शुक्रवार, 28 अगस्त, 2015 | 00:52 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
शीना बोरा के इस्तीफे पर फर्जी साइनः राकेश मारिया।
इंटरनेट कर रहा 83 करोड़ टन कार्बन डाईऑक्साइड उत्सर्जन
मेलबर्न, एजेंसी First Published:06-01-2013 05:54:07 PMLast Updated:06-01-2013 08:26:50 PM
Image Loading

एक अध्ययन के अनुसार इंटरनेट तथा सूचना संचार एवं प्रौद्योगिकी (आईसीटी) उद्योग के दूसरे उपकरणों से सालाना 83 करोड़ टन से अधिक कार्बन डाई आक्साइड उत्सर्जित होती है जिसके 2020 तक दोगुना होने का अनुमान है।

सेंटर फोर एनर्जी एफिसिएंट टेलीकम्युनिकेशंस (सीईईटी) तथा बेल लैब के अनुसंधानकर्ताओं ने यह निष्कर्ष निकाला है। रपट में कहा गया है कि आईसीटी उद्योग का वैश्विक कार्बन डाइ आक्साइड उत्सर्जन में दो प्रतिशत हिस्सा है। यह हिस्सा विमानन उदयोग द्वारा उत्सर्जित कार्बन डाइ आक्साइड के समान है।

आईसीटी उद्योग में इंटरनेट, वीडियो, वायस तथा अन्य क्लाउड सेवाएं आती हैं। इन्वायरमेंटल साइंस एंड टेक्नालाजी में प्रकाशित रपट के अनुसार ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन में आईसीटी का हिस्सा बढ़कर 2020 तक दोगुना होने का अनुमान है।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
 
Image Loading

जब पप्पू पहंचा परीक्षा देने...
अध्यापिका: परेशान क्यों हो?
पप्पू ने कोई जवाब नहीं दिया।
अध्यापिका: क्या हुआ, पेन भूल आये हो?
पप्पू फिर चुप।
अध्यापिका : रोल नंबर भूल गए हो?
अध्यापिका फिर से: हुआ क्या है, कुछ तो बताओ क्या भूल गए?
पप्पू गुस्से से: अरे! यहां मैं पर्ची गलत ले आया हूं और आपको पेन-पेंसिल की पड़ी है।