मंगलवार, 01 सितम्बर, 2015 | 15:36 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
झारखंड: तोपचांची से तीन माह से लापता नाबालिग बच्ची को पुलिस ने कोलकाता से बरामद किया है, इस मामले में तीन युवकों को भी पुलिस ने गिरफ्तार किया है।उत्तर प्रदेश: मुरादाबाद में मंडी गेट पर व्यापारी से 20 हजार रुपये की लूट।उत्तर प्रदेश: मदरसों में भी फहराएं तिरंगा, गाएं राष्ट्रगान, हाईकोर्ट ने प्रदेश के मदरसों में ध्वजारोहण करने का निर्देश दिया।NOBW ने 2 सितंबर 2015 की प्रस्तावित बैंक हड़ताल वापिस ली।
पीड़िता के पिता की चाहत, दुनिया जाने बेटी का नाम
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:06-01-2013 04:00:55 PMLast Updated:06-01-2013 08:39:02 PM
Image Loading

दिल्ली में 16 दिसंबर को चलती बस में गैंगरेप की शिकार हुई 23 वर्षीय पैरामेडिकल छात्रा के पिता का कहना है कि वे चाहते हैं कि दुनिया उनकी बेटी का वास्तविक नाम जाने ताकि इस तरह के हमलों का शिकार होने वाली महिलाओं को लड़ने का साहस मिले।

छात्रा का रेप करने के बाद छह आरोपियों ने उसे बुरी तरह मारा-पीटा था। करीब दो सप्ताह तक जीवन के लिए संघर्ष करने के बाद इस लड़की की सिंगापुर के एक अस्पताल में मौत हो गई। भारतीय मीडिया इस पूरी घटना में लड़की का नाम लेने और उसकी पहचरान उजागर करने से बच रहा है। दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में इलाज के बाद उसे सिंगापुर भेजा गया था जहां शनिवार 29 दिसंबर को उसकी मौत हो गई।

उत्तर प्रदेश के बलिया जिले में अपने पैतृक गांव में छात्रा के 53 वर्षीय पिता ने द संडे पीपुल और द डेली मिरर के रविवारीय संस्करण से कहा कि हम चाहते हैं कि दुनिया उसका वास्तविक नाम जाने। मेरी बेटी ने कुछ गलत नहीं किया है, उसकी जान खुद की रक्षा करते हुए गई है। मुझे उस पर गर्व है। उसका नाम उजागर करने से ऐसे हमलों को झेलने वाली लड़कियों का साहस मिलेगा। उन्हें मेरी बेटी से ताकत मिलेगी।

छात्रा का शोकाकुल परिवार दिल्ली स्थित अपने घर से फिलहाल अपने गांव चला गया है। छात्रा के पिता ने कहा कि पहले मैं इसके लिए जिम्मेदार लोगों को सामने से देखना चाहता था, लेकिन अब मैं ऐसा बिल्कुल नहीं चाहता। मैं बस सुनना चाहता हूं कि अदालत ने उन्हें सजा दी है और उन्हें फांसी दे दी गई।

उन्होंने कहा कि मैं सभी छह आरोपियों के लिए मौत की सजा चाहता हूं। ये लोग शैतान हैं। इन्हें उदाहरण बनाया जाना चाहिए और समाज में ऐसी घटनाएं नहीं होने देना चाहिए। उन्होंने कहा कि उनकी बेटी के साथ जो हुआ वह बहुत ही वीभत्स था और मैं चाहता हूं कि कभी भी किसी को उसकी तरह की पीड़ा से ना गुजरना पड़े।

यह शोकाकुल पिता अब आशा करता है कि सभी माता-पिता अपने बच्चों को महिलाओं का सम्मान करना सिखाएं। उन्होंने कहा कि सिर्फ पुलिस इसे नहीं संभाल सकती। माता-पिता को भी अपने बच्चों पर नजर रखनी होगी।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image LoadingLIVE: भारत को बड़ी सफलता, कप्तान मैथ्यूज आउट
श्रीलंका क्रिकेट टीम ने भारत के साथ सिंहलीज स्पोर्ट्स क्लब मैदान पर जारी तीसरे टेस्ट मैच के पांचवें दिन 386 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए अपना 7वां विकेट गंवा दिया।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
 
Image Loading

कहां रखें पैसे
पत्नी: मैं जहां भी पैसा रखती हूं हमारा बेटा वहां से चुरा लेता है। मेरी समझ नहीं आ रहा कि पैसे कहां रखूं?
पति: पैसे उसकी किताबों में रख दो, वो उन्हें कभी नहीं छूता।