शुक्रवार, 19 दिसम्बर, 2014 | 00:58 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
भूकंप की तीव्रता 5.2 मापी गई। केंद्र नेपाल में।सहरसा, खगड़िया, पूर्णिया में भी झटके महसूस किए गए। हैं। तीव्रता कम रही। कहीं नुकसान की सूचना नहीं है।समस्तीपुर, मधुबनी व मुजफ्फरपुर में 9.03 बजे भूकंप के हल्के झटके लोगों ने महसूस किये हैं।यूपी में आगरा सबसे ठंडा। न्यूनतम तापमान 4.7 डिग्री सेल्सियस रहा।नक्सली हमले की आशंका, पुलिस ने की फायरिंग, शाम पांच बजे की घटनाअमड़ापाड़ा चेकपोस्ट से दो जवान हथियार समेत गायबलखवी को दी गई जमानत बेहद दुर्भाग्यपूर्ण: राजनाथएलएन मिश्रा हत्‍याकांड में चार दोषियों को उम्रकैद
वायुसेना का सरकार पर 63 करोड़ किराया बाकी
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:06-01-13 01:54 PM
Image Loading

वायुसेना का विभिन्न केंद्रीय मंत्रालयों पर विमानों एवं हेलीकॉप्टरों के किराये के रूप में 63 करोड़ रुपया बकाया है। विदेश मंत्रालय पर सबसे अधिक करीब 44 करोड़ रुपये और गृह मंत्रालय पर करीब 9 करोड़ रुपया किराया बाकी है।

सूचना के अधिकार (आरटीआई) के तहत प्राप्त जानकारी के मुताबिक, पिछले पांच वर्षों में विभिन्न केंद्रीय मंत्रालयों ने 229 बार वायुसेना के विमानों का उपयोग किया जिसके एवज में इन मंत्रालयों पर वायुसेना का 63 करोड़ 54 लाख 89 हजार 40 रुपया किराया बकाया है।

रक्षा मंत्रालय ने बताया कि कई बार याद दिलाये जाने के बावजूद भुगतान लंबित है और बकाया राशि बढ़ती जा रही है। यह तय किया गया है कि बकाया राशि के भुगतान पर ही आगे वायुसेना का सहयोग निर्भर करेगा।

प्राप्त सूचना के अनुसार, विदेश मंत्रालय ने पांच वर्षों में 131 बार वायु सेना के हेलीकॉप्टर एवं विमानों का उपयोग किया जिसके एवज में किराये के रूप में मंत्रालय पर 44 करोड़ 52 लाख रुपया बकाया है।

2012-13 में विदेश मंत्रालय ने 50 बार वायु सेना के विमानों का उपयोग किया जिसका 17 करोड़ 65 लाख रुपया किराया बकाया है। 2009-10 में विदेश मंत्रालय ने 45 बार वायुसेना के विमानों का उपयोग किया जिसका 18 करोड़ 10 लाख रुपया किराया बाकी है। 2007-08 में वायुसेना के विमानों का 10 बार उपयोग करने के मद में मंत्रालय पर 5 करोड़ 93 लाख रुपया बाकी है, जबकि 2004-05 में 21 बार विमानों का उपयोग करने के मद में विदेश मंत्रालय पर 4 करोड़ 42 लाख रुपया बाकी है।

नियमों के तहत जो लोग वायुसेना के विमान का उपयोग करने की पात्रता रखते हैं, उनके साथ जाने पर कोई किराया नहीं लगता। परंतु जिन लोगों या विभागों को उचित मंजूरी के बाद यह सुविधा मिलती है, उन्हें भुगतान करना होता है।

 
 
 
टिप्पणियाँ
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड