शनिवार, 04 जुलाई, 2015 | 10:33 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    जूलियन से झमाझम बारिश, फिर भी उत्तर पश्चिम भारत में पड़ेगा सूखा लखपति, करोड़पति, कारों से चलने वाले भी बन गए EWS, जानिए कैसे पूर्व रॉ प्रमुख का खुलासा: खुफिया एजेंसी कश्मीर में आतंकियों को देती है पैसा वैज्ञानिकों ने खोला कम और अधिक आयु का राज, आप भी जान लीजिए यूपी में 'चुड़ैल का वीडियो' हुआ वायरल, पुलिस ढूंढ रही 'चुड़ैल' को 'उधर हेमा को अस्पताल ले गए, इधर मेरी बेटी ने अपनी मां की गोद में दम तोड़ दिया' 'गुड्डू रंगीला' देखने जा रहे हैं? पहले रिव्यू तो पढ़ लीजिए फिल्म रिव्यू: टर्मिनेटर जेनेसिस पूर्व रॉ प्रमुख के खुलासे के बाद सरकार पर हमलावर हुई कांग्रेस, PM से की माफी की मांग झारखंड: मेदिनीनगर के हुसैनाबाद में ओझा-गुणी की हत्या
21 दिसम्बर को खत्म क्यों नहीं हुई दुनिया?
वाशिंगटन, एजेंसी First Published:23-12-12 08:02 PM
Image Loading

माया कैलेंडर के अनुसार इस साल 21 दिसम्बर को दुनिया खत्म हो जानी थी लेकिन ऐसा हुआ नहीं। इस बारे में जानकार का कहना है कि वास्तव में इस दिन का एक खास महत्व था। लेकिन उस तरह नहीं, जैसा कि प्रचारित किया गया।

माया कैलेंडर के जानकार और यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्सास में प्रोफेसर डेविड स्टुअर्ट का कहना है, ''माया कैलेंडर ने वास्तव में दुनिया खत्म हो जाने की कभी भविष्यवाणी नहीं की। माया कैलेंडर के अनुसार, वह तिथि एक महत्वपूर्ण चक्र पूरा होने को दर्शाता था।''

स्टुअर्ट ने इस साल की शुरुआत में ग्वाटेमाला के जंगलों में ला कोरोना के अवशेषों का अध्ययन किया था, जहां उन्होंने खुदाई से कई ऐसे पत्थर निकाले, जिन पर कुछ न कुछ खुदा था। उन्होंने 56 खुदे हुए पत्थरों का अध्ययन किया और राजनीतिक इतिहास के 2०० साल को समझा।

स्टुअर्ट के अनुसार, 21 दिसम्बर को लेकर गलत अवधारणाओं के बावजूद यह समय खत्म हो जाने की भविष्यवाणी नहीं करता। उन्होंने कहा, ''पत्थरों पर खुदे हुए शब्द सातवीं शताब्दी के इतिहस तथा राजनीति पर बल देते हैं।''

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड