शुक्रवार, 21 नवम्बर, 2014 | 13:50 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
मैं झारखंड का भाग्य बदलने आया हूं: मोदीदेश विकास के रास्ते पर चल पड़ा है :मोदीमोदी : झारखंड में नदियां हैं पानी नहींमैं शौचालय बनाने वाला पीएम हूं : मोदीमोदी का बिहार के सीएम को जवाब, हमारे मंत्री से डरते हैंमोदी :जनता देती है तो छप्पर फाड़ कर और लेती है तो सब कुछ लूट लेती है। इसलिए सत्ता के नशे में डूबे लोगों को सचेत हो जाना चाहिए।लोकतंत्र में किसी का अहंकार नहीं चलता। लोकतंत्र में जनता ही सब कुछ होती है :मोदीमोदी : झारखंड नं 1 हो सकता है, एक बार सेवा का अवसर देंमोदी का शिबू सोरेन पर हमला, कहा बाप-बेटे से मुक्त करायेंझारखंड अमीर, यहां के लोग गरीब : मोदीमोदी ने कहा, आदिवासियों की बीमारी दूर करेंगेमोदी : केला उत्पादन पर ज़ोर देंगेहवा के रुख का पता चल रहा है : मोदीडालटनगंज में लोकसभा चुनाव से ज्यादा भीड़ : मोदीमोदी ने कहा, ये धरती बिरसा मुंडा की धरती है, तपस्वी की धरती को नमनझारखंड में चुनावी सभा को संबोधित करने डालटनगंज पहुंचे पीएम मोदी
वाड्रा पर आरोपों के मामले में आदेश सुरक्षित
लखनऊ, एजेंसी First Published:29-11-12 06:18 PMLast Updated:29-11-12 06:21 PM
Image Loading

इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनउ पीठ ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के दामाद रॉबर्ट वाड्रा के खिलाफ आम आदमी पार्टी के संस्थापक अरविंद केजरीवाल द्वारा लगाये गये आरोपों की जांच के निर्देश प्रधानमंत्री कार्यालय को देने के आग्रह वाली याचिका पर गुरुवार को शुरुआती सुनवाई के बाद अपना आदेश सुरक्षित कर लिया।

न्यायमूर्ति उमानाथ सिंह तथा न्यायमूर्ति वीरेन्द्र कुमार दीक्षित की खंडपीठ के समक्ष स्थानीय सामाजिक कार्यकर्ता नूतन ठाकुर की इस याचिका पर सुनवाई हुई। केन्द्र सरकार की तरफ से पेश अतिरिक्त सालीसिटर जनरल मोहन पाराशरन ने दलील दी कि यह याचिका खारिज किये जाने योग्य है, क्योंकि यह महज मीडिया की खबरों पर आधारित है और जब तक याचिका सम्बन्धी तथ्यों को साबित नहीं कर दिया जाता, तब तक इन्हें सच नहीं माना जा सकता।

उन्होंने यह भी तर्क दिया कि याची को यह याचिका दायर करने का कोई हक नहीं है। उधर, केन्द्र सरकार के इस तर्क का जवाब देते हुए याचिकाकर्ता के वकील अशोक पाण्डेय का कहना था कि जब केन्द्र अपनी आपत्ति में इसे दो लोगों (वाड्रा और डीएलएफ कम्पनी) के बीच का मामला बता रहा है तो फिर इसमें इतनी जल्द पैरवी क्यों की गयी, जबकि बड़ी संख्या में अन्य मामले लम्बित हैं।

याचिकाकर्ता के वकील ने अपनी दलीलों में यह भी आरोप लगाया कि यह मामला बड़े लोगों से सम्बन्धित है। लिहाजा याची के नौ अक्टूबर 2012 के प्रत्यावेदन में प्रस्तुत तथ्यों की बाबत सक्षम प्राधिकारियों से जांच कराने के निर्देश प्रधानमंत्री कार्यालय को दिये जाने चाहिये।

 
 
 
टिप्पणियाँ