शनिवार, 25 अक्टूबर, 2014 | 22:18 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    राजनाथ सोमवार को मुंबई में कर सकते हैं शिवसेना से वार्ता नरेंद्र मोदी ने सफाई और स्वच्छता पर दिया जोर मुंबई में मोदी से उद्धव के मिलने का कार्यक्रम नहीं था: शिवसेना  कांग्रेस ने विवादित लेख पर भाजपा की आलोचना की केन्द्र ने 80 हजार करोड़ की रक्षा परियोजनाओं को दी मंजूरी  कांग्रेस नेता शशि थरूर शामिल हुए स्वच्छता अभियान में हेलमेट के बगैर स्कूटर चला कर विवाद में आए गडकरी  नस्ली घटनाओं पर राज्यों को सलाह देगा गृह मंत्रालय: रिजिजू अश्विका कपूर को फिल्मों के लिए ग्रीन ऑस्कर अवार्ड जम्मू-कश्मीर और झारखंड में पांच चरणों में मतदान की घोषणा
राजोआना को 31 मार्च को दी जाएगी फांसी: कोर्ट
चण्डीगढ़, एजेंसी First Published:27-03-12 06:10 PM
Image Loading

चण्डीगढ़ की एक अदालत ने फैसला सुनाया है कि पूर्व मुख्यमंत्री बेअंत सिंह की हत्या के दोषी और आतंकवादी संगठन बब्बर खालसा के आतंकवादी बलवंत सिंह राजोआना को 31 मार्च को ही फांसी दी जाए।

अदालत ने राजोआना को फांसी देने का वारंट पटियाला के जेल अधिकारियों को वापस लौटा दिया। अदालत ने साथ ही पटियाला के जेल अधीक्षक एल.एस. जाखड़ को अदालत की अवमानना करने पर कारण बताओ नोटिस भी जारी किया।

जाखड़ ने सोमवार को केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) की अदालत में पेश होकर कहा था कि राजोआना को 31 मार्च को फांसी देने के वारंट पर अमल नहीं होना चाहिए, क्योंकि इस मामले में दो अन्य अभियुक्तों का मामला अभी सुप्रीम कोर्ट में लम्बित है। इसलिए वह राजोआना के मौत वारंट पर स्थगन चाहते हैं।

बहरहाल, अदालत ने जाखड़ की मांग को खारिज कर दिया और इस मामले पर मंगलवार को सुनवाई करते हुए कहा कि राजोआना को 31 मार्च को ही फांसी दी जानी चाहिए।

राजोआना अभी पटियाला जेल में बंद है। इसी मामले में दो अन्य उग्रवादियों जगतार सिंह हवारा और लखविंदर सिंह को भी दोषी करार दिया गया है। ये दोनों याचिकाएं सुप्रीम कोर्ट में विचाराधीन हैं।
 
 
 
टिप्पणियाँ