मंगलवार, 01 सितम्बर, 2015 | 17:39 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
उद्धव ने संभाला सामना के संपादक का पद
मुंबई, एजेंसी First Published:04-12-2012 03:19:32 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
Image Loading

बाल ठाकरे के निधन के साथ रिक्त हुए शिवसेना प्रमुख के पद को लेने की अटकलों को दूर करते हुए शिवसेना के कार्यकारी अध्यक्ष और ठाकरे के बेटे उद्धव ठाकरे ने पार्टी के मुखपत्र सामना में ठाकरे की जगह पर संपादक का पद संभाल लिया है।

शिवसेना के वरिष्ठ नेता सुभाष देसाई ने मंगलवार को बताया कि उद्धव जी को प्रबोधन प्रकाशन के सभी प्रकाशनों का संपादक बनाया गया है। देसाई प्रबोधन प्रकाशन के प्रकाशक हैं। यह प्रकाशन, सामना (मराठी) और दोपहर का सामना (हिन्दी) जैसे समाचार पत्रों का प्रकाशन करता है। यह दोनों सामाचारपत्र नवी मुंबई से मुद्रित होते हैं।

उद्धव को हाल ही में शिवसेना के संचालन से संबंधित सभी शक्तियां दे दी गयीं और अब वह इन दोनों समाचारपत्रों के भी संपादक होंगे। गत 17 नवंबर को बाल ठाकरे का निधन हो गया था। निधन होने तक ठाकरे इन दोनों समाचारपत्रों के संपादक पद पर बने हुए थे और अब उन्हें इन समाचारपत्रों के संस्थापक-संपादक की पदवी दी गयी है।

23 जनवरी, 1988 को सामना का प्रकाशन शुरू किया गया था। इसके प्रकाशन का उद्देश्य मराठी लोगों तक ठाकरे के विचार सम्प्रेषित करना था। दोपहर का सामना, शाम में प्रकाशित होने वाला समाचारपत्र है जिसका प्रकाशन 23 फरवरी, 1993 को शुरू किया गया था। इसके प्रकाशन का उद्देश्य, महाराष्ट्र में बसे हुए उत्तर भारतीय लोगों तक पहुंचना था।

ठाकरे इन समाचार पत्रों में अपने संपादकीय, हस्ताक्षर के साथ छपने वाले अपने बयानों और पार्टी कार्यकर्ताओं के साक्षात्कार प्रकाशित कर संदेश सम्प्रेषित करते थे। इन समाचारपत्रों के नियमित कार्य का संचालन, संजय राउत (सामना) और प्रेम शुक्ला (दोपहर का सामना) करना जारी रखेंगे।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingभारत ने रचा इतिहास, 22 साल बाद श्रीलंका में टेस्ट सीरीज जीती
भारतीय क्रिकेट टीम ने सिंहलीज स्पोर्ट्स क्लब मैदान पर जारी तीसरे टेस्ट मैच के पांचवें दिन श्रीलंका को 117 रनों से हराया। इस जीत के साथ भारत ने 22 साल बाद टेस्ट सीरीज पर कब्जा कर इतिहास रचा।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
 
Image Loading

जब एयरपोर्ट जा पहुंचा एक शराबी...
एक रात एक शराबी एयरपोर्ट के बाहर खड़ा था।
एक वर्दीधारी युवक उधर से गुजरा।
शराबी- एक टैक्सी ले आओ।
युवक बोला- मैं पायलट हूं, टैक्सी ड्राइवर नहीं।
शराबी- नाराज क्यों होते हो भाई, टैक्सी नहीं तो एक हवाई जहाज ले आओ।