बुधवार, 01 जुलाई, 2015 | 05:32 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    'मेंढक' को है आपकी दुआओं की जरूरत, कोमा में है आपका चहेता किरदार सुनंदा पुष्कर केस में शशि थरूर का लाइ डिटेक्टर टेस्ट कराने की तैयारी में जुटी पुलिस शर्मनाक: सीरिया में आईएस ने दो महिलाओं का सिर कलम किया उपचुनाव में रिकॉर्ड डेढ लाख वोटों के अंतर से जीतीं जयलिलता, सभी विरोधी उम्मीदवारों की जमानत जब्त धौलपुर महल विवाद: कांग्रेस ने राजे के खिलाफ नए सबूत पेश किए, भाजपा बोली, छवि बिगाड़ने की साजिश ट्विटर पर जॉन ने खोली 'वेलकम बैक' की रिलीज़ डेट, आप भी जानिए बांग्लादेश में उड़ा टीम इंडिया का मजाक, इन क्रिकेटरों को दिखाया आधा गंजा गांगुली ने टीम इंडिया में हरभजन की वापसी का किया स्वागत रोहित समय के पाबंद हैं, उनके साथ काम करना मुश्किल: शाहरूख खान तेंदुलकर ने अजिंक्य रहाणे को दीं शुभकामनाएं
पीड़िता के पिता की चाहत, दुनिया जाने बेटी का नाम
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:06-01-13 04:00 PMLast Updated:06-01-13 08:39 PM
Image Loading

दिल्ली में 16 दिसंबर को चलती बस में गैंगरेप की शिकार हुई 23 वर्षीय पैरामेडिकल छात्रा के पिता का कहना है कि वे चाहते हैं कि दुनिया उनकी बेटी का वास्तविक नाम जाने ताकि इस तरह के हमलों का शिकार होने वाली महिलाओं को लड़ने का साहस मिले।

छात्रा का रेप करने के बाद छह आरोपियों ने उसे बुरी तरह मारा-पीटा था। करीब दो सप्ताह तक जीवन के लिए संघर्ष करने के बाद इस लड़की की सिंगापुर के एक अस्पताल में मौत हो गई। भारतीय मीडिया इस पूरी घटना में लड़की का नाम लेने और उसकी पहचरान उजागर करने से बच रहा है। दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में इलाज के बाद उसे सिंगापुर भेजा गया था जहां शनिवार 29 दिसंबर को उसकी मौत हो गई।

उत्तर प्रदेश के बलिया जिले में अपने पैतृक गांव में छात्रा के 53 वर्षीय पिता ने द संडे पीपुल और द डेली मिरर के रविवारीय संस्करण से कहा कि हम चाहते हैं कि दुनिया उसका वास्तविक नाम जाने। मेरी बेटी ने कुछ गलत नहीं किया है, उसकी जान खुद की रक्षा करते हुए गई है। मुझे उस पर गर्व है। उसका नाम उजागर करने से ऐसे हमलों को झेलने वाली लड़कियों का साहस मिलेगा। उन्हें मेरी बेटी से ताकत मिलेगी।

छात्रा का शोकाकुल परिवार दिल्ली स्थित अपने घर से फिलहाल अपने गांव चला गया है। छात्रा के पिता ने कहा कि पहले मैं इसके लिए जिम्मेदार लोगों को सामने से देखना चाहता था, लेकिन अब मैं ऐसा बिल्कुल नहीं चाहता। मैं बस सुनना चाहता हूं कि अदालत ने उन्हें सजा दी है और उन्हें फांसी दे दी गई।

उन्होंने कहा कि मैं सभी छह आरोपियों के लिए मौत की सजा चाहता हूं। ये लोग शैतान हैं। इन्हें उदाहरण बनाया जाना चाहिए और समाज में ऐसी घटनाएं नहीं होने देना चाहिए। उन्होंने कहा कि उनकी बेटी के साथ जो हुआ वह बहुत ही वीभत्स था और मैं चाहता हूं कि कभी भी किसी को उसकी तरह की पीड़ा से ना गुजरना पड़े।

यह शोकाकुल पिता अब आशा करता है कि सभी माता-पिता अपने बच्चों को महिलाओं का सम्मान करना सिखाएं। उन्होंने कहा कि सिर्फ पुलिस इसे नहीं संभाल सकती। माता-पिता को भी अपने बच्चों पर नजर रखनी होगी।

 
 
 
अन्य खबरें
 
 
 
 
 
 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड