शनिवार, 05 सितम्बर, 2015 | 06:41 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
सोथबी में गांधी के पत्रों, संविधान की प्रति की बिक्री
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:16-12-2012 07:26:52 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
Image Loading

महात्मा गांधी द्वारा 1992 में रवींद्रनाथ टैगोर के सबसे बड़े भाई द्विजेंद्रनाथ को लिखे पत्रों को एक अज्ञात शख्स ने इसकी अनुमानित कीमत से सात गुना राशि में खरीदा है। लंदन में सोथबी की नीलामी में एक निजी संग्रहकर्ता ने भारतीय संविधान की एक दुर्लभ प्रति प्रस्तावित कीमत से करीब आठ गुना मूल्य में खरीदी है।

सोथबी के एक अधिकारी ने कहा कि संविधान की प्रति का खरीददार एक निजी संग्रहकर्ता है वहीं एक गुमनाम खरीददार ने गांधी से जुड़े दो पत्र खरीदे। महात्मा ने द्विजेंद्रनाथ को साबरमती जेल से पत्र लिखे थे जिन्हें बुधवार को सोथबी की अंग्रेजी साहित्य, इतिहास, बाल पुस्तकें और रचनाओं की नीलामी में 49,250 पाउंड में बेचा गया। इनका 5 से 7 हजार पाउंड में बेचे जाने का पूर्वानुमान लगाया गया था।

गांधीजी ने इस पत्र में द्विजेंद्रनाथ से यंग इंडिया पत्रिका के समर्थन में संदेश भेजने को कहा था और इसे पेंसिल से लिखा गया था। व्हाटमैन कागज पर रचित संविधान के पहले सीमित संस्करण की बिक्री 39,650 पाउंड में की गई। इस संविधान की प्रति पर प्रथम राष्ट्रपति राजेंद्र प्रसाद के अंग्रेजी और देवनागरी में हस्ताक्षर हैं। जवाहरलाल नेहरू के भी इस पर दस्तखत हैं। पिछले महीने गांधीवादी लेखक गिरिराज किशोर ने संप्रग अध्यक्ष सोनिया गांधी से संपर्क कर दोनों पत्रों की नीलामी रोकने का आग्रह किया था।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड Others
 
Image Loading

अलार्म से नहीं खुलती संता की नींद
संता बंता से: 20 सालों में, आज पहली बार अलार्म से सुबह-सुबह मेरी नींद खुल गई।
बंता: क्यों, क्या तुम्हें अलार्म सुनाई नहीं देता था?
संता: नहीं आज सुबह मुझे जगाने के लिए मेरी बीवी ने अलार्म घड़ी फेंक कर सिर पर मारी।