रविवार, 30 अगस्त, 2015 | 00:26 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
गाजीपुर रोड पर गाड़ियों पर लदे जानवर मिलने से बवाल, लगाया जाम।
ED ने कुर्क की जगन की 143 करोड़ रुपये की संपत्ति
हैदराबाद/नई दिल्ली, एजेंसी First Published:08-01-2013 01:56:34 PMLast Updated:08-01-2013 02:35:53 PM
Image Loading

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने धन शोधन के मामले में वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के प्रमुख जगन मोहन रेड्डी की 143.74 करोड़ रुपये की सम्पत्ति को कुर्क किया है।
   
धन शोधन रोकथाम अधिनियम (पीएमएलए) के अपराधिक प्रावधानों के तहत इस मामले में कुर्की आदेश जारी किया गया है। इस मामले में यह एजेंसी की ओर से तीसरा कुर्की आदेश है। इससे पहले 51 करोड़ रुपये और 71 करोड़ रुपये के दो अलग अलग कुर्की आदेशी जारी किये गए थे।
   
सूत्रों ने बताया कि एजेंसी की ऐसी ही कुछ आदेश प्रक्रिया के विभिन्न चरण में है, क्योंकि वह जगन और उनके सहयोगियों के खिलाफ पुख्ता मामला तैयार करना चाहती है।
   
कुर्की आदेश के अनुसार, पीएमएलए की धारा 5 (1) के तहत 143.74 करोड़ रुपये की चल एवं अचल सम्पत्ति कुर्क की जाती है। जो सम्पत्ति कुर्क की जा रही है वह एमएस रामकी फार्मा सिटी (इंडिया) लिमिटेड से जुड़ी है और इसमें 153.46 करोड़ रुपये की जमीन और 3.20 करोड़ रुपये का म्यूचुअल फंड तथा जगृति पब्लिकेशन्स प्राइवेट लिमिटेड (जगन मोहन की) के मद में 10 करोड़ रुपये की सावधि जमा शामिल है।
   
एजेंसी सीबीआई की ओर से दायर एफआईआर के आधार पर इस मामले की जांच कर रही है जो जगन मोहन की आय से अधिक सम्पत्ति से जुड़ा हुआ है विशेष तौर पर उनके पिता और आंध्रप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री वाई एस राजशेखर रेड्डी के कार्यकाल के समय के।
   
प्रवर्तन निदेशालय का कुर्की एक प्रभावी कदम होता है जो धन शोधन रोकथाम अधिनियम के तहत आरोपियों को सम्पत्ति से लाभ प्राप्त करने से रोकता है जो अवैध तरीके से अर्जित की गई हो। आरोपी पक्ष इस आदेश के खिलाफ अपील कर सकता है।

 

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingगावस्कर ने पुजारा की तारीफों के पुल बांधे
अपनी अच्छी तकनीक और शांत चित के कारण चेतेश्वर पुजारा क्रीज पर अपने पांव जमाने में माहिर हैं और पूर्व कप्तान सुनील गावस्कर ने भी इस युवा बल्लेबाज की आज जमकर तारीफ की जिन्होंने अपने नाबाद शतक से भारत को संकट से उबारा।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
 
Image Loading

जब संता के घर आए डाकू...
आधी रात को संता के घर डाकू आए।
संता को जगाकर पूछा: यह बताओ कि सोना कहां है?
संता (गुस्से से): इतना बड़ा घर है कहीं भी सो जाओ। इतनी छोटी बात के लिए मुझे क्यों जगाया!