मंगलवार, 30 सितम्बर, 2014 | 19:21 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
ओबामा और मोदी ने कहा कि अब भी हमारे संबध की वास्तविक क्षमता को पूरी तरह हकीकत का रूप दिया जाना बाकी है।मोदी और ओबामा ने कहा कि साल 2000 में निस्संदेह, ऐसा बहुत कुछ हुआ जिसके चलते तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी कह सके कि हम स्वाभाविक साझीदार हैं।मोदी और ओबामा ने एक संयुक्त संपादकीय में कहा कि हमारे संबंध में पहले से बहुत ज्यादा द्विपक्षीय तालमेल है।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कहा कि आज हमारी भागीदारी मजबूत, विश्वसनीय और टिकाऊ है और इसमें विस्तार हो रहा है।अगस्त, 2014 में आठ बुनियादी उद्योगों की वृद्धि दर 5.8 प्रतिशत रही जो बीते साल की इसी अवधि में 4.7 प्रतिशत थी।जयललिता की जमानत याचिका पर कर्नाटक उच्च न्यायालय बुधवार को सुनवाई करेगा।मारुति सुजुकी मार्च, 2010 और अगस्त, 2013 के बीच विनिर्मित डिजायर, स्विफ्ट और रिट्ज की 69,555 कारें वापस मंगाएगी।दिल्ली की अदालत ने आईपीएल स्पॉट फिक्सिंग मामले में अंडरवर्ल्ड डॉन दाउद इब्राहिम और छोटा शकील को भगोड़ा अपराधी घोषित किया।
 
एक जैविक घटना से आई इंसान में बुद्धि
लंदन, एजेंसी
First Published:03-12-12 03:22 PM
 imageloadingई-मेल Image Loadingप्रिंट  टिप्पणियॉ: (0) अ+ अ-

वैज्ञानिकों ने इंसानों में बुद्धि की उत्पत्ति का कारण खोज निकाला है। उनका दावा है कि पचास करोड़ साल पहले हुई एक जैविक घटना के बाद से इंसानों में सोच सकने वाले जीन्स विकसित हुए।

एडिनबर्ग विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने इंसानों और अन्य स्तनधारियों में बुद्धिमत्ता के विकास की मुख्य वजह खोज निकाली है। उन्होंने पाया कि हमारे पूर्वजों के दिमागों में कई जीन्स की संख्या में वृद्धि होने पर इंसानों में बुद्धिमत्ता का विकास हुआ।

वैज्ञानिकों का यह भी मानना है कि हमारी मानसिक क्षमता बढ़ाने वाली यही जीन्स कई दिमागी विसंगतियों के लिए भी जिम्मेदार हैं। शोधकर्ताओं के अनुसार, पांच करोड़ साल पहले समुद्र में रहने वाले बिना रीढ़ के एक सरल जीव में भी यह जैविक घटना हुई थी। इसके परिणामस्वरूप इन जीन्स की अतिरिक्त प्रतियां बन पाई थीं।

इस जीव की आने वाली पीढ़ियों को इन अतिरिक्त जीन्स से लाभ मिला और यह लाभ इंसानों और अन्य परिष्कत रीढ़ वाले जीवों तक भी पहुंचा। एडिनबर्ग विश्वविद्यालय के प्रोफेसर और प्रमुख शोधकर्ता सेठ ग्रांट ने कहा कि सबसे बड़ी वैज्ञानिक समस्याओं में से एक समस्या विकास क्रम में बुद्धिमत्ता और जटिल रवैयों की उत्पत्ति समझना है।

नेचर न्यूरोसाइंस में छपे इस शोध में व्यवहार के विकास और दिमागी बीमारियों के बीच संबंध भी दर्शाया गया है। इस अध्ययन को आर्थिक मदद देने वाले वेलकम ट्रस्ट में मस्तिष्क विज्ञान और मानसिक स्वास्थ्य के प्रमुख जॉन विलियम्स ने कहा कि इस शोध के जरिए मानसिक विसंगतियों की उत्पत्ति समझने में मदद मिलेगी और इससे उपचार के नए तरीके ढूंढने में भी मदद मिलेगी।

शोधकर्ताओं की टीम ने तुलनात्मक कार्य सौंपकर चूहों और इंसानों की मानसिक योग्यताओं का अध्ययन किया था। इन कार्यों में टच स्क्रीन कंप्यूटर्स पर चीजों को पहचानना भी शामिल था। इसके बाद शोधकर्ताओं ने इन व्यवहार संबंधी परीक्षणों के नतीजों को विभिन्न प्रजातियों के जैविक कोडों के साथ मिश्रित कर दिया, ताकि विभिन्न व्यवहार विकसित होने का समय पता लगाया जा सके।

उन्होंने पाया कि इंसानों और चूहों में उच्च मानसिक कार्य एक समान जीन्स से ही नियंत्रित होते हैं। अध्ययन यह भी दर्शाते हैं कि जब ये जीन्स नष्ट हो जाते हैं, वे उच्च मानसिक कार्यक्षमताओं को पंगु बना देते हैं। ग्रांट ने एक बयान में कहा कि हमारा काम दर्शाता है कि ज्यादा बुद्धिमत्ता और ज्यादा जटिल व्यवहार की कीमत ज्यादा दिमागी बीमारी है।

इस अध्ययन में शामिल कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय के डॉक्टर टिम बुस्से ने कहा कि इन बीमारियों से जूझ रहे रोगियों की मदद के लिए हम अब अनुवांश्कि विज्ञान और व्यवहार परीक्षण का प्रयोग कर सकते हैं।

 
 imageloadingई-मेल Image Loadingप्रिंट  टिप्पणियॉ: (0) अ+ अ- share  स्टोरी का मूल्याकंन
 
टिप्पणियाँ
 

लाइवहिन्दुस्तान पर अन्य ख़बरें

आज का मौसम राशिफल
अपना शहर चुने  
धूपसूर्यादय
सूर्यास्त
नमी
 : 05:41 AM
 : 06:55 PM
 : 16 %
अधिकतम
तापमान
43°
.
|
न्यूनतम
तापमान
24°