में ट्रैक्टर ने बालक को रौंदा, मौत। हादसे के बाद हंगामा।
मीडियाकर्मियों से सरकार ने मांगी माफी
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:26-12-12 05:25 PM
Image Loading

गैंगरेप की शिकार छात्रा को न्याय दिलाने की मांग पर इंडिया गेट पर हुए प्रदर्शन को कवर कर रहे मीडियाकर्मियों पर पुलिस द्वारा पानी की तेज बौछारें करने और लाठीचार्ज करने की घटना पर सरकार ने बुधवार को माफी मांगी।

वित्त मंत्री पी चिदंबरम और सूचना प्रसारण मंत्री मनीष तिवारी ने इस घटना के लिए माफी मांगी है। कैबिनेट की बैठक का ब्यौरा देते समय जब संवाददाताओं ने पत्रकारों पर लाठीचार्ज, उन पर पानी की बौछारें करने, बदसलूकी करने तथा पुलिसकर्मियों के प्रेस क्लब ऑफ इंडिया में घुसकर पिटाई करने की ओर ध्यान दिलाया गया तो चिदंबरम ने कहा कि ऐसा लगता है कि पानी की बौछारें छोडी गयीं। लाठीचार्ज भी किया गया और संभव है कि कुछ मीडियाकर्मी घायल हो गये हों।

उन्होंने कहा कि दिल्ली के पुलिस आयुक्त इस घटना के लिए माफी मांग चुके हैं। चिदंबरम ने मीडियाकर्मियों पर इस तरह की कार्रवाई के लिए दिल्ली पुलिस की निन्दा करते हुए कहा कि वह इसके लिए (सरकार की ओर से) माफी चाहते हैं। चिदंबरम ने पत्रकारों से आग्रह किया कि वे बीत गयी बात को भूलकर आगे बढें। सरकार इस बारे में आवश्यक निर्देश दे रही है कि ऐसे हालात में पत्रकारों की पहचान की जाए और अधिक से अधिक संयम बरता जाए।

यह पूछे जाने पर कि मीडियाकर्मियों पर पुलिस कार्रवाई के लिए सरकार की ओर से किसने निर्देश दिया था, तिवारी ने कहा कि जो भी हुआ गलत था। मैं कड़े शब्दों में निन्दा करता हूं। इतने साल से हम और आप वार्तालाप कर रहे हैं। क्या आप सोच सकते हैं कि हमारी ओर से ऐसा कोई आदेश दिया जाएगा कि आप लोगों पर अत्याचार किया जाए। अब फैसला मैं आपके विवेक पर छोड़ता हूं।

उल्लेखनीय है कि रविवार 23 दिसंबर को इंडिया गेट पर प्रदर्शनकारी भीड़ की कवरेज कर रहे मीडियाकर्मियों पर पुलिस ने लाठीचार्ज किया। इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के कैमरे तोड़े और उन पर पानी की बौछारें कीं। कुछ पुलिसकर्मी कैमरामैन और पत्रकारों को खदेड़ते हुए प्रेस क्लब ऑफ इंडिया तक आ गये और जब इन लोगों ने क्लब के भीतर घुसकर शरण लेनी चाही तो पुलिसकर्मियों का गुस्सा क्लब के स्टॉफ पर फूट पड़ा और दो लोगों को कथित रूप से लाठियों से पीटा गया।

सरकार की ओर से इस घटना पर माफी मांगे जाने पर प्रेस क्लब के महासचिव अनिल आनंद ने बताया कि सरकार ने माफी मांगी है, इसका स्वागत है, लेकिन उसे यह सुनिश्चित करना चाहिए कि भविष्य में मीडियाकर्मियों के साथ ऐसा न होने पाये।

आनंद ने चिदंबरम की इस दलील को मानने से इंकार कर दिया कि घटना वाले दिन पुलिसकर्मियों के लिए संभवत: यह पहचानना मुश्किल था कि कौन पत्रकार है और कौन नहीं। आनंद ने कहा कि पुलिस वालों को हाथ में माइक लिये पत्रकारों और कैमरा लिये फोटोग्राफरों को पहचानने में क्या दिक्कत थी। पत्रकारों पर पुलिस कार्रवाई की कई मीडिया संगठनों और पत्रकार यूनियनों ने कड़ी निन्दा की है।

 

 
 
 
टिप्पणियाँ
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड