रविवार, 26 अक्टूबर, 2014 | 04:20 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    राजनाथ सोमवार को मुंबई में कर सकते हैं शिवसेना से वार्ता नरेंद्र मोदी ने सफाई और स्वच्छता पर दिया जोर मुंबई में मोदी से उद्धव के मिलने का कार्यक्रम नहीं था: शिवसेना  कांग्रेस ने विवादित लेख पर भाजपा की आलोचना की केन्द्र ने 80 हजार करोड़ की रक्षा परियोजनाओं को दी मंजूरी  कांग्रेस नेता शशि थरूर शामिल हुए स्वच्छता अभियान में हेलमेट के बगैर स्कूटर चला कर विवाद में आए गडकरी  नस्ली घटनाओं पर राज्यों को सलाह देगा गृह मंत्रालय: रिजिजू अश्विका कपूर को फिल्मों के लिए ग्रीन ऑस्कर अवार्ड जम्मू-कश्मीर और झारखंड में पांच चरणों में मतदान की घोषणा
सोथबी में गांधी के पत्रों, संविधान की प्रति की बिक्री
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:16-12-12 07:26 PM
Image Loading

महात्मा गांधी द्वारा 1992 में रवींद्रनाथ टैगोर के सबसे बड़े भाई द्विजेंद्रनाथ को लिखे पत्रों को एक अज्ञात शख्स ने इसकी अनुमानित कीमत से सात गुना राशि में खरीदा है। लंदन में सोथबी की नीलामी में एक निजी संग्रहकर्ता ने भारतीय संविधान की एक दुर्लभ प्रति प्रस्तावित कीमत से करीब आठ गुना मूल्य में खरीदी है।

सोथबी के एक अधिकारी ने कहा कि संविधान की प्रति का खरीददार एक निजी संग्रहकर्ता है वहीं एक गुमनाम खरीददार ने गांधी से जुड़े दो पत्र खरीदे। महात्मा ने द्विजेंद्रनाथ को साबरमती जेल से पत्र लिखे थे जिन्हें बुधवार को सोथबी की अंग्रेजी साहित्य, इतिहास, बाल पुस्तकें और रचनाओं की नीलामी में 49,250 पाउंड में बेचा गया। इनका 5 से 7 हजार पाउंड में बेचे जाने का पूर्वानुमान लगाया गया था।

गांधीजी ने इस पत्र में द्विजेंद्रनाथ से यंग इंडिया पत्रिका के समर्थन में संदेश भेजने को कहा था और इसे पेंसिल से लिखा गया था। व्हाटमैन कागज पर रचित संविधान के पहले सीमित संस्करण की बिक्री 39,650 पाउंड में की गई। इस संविधान की प्रति पर प्रथम राष्ट्रपति राजेंद्र प्रसाद के अंग्रेजी और देवनागरी में हस्ताक्षर हैं। जवाहरलाल नेहरू के भी इस पर दस्तखत हैं। पिछले महीने गांधीवादी लेखक गिरिराज किशोर ने संप्रग अध्यक्ष सोनिया गांधी से संपर्क कर दोनों पत्रों की नीलामी रोकने का आग्रह किया था।
 
 
 
टिप्पणियाँ