गुरुवार, 02 जुलाई, 2015 | 09:15 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    भूमि विधेयक पर एनडीए में दरार, शिवसेना और अकाली दल को आपत्ति भैंस और मुर्गियों के बाद अब यूपी पुलिस को है 'चुड़ैल' की तलाश यूपी: नौकरी का झांसा देकर छात्रा के साथ किया रेप, बनाया वीडियो ललित मोदी मामले में हुए इन नए खुलासों से कांग्रेस और बीजेपी दोनों परेशान, आईं आमने-सामने अब मोबाइल फोन से डायल हो सकेगा लैंडलाइन नंबर गोद से गिरी बच्ची, बचाने के लिए मां भी चलती ट्रेन से कूदी बलात्कार मामलों में कोई समझौता नहीं, औरत का शरीर उसके लिए मंदिर के समान होता है: सुप्रीम कोर्ट अब यूपी पुलिस 'चुड़ैल' को ढूंढेगी, जानिए क्या है पूरा मामला  खुलासा: एक रुपया तैयार करने का खर्च एक रुपये 14 पैसे दार्जिलिंग: भूस्‍खलन के कारण 38 लोगों की मौत, पीएम ने जताया शोक, 2-2 लाख रुपये मुआवजे का ऐलान
एफडीआई के खिलाफ प्रस्ताव, विभिन्न दलों के संपर्क में सरकार
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:05-12-12 12:08 PMLast Updated:05-12-12 02:11 PM

बहुब्रांड खुदरा क्षेत्र में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) पर लोकसभा में बहस के बाद मतदान के बारे में बसपा और सपा ने जहां चुप्पी साध रखी है, वहीं सरकार ने आज कहा कि वह समर्थन के लिए विभिन्न दलों से संपर्क बनाए हुए है।
   
संसदीय राज्य मंत्री राजीव शुक्ला ने संसद भवन परिसर में संवाददाताओं से कहा हम सभी दलों से संपर्क बनाए हुए हैं। हमने उनसे समर्थन का अनुरोध किया है। एफडीआई से किसानों और छोटे व्यापारियों के हितों पर कुठाराघात नहीं होगा, बल्कि इससे उन्हें मदद ही मिलेगी।
   
बहुब्रांड खुदरा क्षेत्र में 51 फीसदी प्रत्यक्ष विदेशी निवेश की अनुमति देने के सरकार के फैसले के विरोध में विपक्ष द्वारा पेश प्रस्ताव पर लोकसभा में बहस चल रही है और फिर मतदान होगा।
   
कल बहस के दौरान सपा और बसपा दोनों ने ही एफडीआई का विरोध किया लेकिन उन्होंने अभी यह स्पष्ट नहीं किया है कि क्या वह प्रस्ताव का समर्थन करेंगी।
   
भाजपा नेता सुषमा स्वराज ने यह कहते हुए दोनों दलों से प्रस्ताव का समर्थन करने की अपील की कि उनकी यह आशंका निर्मूल है कि सरकार गिर जाएगी।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड