शनिवार, 01 अगस्त, 2015 | 17:18 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    खेल रत्न के लिए सानिया के नाम की सिफारिश भाजपा सांसद वरुण गांधी का बयान, 94 फीसदी दलित, अल्पसंख्यक समुदाय को मिली फांसी की सजा विमान हादसे में ओसामा बिन लादेन के परिवार के सदस्यों की मौत  10 रुपए में ऐप उपलब्ध कराएगा गूगल प्ले  ISIS की शर्मनाक हरकत: चार साल के बच्चे को दी तलवार और कहा...मां का सिर काट डालो कोमेन का कहर: यूपी, पंजाब, हरियाणा में भारी बारिश, गुजरात और राजस्थान में बाढ़  मुंबई के बांद्रा इलाके में लगाए गए किसिंग वाले पोस्टर, लोग नाराज याकूब मेमन की पत्नी को सांसद बनाने चले नेताजी की गई कुर्सी, समाजवादी पार्टी ने किया निलंबित पापा बनने वाले हैं जकरबर्ग, बेबी ने अंगूठा दिखाकर फेसबुक को किया LIKE लीबिया में अगवा 2 अन्य भारतीयों का सुराग नहीं, मनीष तिवारी ने साधा सुषमा पर निशाना
छठे आरोपी को पुलिस ने ट्रांजिट रिमांड पर लिया
औरंगाबाद (बिहार), एजेंसी First Published:22-12-2012 03:00:50 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
Image Loading

नई दिल्ली में 23 वर्षीय छात्रा के साथ चलती बस में गैंगरेप के मामले में गिरफ्तार छठे आरोपी अक्षय ठाकुर को दिल्ली पुलिस मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी (सीजेएम) कौशलेश कुमार सिंह के समक्ष पेशी के बाद दो दिनों के ट्रांजिट रिमांड पर दिल्ली ले गयी।

प्रभारी पुलिस अधीक्षक प्रणव कुमार ने बताया कि शुक्रवार देर रात सीजेएम के समक्ष पेशी के बाद दिल्ली पुलिस की टीम आरोपी अक्षय ठाकुर को दो दिनों के ट्रांजिट रिमांड पर अपने साथ बनारस के रास्ते दिल्ली ले गयी।

उन्होंने बताया कि ठाकुर को उसके घर से कल देर शाम गिरफ्तार किया था। वह 16 दिसंबर को नई दिल्ली में हुई घटना के बाद भागता फिर रहा था। पेशी के बाद स्थानीय पुलिस ने दिल्ली पुलिस की टीम को रवाना किया।

स्थानीय पुलिस ने बताया कि पूछताछ में ठाकुर ने कहा है कि घटना के दिन वह बस में उपस्थित था। वह बस में कंडक्टर का काम करता था और बस चलाना भी सीखता था। उसने घटना में संलिप्तता स्वीकार की है।

बीते 19 दिसंबर को दिल्ली पुलिस ने आरोपी के पिता सरयू सिंह और उसके भाई अभय सिंह सहित अन्य लोगों के साथ पूछताछ की थी। ठाकुर की गिरफ्तारी नहीं होने के बाद पुलिस उसके घर पर लगातार नजर रखे हुए थी।

स्थानीय पुलिस ने बताया कि घटना के बाद अक्षय ठाकुर जगह-जगह भागता फिर रहा था। दिल्ली में छिपकर रहने की नाकाम कोशिश के बाद वह राजस्थान के जयपुर चला गया था। गैंगरेप की घटना चर्चित होने के बाद बदनामी के डर से उसे किसी ने भी पनाह देने से इनकार कर दिया।

वह जोधपुर हावड़ा एक्सप्रेस से रोहतास के डिहरी आन सोन आया था और वहां से सड़क मार्ग के रास्ते अपने गांव औरंगाबाद के लाहनकरमा पहुंचा था। स्थानीय पुलिस 19 दिसंबर से ही लगातार घर पर नजर बनाये हुए थी। धावा बोलकर उसे घर से दबोच लिया गया। उस समय वह काफी डरा हुआ था और उसने गिरफ्तारी का कोई प्रतिरोध नहीं किया।

पुलिस ने बताया कि आरोपी अपनी उम्र 28 वर्ष बता रहा है। गिरफ्तारी के बाद आरोपी के परिवार के लोग रोने लगे। उसके साथ परिवार का कोई भी सदस्य नहीं आया। बाद में पुलिस ने चेहरा ढककर टोपी पहनाये हुए उसे सीजेएम के समक्ष पेश किया।

 

 
 
 
अन्य खबरें
 
 
 
 
 
 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingश्रीलंका दौरे के लिए तैयार हूं : विराट
भारत-ए के खिलाफ दूसरे गैर आधिकारिक टेस्ट में कुछ खास कमाल नहीं कर सके स्टार बल्लेबाज एवं टेस्ट कप्तान विराट कोहली ने शनिवार को कहा कि उनका फॉर्म चिंता का विषय नहीं है और वह इसी अंदाज में श्रीलंका दौरे पर भी अपना प्रदर्शन करेंगे।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड