शुक्रवार, 31 जुलाई, 2015 | 08:35 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    याकूब की दया याचिका पर साइन कर शत्रुघ्न ने बीजेपी को शर्मिंदा किया: जेटली 'बोस की मौत से जुडे़ रिकॉर्ड्स या तो चूहे खा गए, या वो खो गए' ना 'पाक' हरकतों से नहीं बाज आ रहा है पाकिस्तान, फिर किया सीजफायर का उल्लंघन, 1 जवान शहीद देश में केवल 17 व्यक्तियों पर 2.14 लाख करोड़ का कर बकाया  2022 तक आबादी में चीन को पीछे छोड़ देगा भारत  झारखंड में दिसंबर तक होगी 40 हजार शिक्षकों की नियुक्तियां महिन्द्रा सितंबर में पेश करेगी एसयूवी टीयूवी-300  नेपाल: भारी बारिश के बाद भूस्खलन, 13 महिलाओं समेत 33 की मौत, 20 से अधिक लापता पेट्रोल-डीजल के दामों में हो सकती है कटौती, 1 रुपये 50 पैसे तक घट सकते हैं दाम नागपुर की सेंट्रल जेल में 1984 के बाद पहली बार दी गई फांसी
कानून सम्मत कार्रवाई करेगी केन्द्र सरकार
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:25-12-2012 05:03:25 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
Image Loading

केन्द्र सरकार गैंगरेप की शिकार पैरामेडिकल छात्रा का बयान दर्ज करने के दौरान सबडिवीजनल मजिस्ट्रेट के काम में हस्तक्षेप किए जाने की दिल्ली की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित की शिकायत पर कानून सम्मत कार्रवाई करेगी।

दीक्षित ने केन्द्रीय गृहमंत्री सुशील कुमार शिन्दे को एक पत्र लिखकर सबडिवीजनल मजिस्ट्रेट (एसडीएम) उषा चतुर्वेदी के साथ सफदरजंग अस्पताल में पीड़िता का बयान लेते समय वहां तैनात पुलिस अधिकारियों द्वारा तैयार प्रश्नावली के अनुसार ही सवाल पूछने का दवाब डालने और मना किए जाने पर एसडीएम के साथ बुरा व्यवहार किए जाने की शिकायत की थी और इसकी उच्च स्तरीय जांच कराने की मांग की थी।

गृहराज्य मंत्री आरपीएन सिंह ने कहा कि केन्द्र सरकार दीक्षित के पत्र पर कानून सम्मत कार्रवाई करेगी। गृह मंत्रालय के सूत्रों ने भी बताया कि वे मुख्यमंत्री की शिकायत को काफी गंभीरता से ले रहे हैं और उस पर जांच के आदेश दिए जा सकते हैं।

उधर, दिल्ली पुलिस ने इस पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की। दिल्ली पुलिस ने एसडीएम के आरोपों का खण्डन किया और मुख्यमंत्री की केन्द्रीय गृहमंत्री को लिखी गई गोपनीय चिट्ठी मीडिया में लीक होने की जांच की मांग की।

दीक्षित ने शिंदे को लिखे पत्र में चतुर्वेदी की शिकायत का हवाला देते हुए कहा कि शुक्रवार की रात छात्रा का बयान दर्ज करने के दौरान दिल्ली पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों ने हस्तक्षेप किया और पीड़िता की मां को कैमरे के सामने बयान देने से रोकने का प्रयास किया था।

सूत्रों के अनुसार मुख्यमंत्री ने एसडीएम के उन आरोपों को गंभीर और चिंताजनक बताया जिनमें आरोप लगाया गया है कि पुलिस अधिकारियों ने चतुर्वेदी के साथ बुरा व्यवहार किया और दबाव डालने का प्रयास किया। पुलिस अधिकारी एक प्रश्नावली तैयार करके लाए थे। वे चाहते थे कि पीड़िता का बयान उन्हीं प्रश्नों पर ही लिया जाए।

चतुर्वेदी ने इस घटना की शिकायत जिला उपायुक्त बीएम मिश्रा से की थी जिसे मिश्रा ने मुख्यमंत्री को भेजा था। दिल्ली सरकार के सूत्रों ने बताया कि उपायुक्त द्वारा लिखे गए पत्र से दीक्षित बहुत व्यथित हो गई थीं और इसके बाद उन्होंने शिंदे को पत्र लिखकर इसकी गहन जांच कराने का फैसला किया।

 

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingपे टीएम ने बीसीसीआई से 2019 तक प्रायोजन अधिकार खरीदे
पे टीएम के मालिक वन97 कम्युनिकेशंस ने आज भारत में अगले चार साल तक होने वाले घरेलू और अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैचों के अधिकार 203.28 करोड़ रूप में खरीद लिए।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड