शुक्रवार, 24 अक्टूबर, 2014 | 13:59 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
कांग्रेस में बदल सकता है पार्टी अध्‍यक्षचिदंबरम ने कहा, नेतृत्‍व में बदलाव की जरूरत हैमेरठ में बम धमाकापीएल शर्मा रोड की कई दुकाने खाकपूलिस की जांच जारी, बम निरोधक दस्ता पहुंचाएसएसपी ने किसी आतंकी साजिश से किया इनकारदेहरादून शहर के आदर्श नगर में एक ही परिवार के चार लोगों की हत्यागर्भवती महिला समेत तीन लोगों की हत्याहत्याकांड के कारणों का अभी खुलासा नहींपुलिस ने पहली नजर में रंजिश का मामला बतायाकोच्चि एयरपोर्ट पर जांच जारीविमान पर आत्मघाती हमले का खतराएयर इंडिया की फ्लाइट पर फिदायीन हमसे का खतरामुंबई, अहमदाबाद, कोच्चि में हाई अलर्ट
वैज्ञानिकों को मिले पृथ्वी के नजदीक पांच नए ग्रह
मेलबर्न, एजेंसी First Published:19-12-12 02:49 PM
Image Loading

वैज्ञानिकों ने पांच ऐसे नए ग्रहों की पहचान की है जो पृथ्वी के काफी नजदीक हैं। इनमें से एक ग्रह, एक तारे की ऐसी कक्षा में है, जहां जीवन के लिए उपयुक्त स्थितियां मौजूद हैं।
    
इन ग्रहों की पृथ्वी से दूरी के बारे में कहा जा रहा है कि अगर प्रकाश की गति से चला जाए तो इन तक पहुंचने में महज 12 साल का वक्त लगेगा।
    
द ऑस्ट्रेलियन की खबर के अनुसार, ताउ सेटी नामक तारे की गति के लगभग छह हजार आंकड़ों का विश्लेषण करने वाले वैज्ञानिकों का मानना है कि उसकी गति और दिशा में थोड़ी अनियमितताओं की वजह दूसरे आकाशीय पिंडों का गुरुत्वीय खिंचाव है।
    
न्यू साउथ वेल्स विश्वविद्यालय के प्रोफेसर क्रिस टाइने ने कहा, हमारा मानना है कि यह तारा बहुत धीरे-धीरे आगे और पीछे जा रहा है। पांच अलग अलग समय के अंतराल में ऐसा करने के सबूत यह हमें दर्शा चुके हैं।
    
टाइने ने एएपी समाचार एजेंसी को बताया, हमें लगता है कि इस तारे के चारों ओर पांच विभिन्न ग्रह घूम रहे हैं जिसके चलते इसकी गति आगे पीछे हो रही है।
  
ऑस्ट्रेलिया, चिली, ब्रिटेन और अमेरिका से शोधकर्ताओं के अंतरराष्ट्रीय दल का मानना है कि ताउ सेटी के चारों ओर घूमने वाले इन पांचों ग्रहों में से एक ग्रह इस तारे के निवास योग्य क्षेत्र में मौजूद हैं जहां की स्थितियां जीवन के लिए उपयुक्त हैं।
  
इस ग्रह का द्रव्यमान पृथ्वी से पांच गुना अधिक है और इस तरह किसी ऐसे निवास योग्य क्षेत्र का सबसे छोटा ज्ञात ग्रह है। इसका आकार पृथ्वी के आकार से दोगुना है। टाइने के अनुसार, वैज्ञानिकों का मानना है कि छोटे और चट्टानी ग्रहों पर जीवन की ज्यादा संभावना है।
 
 
 
टिप्पणियाँ