शुक्रवार, 04 सितम्बर, 2015 | 20:00 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
दूरसंचार नियामक ट्राई का कॉल ड्रॉप के लिए उपभोक्ताओं को मुआवजे का प्रस्ताव।RSS की बैठक में बोले मोदी, बड़े बदलाव के लिए काम कर रहे हैं, जल्द ही नतीजे सामने आएंगेपटना में निषाद समुदाय के प्रदर्शन के दौरान शामिल लोगों और पुलिस के बीच हुई झड़प में 25 घायलदिल्ली में लालू-मुलायम की बैठक खत्म, 5 सीटें मिलने से सपा नाराजदिल्ली: पीएम 6 सितंबर को करेंगे बदरपुर से फरीदाबाद तक चलने वाली मेट्रो का शुभारंभ
वोदका ने छीनी और व्हिस्की ने लौटायी आंखों की रोशनी
मेलबर्न, एजेंसी First Published:02-12-2012 08:07:36 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
Image Loading

न्यूजीलैंड में वोदका पी कर देखने की शक्ति खो चुके 65 वर्षीय व्यक्ति की रोशनी व्हिस्की की एक बोतल से लौट आयी। मधुमेह की दवाओं के साथ वोदका की प्रतिक्रिया के कारण उनकी आंखों की रोशनी चली गई थी।

न्यू प्लीमाउथ के वेस्टर्न इंस्टीटयूट ऑफ टेक्नोलॉजी में केटरिंग प्रशिक्षक डेनिस डुथी ने अपने माता-पिता की शादी की 50वीं सालगिरह पर थोड़ी शराब पी कर खुशियां मनाने की योजना बनायी। वोदका पीने के बाद वह अपने कमरे में चले गए जहां उन्हें पता चला कि उनकी दृष्टि चली गई है।

द न्यूजीलैंड हेराल्ड की खबर के अनुसार डेनिस ने अखबार से कहा कि मुझे लगा कि अंधेरा हो गया है, कई बार मुझे परेशानी हुई। उस वक्त दोपहर के साढ़े तीन बजे थे। मैं पूरे कमरे में स्विच खोजते हुए भटक रहा था, मैं पूरी तरह अंधा हो गया था।

जब डेनिस अस्पताल पहुंचे तो डॉक्टरों ने तय किया कि उन्हें चिकित्सा में उपयोग किए जाने वाले इथेनॉल की जरूरत है। लेकिन अस्पताल में उनकी पूरी डोज नहीं थी। ऐसे में अस्पताल ने पास की शराब की दुकान से व्हिस्की की एक बोतल मंगवायी और एक ट्यूब की मदद से डेनिस की पेट में डाला। डेनिस ने कहा कि मैं पांच दिन बाद उठा और आंख खोलने पर मैं सबकुछ देख सकता था।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingपापा द्रविड़ के नक्शेकदम पर चला बेटा, दिखाया बल्ले का जौहर
द वॉल’ के नाम से मशहूर भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान राहुल द्रविड़ के बेटे ने भी अपने पिता के नक्शेकदम पर चलने का संकेत देते हुए स्कूल टीम को अपनी उम्दा बल्लेबाजी की बदौलत जीत दिला दी।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड Others
 
Image Loading

अलार्म से नहीं खुलती संता की नींद
संता बंता से: 20 सालों में, आज पहली बार अलार्म से सुबह-सुबह मेरी नींद खुल गई।
बंता: क्यों, क्या तुम्हें अलार्म सुनाई नहीं देता था?
संता: नहीं आज सुबह मुझे जगाने के लिए मेरी बीवी ने अलार्म घड़ी फेंक कर सिर पर मारी।