बुधवार, 01 जुलाई, 2015 | 07:23 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    'मेंढक' को है आपकी दुआओं की जरूरत, कोमा में है आपका चहेता किरदार सुनंदा पुष्कर केस में शशि थरूर का लाइ डिटेक्टर टेस्ट कराने की तैयारी में जुटी पुलिस शर्मनाक: सीरिया में आईएस ने दो महिलाओं का सिर कलम किया उपचुनाव में रिकॉर्ड डेढ लाख वोटों के अंतर से जीतीं जयलिलता, सभी विरोधी उम्मीदवारों की जमानत जब्त धौलपुर महल विवाद: कांग्रेस ने राजे के खिलाफ नए सबूत पेश किए, भाजपा बोली, छवि बिगाड़ने की साजिश ट्विटर पर जॉन ने खोली 'वेलकम बैक' की रिलीज़ डेट, आप भी जानिए बांग्लादेश में उड़ा टीम इंडिया का मजाक, इन क्रिकेटरों को दिखाया आधा गंजा गांगुली ने टीम इंडिया में हरभजन की वापसी का किया स्वागत रोहित समय के पाबंद हैं, उनके साथ काम करना मुश्किल: शाहरूख खान तेंदुलकर ने अजिंक्य रहाणे को दीं शुभकामनाएं
एसएमएस मना रहा है 21वां जन्मदिन
लंदन, एजेंसी First Published:02-12-12 06:24 PM
Image Loading

पर्व-त्योहार हो जन्मदिन या कोई और अवसर, हम अक्सर अपने प्रियजन को संदेश भेजते हैं और मोबाइल फोन की वर्तमान दुनिया में उसका जरिया है एसएमएस। इस वर्ष एसएमएस अपना 21वां जन्मदिन मना रहा है, लेकिन वर्तमान दौर में एसएमएस करने का ट्रेंड घट रहा है।

एक नई रिपोर्ट के अनुसार दो दशक पहले जन्म लेकर लोगों के जीवन का अहम हिस्सा बनने वाले एसएमएस के जीवन में पहली बार ढलान आया है। पिछले दो दशक में इसने कई बहुराष्ट्रीय कंपनियों के व्यापार संबंधी सौदों का भविष्य तय करने से लेकर प्रेम, खुशी और दुखी आदि भावनाओं से युक्त लोगों के दिलों की बातें भी कहीं।

पहली बार तीन दिसंबर 1992 में एक कंप्यूटर से मोबाइल फोन पर संदेश भेजा गया जिसमें लिखा था मेरी क्रिसमस। वर्ष 1998 के बाद तो जैसे एसएमएस की दुनिया में बहार ही आ गई।

फिलहाल दुनिया में कुल चार अरब लोग एसएमएस सेवा का उपयोग करते हैं। लेकिन पहली बार ऐसा हुआ है जब एसएमएस की संख्याओं में काफी कमी आयी है।

मीडिया नियामक ऑफकॉम का कहना है कि पिछली दो तिमाही में एसएमएस की संख्याओं में करीब एक अरब की कमी आयी है।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड