शुक्रवार, 04 सितम्बर, 2015 | 22:03 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी नहीं देख पा रहे हैं कि सरकार से इतर असहिष्णु तत्व उन्हें एवं उनकी सरकार को नियंत्रित कर रहे हैं: राहुल गांधी ने मोदी-आरएसएस बैठक पर ट्वीट किया।
पीड़िता ने ट्यूशन पढ़ाकर की थी पढ़ाई
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:29-12-2012 09:53:48 PMLast Updated:30-12-2012 03:00:44 PM
Image Loading

राजधानी दिल्ली में सामूहिक दुष्कर्म की शिकार युवती शनिवार को अंतत: जीवन संघर्ष में हार गई। लेकिन उसकी जीजिविषा आने वाली पीढ़ी के लिए एक मिसाल है। दिल्ली की इस बहादुर युवती का सम्बंध उत्तर प्रदेश के बलिया से था और वह अपने स्कूल तथा कॉलेज की पढ़ाई का खर्च निकालने के लिए ट्यूशन पढ़ाया करती थी। युवती को जानने वालों ने बताया कि वह मेहनती थी और जीवन में आगे बढ़ना चाहती थी।

परिवार के करीबी सूत्रों के मुताबिक युवती का परिवार करीब 25 साल पहले आकर दक्षिण-पश्चिमी दिल्ली के एक मध्य वर्गीय परिवेश में बसा था। वहीं 23 वर्ष पहले युवती का जन्म हुआ था। युवती की प्रतिभा को देखते हुए उसके पिता ने उच्च शिक्षा के लिए कर्ज लिया था।

कॉलेज की शिक्षा पूरी करने के बाद फिजियोथेरेपिस्ट का प्रशिक्षण लेने के लिए वह देहरादून गई थी। वहां से लौटने के बाद उसने उत्तरी दिल्ली के एक निजी अस्पताल में प्रशिक्षु के रूप में काम करना शुरू किया था। युवती अपने घर की सबसे बड़ी संतान थी और माता-पिता को उम्मीद थी कि उसकी सफलता से उसके दो छोटे भाइयों को भी आगे बढ़ने की प्रेरणा मिलेगी।

जानकार ने कहा, ‘किसी भी परिवार की तरह उसके माता पिता को भी उम्मीद थी कि उसे अच्छी नौकरी तथा अच्छा वेतन मिलेगा।’ लेकिन 16 दिसम्बर को सामूहिक दुष्कर्म की शिकार हो जाने से उसका और उसके परिवार का सपना चूर हो गया। इसके बाद 13 दिनों तक जीवन और मृत्यु के बीच संघर्ष करते हुए आखिर सिंगापुर में शनिवार को युवती का निधन हो गया।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingद्रविड़ चाहते हैं टेस्ट में पांचवें नंबर पर बल्लेबाजी करे रहाणे
टेस्ट क्रिकेट में अजिंक्य रहाणे के बल्लेबाजी क्रम को लेकर चल रही बहस में हिस्सा लेते हुए पूर्व भारतीय कप्तान राहुल द्रविड़ ने कहा कि वह चाहते हैं कि राजस्थान रायल्स टीम में एक समय उनका साथी रहा यह बल्लेबाज पांचवें नंबर बल्लेबाजी करे और तीसरे नंबर पर नहीं जहां वह श्रीलंका के खिलाफ अंतिम दो टेस्ट में खेलने उतरे।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड Others
 
Image Loading

अलार्म से नहीं खुलती संता की नींद
संता बंता से: 20 सालों में, आज पहली बार अलार्म से सुबह-सुबह मेरी नींद खुल गई।
बंता: क्यों, क्या तुम्हें अलार्म सुनाई नहीं देता था?
संता: नहीं आज सुबह मुझे जगाने के लिए मेरी बीवी ने अलार्म घड़ी फेंक कर सिर पर मारी।