रविवार, 26 अक्टूबर, 2014 | 09:07 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    राजनाथ सोमवार को मुंबई में कर सकते हैं शिवसेना से वार्ता नरेंद्र मोदी ने सफाई और स्वच्छता पर दिया जोर मुंबई में मोदी से उद्धव के मिलने का कार्यक्रम नहीं था: शिवसेना  कांग्रेस ने विवादित लेख पर भाजपा की आलोचना की केन्द्र ने 80 हजार करोड़ की रक्षा परियोजनाओं को दी मंजूरी  कांग्रेस नेता शशि थरूर शामिल हुए स्वच्छता अभियान में हेलमेट के बगैर स्कूटर चला कर विवाद में आए गडकरी  नस्ली घटनाओं पर राज्यों को सलाह देगा गृह मंत्रालय: रिजिजू अश्विका कपूर को फिल्मों के लिए ग्रीन ऑस्कर अवार्ड जम्मू-कश्मीर और झारखंड में पांच चरणों में मतदान की घोषणा
इंडिया गेट है युद्ध स्मारक बनाने का सही स्थान: एंटनी
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:16-12-12 03:28 PMLast Updated:16-12-12 05:09 PM
Image Loading

रक्षा मंत्री एके एंटनी ने रविवार को कहा कि राष्ट्रीय युद्ध स्मारक के निर्माण के लिए इंडिया गेट सही स्थान है। एंटनी का यह बयान दिल्ली की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के इस प्रस्ताव का विरोध करने की पृष्ठभूमि में आया है।

एंटनी ने पाकिस्तान के साथ वर्ष 1971 युद्ध की आज 41वीं वर्षगांठ के मौके पर अमर जवान ज्योति पर पुष्पचक्र अर्पित करने के बाद संवाददाताओं से कहा कि जहां तक हमारा सवाल है यह (इंडिया गेट) युद्ध स्मारक के निर्माण के लिए सही स्थान है। हम बहुत स्पष्ट हैं।

रक्षा मंत्री से इंडिया गेट पर युद्ध स्मारक निर्माण का विरोध करते हुए दिल्ली की मुख्यमंत्री द्वारा लिखे गए पत्रों पर प्रतिक्रिया मांगी गई थी। उन्होंने कहा कि कई वर्षों के प्रयास के बाद प्रधानमंत्री की ओर से गठित मंत्रियों के समूह और तीनों सेनाओं के प्रमुख यहां पर युद्ध स्मारक निर्माण पर सहमत हुए।

यह पूछे जाने पर कि क्या शीला के पत्रों से इंडिया गेट परिसर में युद्ध स्मारक के निर्माण की प्रक्रिया विलंबित होगी, एंटनी ने कहा कि प्रस्ताव को मंजूरी के लिए कैबिनेट में पेश किये जाने से पहले शहरी विकास मंत्रालय ने सभी हितधारकों को पत्र लिखकर उनकी प्रतिक्रिया मांगी है, लेकिन मैं इस बात को लेकर आश्वस्त हूं कि हम इस मुद्दे का समाधान निकालने में सफल होंगे।

शीला दीक्षित ने एंटनी, गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे और शहरी विकास मंत्री कमल नाथ को लिखे अलग-अलग पत्रों में कहा है कि स्मारक के निर्माण के लिए वैकल्पिक स्थल चिन्हित होना चाहिए।

वहीं एंटनी ने सेना के नौजवान अधिकारियों में तनाव का अध्ययन करने का आदेश दिया है। इसके साथ ही उन्होंने डीआरडीओ से कहा है कि इसे कम करने की तरकीबें भी विकसित की जाएं। डीआरडीओ में प्राणि विज्ञान के मुख्य नियंत्रक डब्ल्यू सेल्वामूर्ति ने कहा कि रक्षा मंत्री ने आदेश दिया है कि नौजवान अधिकारियों में तनाव का पूरा विवरण और अध्ययन अगले महीने उन्हें सौंपा जाए।

उन्होंने कहा कि रक्षा मंत्री ने नौजवान अधिकारियों पर अध्ययन करने का आदेश दिया है क्योंकि वे भी तनाव में होते हैं। दूसरे रैंक की तरह वे लोग समान परिस्थितियों और कामकाज के महौल में होते हैं। रक्षा मनोविज्ञान अनुसंधान संस्थान की ओर से अध्ययन किया जा रहा है। इनमें उन अधिकारियों को शामिल किया जाएगा जिनके सेवा में पांच से छह साल गुजरे हैं।

साथ ही एंटनी ने कहा कि भारत कैप्टन सौरभ कालिया के मामले को पाकिस्तान के साथ उठा रहा है। पाकिस्तानी सैनिकों ने मई, 1999 में कालिया को पकड़कर प्रताड़ना देने के बाद उनकी हत्या कर दी थी। उन्होंने कहा कि हम इस मामले को उचित ढंग से आगे बढ़ा रहे हैं। हम इस मामले को पाकिस्तान के साथ उठा रहे हैं।

 
 
 
 
टिप्पणियाँ