बुधवार, 23 अप्रैल, 2014 | 13:03 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    गिरिराज सिंह के खिलाफ गैर जमानती वारंट हुआ जारी सरकारी विज्ञापन पर दिशानिर्देश के लिए समिति गठित  वाराणसी:नामांकन से पहले जारी है केजरीवाल का रोड शो काला धन करदाताओं को देंगे,एक्सक्लूसिव इंटरव्यू में मोदी ने कहा मोदी जैसा फ्राड नहीं देखा : मुलायम '1984 दंगों में पुलिस को कार्रवाई की इजाजत नहीं थी' 'पराजय के बाद भी एकजुट रहेगा संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन' रोहित शेखर हैं एनडी तिवारी के जैविक पुत्र: दिल्ली हाईकोर्ट पाकिस्तान में भाजपा की वेबसाइट बंद, मोदी की चालू  2जी:अदालत ने प्रश्नावली पर आरोपी का आग्रह खारिज किया
 
इंटरनेट कर रहा 83 करोड़ टन कार्बन डाईऑक्साइड उत्सर्जन
मेलबर्न, एजेंसी
First Published:06-01-13 05:54 PM
Last Updated:06-01-13 08:26 PM
 imageloadingई-मेल Image Loadingप्रिंट  टिप्पणियॉ: (0) अ+ अ-

एक अध्ययन के अनुसार इंटरनेट तथा सूचना संचार एवं प्रौद्योगिकी (आईसीटी) उद्योग के दूसरे उपकरणों से सालाना 83 करोड़ टन से अधिक कार्बन डाई आक्साइड उत्सर्जित होती है जिसके 2020 तक दोगुना होने का अनुमान है।

सेंटर फोर एनर्जी एफिसिएंट टेलीकम्युनिकेशंस (सीईईटी) तथा बेल लैब के अनुसंधानकर्ताओं ने यह निष्कर्ष निकाला है। रपट में कहा गया है कि आईसीटी उद्योग का वैश्विक कार्बन डाइ आक्साइड उत्सर्जन में दो प्रतिशत हिस्सा है। यह हिस्सा विमानन उदयोग द्वारा उत्सर्जित कार्बन डाइ आक्साइड के समान है।

आईसीटी उद्योग में इंटरनेट, वीडियो, वायस तथा अन्य क्लाउड सेवाएं आती हैं। इन्वायरमेंटल साइंस एंड टेक्नालाजी में प्रकाशित रपट के अनुसार ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन में आईसीटी का हिस्सा बढ़कर 2020 तक दोगुना होने का अनुमान है।

 
 imageloadingई-मेल Image Loadingप्रिंट  टिप्पणियॉ: (0) अ+ अ- share  स्टोरी का मूल्याकंन
 

लाइवहिन्दुस्तान पर अन्य ख़बरें

आज का मौसम राशिफल
अपना शहर चुने  
आंशिक बादलसूर्यादय
सूर्यास्त
नमी
 : 06:47 AM
 : 06:20 PM
 : 68 %
अधिकतम
तापमान
20°
.
|
न्यूनतम
तापमान
13°