मंगलवार, 04 अगस्त, 2015 | 08:53 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    दिल्ली में पांच लाख का ईनामी मोस्ट वांटेड नक्सली गिरफ्तार पहली बार देखा पेड़ लगाने का जनांदोलन: प्रकाश जावड़ेकर भारतीय-कनाडाई मूल की गायिका ने किया अर्धनग्न प्रदर्शन का नेतृत्व उत्तराखंड: ATM लूटने की कोशिश में कर दी गार्ड की हत्या लखनऊ: एसबीआई की 7वीं मंजिल से स्टेनोग्राफर गिरा, मौत गुड़गांव जेल में 160 मोबाइल फोन का पता चला, मामला दर्ज यूपी: गंगा के रौद्र रूप से सहमे तटवर्ती लोग, बाढ़ का खतरा यूपी: पंचायत चुनाव को लेकर राष्ट्रीय लोकदल ने कसी कमर हिमाचल प्रदेश की सर्वोच्च प्राथमिकता है शिक्षा: वीरभद्र सिंह एम्स के लिए सभी पाटियों के नेता मोदी से मिलेंगे: फारूक अब्दुल्ला
चाय की दुकान से चौथी बार मुख्यमंत्री बनने का सफर
गांधीनगर, एजेंसी First Published:20-12-2012 02:44:45 PMLast Updated:20-12-2012 10:25:23 PM
Image Loading

गुजरात के मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी का जन्म 17 सितंबर 1950 को एक मध्यवर्गीय परिवार में मेहसाणा जिले के चडनगर में हुआ था। पिछले 10 साल से राज्य के मुख्यमंत्री रहे मोदी ने गुजरात विश्वविद्यालय से राजनीति शास्त्र में स्नातक की डिग्री हासिल की। अपने प्रारंभिक काल में वह अपने पिता और भाई को चाय की स्टाल चलाने में मदद करते थे।

कालेज के दिनों में मोदी राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के सक्रिय कार्यकर्ता थे। गुजरात में भाजपा की नींव डालने में मोदी की महत्वपूर्ण भूमिका रही है। शंकरसिंह बाघेला और केशुभाई पटेल के साथ साथ मोदी ने भी राज्य में भाजपा को गांव गांव तक पहुंचाया। वाघेला और मोदी एक दूसरे के पूरक माने जाते थे। वाघेला एक जननेता के रुप में जाने जाते थे, जबकि मोदी पर्दे के पीछे संगठन का काम करते थे।

1995 में जब भाजपा गुजरात में अपने बलबूते पर सत्ता में आई, तब वाघेला और मोदी के बीच टकराव हुआ। इस बीच मोदी ने पार्टी के राष्ट्रीय नेताओं लालकृष्ण आडवाणी की सोमनाथ से अयोध्या रथयात्रा और मुरली मनोहर जोशी की कन्याकुमारी से कश्मीर की रथयात्रा का सफल संचालन करके अपना संगठनात्मक कौशल साबित कर दिया।

शीघ्र ही मोदी को राष्ट्रीय स्तर पर पार्टी ने महत्वपूर्ण जिम्मेदारी सौंपी। उन्हें पांच राज्यों का भार सौंपा गया। 1998 में उन्हें गुजरात और हिमाचल प्रदेश में पार्टी का चुनाव प्रचार का कार्य सौंपा गया, जो उन्होंने सफलतापूर्वक किया।

राज्य में विनाशकारी भूकंप और 2001 के उपचुनावों में भाजपा की हार के बाद तत्कालीन मुख्यमंत्री केशूभाई पटेल को पार्टी ने पदच्युत किया गया और राज्य की बागडौर मोदी को सौंप दी। मोदी उन कुछ मुख्यमंत्रियों में से हैं, जो चुनाव लड़े बिना मुख्यमंत्री बने।

गोधराकांड और उसके बाद की हिंसा से गुजरात और मोदी की छवि पर दाग लगा। परन्तु उसके बाद के चुनावों में भाजपा को 127 सीटों के साथ भारी बहुमत मिला। वर्ष 2007 में उन्होंने फिर पार्टी को विजयी बनाया।

परन्तु उनके प्रधानमंत्री बनने की राह में गोधरा दंगे मुख्य अड़चन के रूप में खड़े हैं। हालांकि उच्चतम न्यायालय द्वारा नियुक्त विशेष जांच दल टीम ने उन्हें गोधराकाण्ड में निर्दोष करार दिया है। परन्तु उनके खिलाफ दंगा पीड़ितों को न्याय नहीं दिलाने का आरोप तो है ही।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingश्रीलंका में जीत के लिए ये है कोहली का मास्टर प्लान
टेस्ट कप्तान के तौर पर अपनी पहली संपूर्ण तीन मैचों की सीरीज के लिये श्रीलंका दौरे पर भारतीय टीम का नेतृत्व कर रहे विराट कोहली ने कहा है कि उनकी योजना श्रीलंका में पांच गेंदबाजों को उतारने की रहेगी।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
 
Image Loading

जब बीमार पड़ा संता...
जीतो बीमार पति से: जानवर के डॉक्टर को मिलो तब आराम मिलेगा!
संता: वो क्यों?
जीतो: रोज़ सुबह मुर्गे की तरह जल्दी उठ जाते हो, घोड़े की तरह भाग के ऑफिस जाते हो, गधे की तरह दिनभर काम करते हो, घर आकर परिवार पर कुत्ते की तरह भोंकते हो, और रात को खाकर भैंस की तरह सो जाते हो, बेचारा इंसानों का डॉक्टर आपका क्या इलाज करेगा?