शनिवार, 25 अक्टूबर, 2014 | 09:44 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    चीन सीमा पर 54 चौकियां बनाएगा भारत, 175 करोड़ के पैकेज की घोषणा  बर्धवान के बम थे बांग्लादेश के लिए: एनआईए नरेंद्र मोदी की चाय पार्टी में नहीं शामिल होंगे उद्धव ठाकरे भूपेंद्र सिंह हुड्डा की बढ़ सकती हैं मुश्किलें  कालेधन पर राम जेठमलानी ने बढ़ाई सरकार की मुश्किलें जमशेदपुर से लश्कर का आतंकवादी गिरफ्तार  कोई गैर गांधी भी बन सकता है कांग्रेस अध्यक्ष: चिदंबरम भाजपा के साथ सरकार के लिए उद्धव बहुत उत्सुक: अठावले रांची : एंथ्रेक्स ने ली सात लोगों की जान, 8 गंभीर हालत में भर्ती भारत-पाक तनाव के लिये भारत जिम्मेदार : बिलावल भुट्टो
भारत में आनलाइन खोज और उपयोगितावादी हुई: गूगल
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:18-12-12 08:31 PM
Image Loading

गूगल इंडिया का कहना है कि भारत में आनलाइन खोज समय के साथ और अधिक उपयोगी बनी है। यानी लोग अब आनलाइन खोज बैंकिंग, शापिंग तथा ट्रैवल आदि उपयोगी सेवाओं के लिए अधिक करते हैं जबकि कुछ साल पहले यह मनोरंजन पर केंद्रित होती थी।

गूगल इंडिया के उपाध्यक्ष राजन आनंदन ने सालाना जेइतजेइस्ट सूची जारी करते हुए यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि आनलाइन सर्च में उपयोगी सेवाएं अग्रणी भूमिका निभा रही हैं। आनंदन ने संवाददाताओं से कहा कि गूगल की 2012 जेइतजेइस्ट सूची के आंकड़े दुनिया भर में 146 भाषाओं में 1200 अरब खोज पर आधारित हैं। 13.7 करोड़ उपयोक्ताओं के साथ भारत तीसरा सबसे बड़ा इंटरनेट बाजार है। उन्होंने कहा कि भारत में लोग अब इंटरनेट का इस्तेमाल अपनी व्यक्तिगत जरूरतों के लिए करने लगे हैं जिनमें शांपिग, टिकट बुकिंग, खरीद के बारे में जानकारी लेना शामिल है।

इसके अनुसार सबसे अधिक सर्च में आईबीपीएस (इंस्टिटयूट आफ बैंकिंग पर्सनल सलेक्शन) पहले नंबर पर है। इसके बाद गेट परीक्षा, सनी लियोन, एक था टाइगर व राउडी राठौड़ है।
 
 
 
टिप्पणियाँ