गुरुवार, 02 अप्रैल, 2015 | 13:19 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
देहरादून: फर्जीवाड़े में घिरा आईएएस एकादमी का डिप्टी डायरेक्टर, मसूरी स्थित भारतीय प्रशासनिक अकादमी के डिप्टी डायरेक्टर पर नौकरी का झांसा देकर 5 लाख लेने का आरोप, छह माह तक फर्जी आईएएस बनकर अकादमी के एक कक्ष में ठहरी रूबी चौधरी का दावा, कहा इसी अफसर ने अकादमी में ठहराया और एसडीएम का फर्जी आईकार्ड भी बनाकर दिया।
वैज्ञानिकों को मिले पृथ्वी के नजदीक पांच नए ग्रह
मेलबर्न, एजेंसी First Published:19-12-12 02:49 PM
Image Loading

वैज्ञानिकों ने पांच ऐसे नए ग्रहों की पहचान की है जो पृथ्वी के काफी नजदीक हैं। इनमें से एक ग्रह, एक तारे की ऐसी कक्षा में है, जहां जीवन के लिए उपयुक्त स्थितियां मौजूद हैं।
    
इन ग्रहों की पृथ्वी से दूरी के बारे में कहा जा रहा है कि अगर प्रकाश की गति से चला जाए तो इन तक पहुंचने में महज 12 साल का वक्त लगेगा।
    
द ऑस्ट्रेलियन की खबर के अनुसार, ताउ सेटी नामक तारे की गति के लगभग छह हजार आंकड़ों का विश्लेषण करने वाले वैज्ञानिकों का मानना है कि उसकी गति और दिशा में थोड़ी अनियमितताओं की वजह दूसरे आकाशीय पिंडों का गुरुत्वीय खिंचाव है।
    
न्यू साउथ वेल्स विश्वविद्यालय के प्रोफेसर क्रिस टाइने ने कहा, हमारा मानना है कि यह तारा बहुत धीरे-धीरे आगे और पीछे जा रहा है। पांच अलग अलग समय के अंतराल में ऐसा करने के सबूत यह हमें दर्शा चुके हैं।
    
टाइने ने एएपी समाचार एजेंसी को बताया, हमें लगता है कि इस तारे के चारों ओर पांच विभिन्न ग्रह घूम रहे हैं जिसके चलते इसकी गति आगे पीछे हो रही है।
  
ऑस्ट्रेलिया, चिली, ब्रिटेन और अमेरिका से शोधकर्ताओं के अंतरराष्ट्रीय दल का मानना है कि ताउ सेटी के चारों ओर घूमने वाले इन पांचों ग्रहों में से एक ग्रह इस तारे के निवास योग्य क्षेत्र में मौजूद हैं जहां की स्थितियां जीवन के लिए उपयुक्त हैं।
  
इस ग्रह का द्रव्यमान पृथ्वी से पांच गुना अधिक है और इस तरह किसी ऐसे निवास योग्य क्षेत्र का सबसे छोटा ज्ञात ग्रह है। इसका आकार पृथ्वी के आकार से दोगुना है। टाइने के अनुसार, वैज्ञानिकों का मानना है कि छोटे और चट्टानी ग्रहों पर जीवन की ज्यादा संभावना है।

 
 
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
जरूर पढ़ें