शनिवार, 25 अक्टूबर, 2014 | 21:34 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    राजनाथ सोमवार को मुंबई में कर सकते हैं शिवसेना से वार्ता नरेंद्र मोदी ने सफाई और स्वच्छता पर दिया जोर मुंबई में मोदी से उद्धव के मिलने का कार्यक्रम नहीं था: शिवसेना  कांग्रेस ने विवादित लेख पर भाजपा की आलोचना की केन्द्र ने 80 हजार करोड़ की रक्षा परियोजनाओं को दी मंजूरी  कांग्रेस नेता शशि थरूर शामिल हुए स्वच्छता अभियान में हेलमेट के बगैर स्कूटर चला कर विवाद में आए गडकरी  नस्ली घटनाओं पर राज्यों को सलाह देगा गृह मंत्रालय: रिजिजू अश्विका कपूर को फिल्मों के लिए ग्रीन ऑस्कर अवार्ड जम्मू-कश्मीर और झारखंड में पांच चरणों में मतदान की घोषणा
वोदका ने छीनी और व्हिस्की ने लौटायी आंखों की रोशनी
मेलबर्न, एजेंसी First Published:02-12-12 08:07 PM
Image Loading

न्यूजीलैंड में वोदका पी कर देखने की शक्ति खो चुके 65 वर्षीय व्यक्ति की रोशनी व्हिस्की की एक बोतल से लौट आयी। मधुमेह की दवाओं के साथ वोदका की प्रतिक्रिया के कारण उनकी आंखों की रोशनी चली गई थी।

न्यू प्लीमाउथ के वेस्टर्न इंस्टीटयूट ऑफ टेक्नोलॉजी में केटरिंग प्रशिक्षक डेनिस डुथी ने अपने माता-पिता की शादी की 50वीं सालगिरह पर थोड़ी शराब पी कर खुशियां मनाने की योजना बनायी। वोदका पीने के बाद वह अपने कमरे में चले गए जहां उन्हें पता चला कि उनकी दृष्टि चली गई है।

द न्यूजीलैंड हेराल्ड की खबर के अनुसार डेनिस ने अखबार से कहा कि मुझे लगा कि अंधेरा हो गया है, कई बार मुझे परेशानी हुई। उस वक्त दोपहर के साढ़े तीन बजे थे। मैं पूरे कमरे में स्विच खोजते हुए भटक रहा था, मैं पूरी तरह अंधा हो गया था।

जब डेनिस अस्पताल पहुंचे तो डॉक्टरों ने तय किया कि उन्हें चिकित्सा में उपयोग किए जाने वाले इथेनॉल की जरूरत है। लेकिन अस्पताल में उनकी पूरी डोज नहीं थी। ऐसे में अस्पताल ने पास की शराब की दुकान से व्हिस्की की एक बोतल मंगवायी और एक ट्यूब की मदद से डेनिस की पेट में डाला। डेनिस ने कहा कि मैं पांच दिन बाद उठा और आंख खोलने पर मैं सबकुछ देख सकता था।
 
 
 
टिप्पणियाँ