गुरुवार, 18 सितम्बर, 2014 | 21:15 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    भारत और चीन ने 12 समझौते किए, पांच साल में 20 अरब डॉलर का होगा चीनी निवेश सीबीआई प्रमुख मामले में व्हिसल ब्लोअर का नाम बताने से इंकार एशिया के खेल महाकुंभ में दिखेगा 13 हजार का दम शाह ने कहा, आत्मसम्मान की कीमत पर गठबंधन नहीं मोदी 25 सितंबर को शुरू करेंगे मेक इन इंडिया अभियान स्कॉटलैंड में स्वतंत्रता के मसले पर वोटिंग जारी सुप्रीम कोर्ट का सीवीसी नियुक्ति के लिए केंद्र को निर्देश शिखर वार्ता में आर्थिक संबंधों, सीमा विवाद के हल पर जोर कराची में रविवार को रैली को संबोधित करेंगे इमरान ग्यारह दिन बाद फिर खुला जम्मू-कश्मीर सचिवालय
 
गायब हो गई हैं गुप्त ब्रिटिश औपनिवेशिक फाइलें
लंदन, एजेंसी
First Published:01-12-12 10:33 AM
 imageloadingई-मेल Image Loadingप्रिंट  टिप्पणियॉ: (0) अ+ अ-

ब्रिटेन के पूर्व औपनिवेशिक प्रशासन की शीर्ष गुप्त फाइलों से भरे लगभग 170 बक्से गायब हो गए हैं। सरकार का कहना है कि उसके पास केवल सिंगापुर से जुड़ी फाइलों की जानकारी है, जिन्हें 1990 के दशक में नष्ट कर दिए जाने के उसके पास कुछ सबूत हैं।
   
संसद में दिए गए एक बयान में विदेश और राष्ट्रमंडल कार्यालय (एफसीओ) के मंत्री डेविड लिडिंगटन ने कल कहा कि विभाग को पता है कि ब्रिटेन के पूर्व उपनिवेशों ने ये फाइलें ब्रिटेन को लौटा दी थीं लेकिन इसके बाद इन फाइलों का क्या हुआ, इसकी जानकारी उनके पास नहीं है।
   
लिडिंगटन ने कहा कि एफसीओ अभी भी इस बात की पुष्टि करने में असमर्थ है कि ये 170 बक्से मौजूद हैं या नष्ट हो गए। उन्होंने कहा कि इस बात के कुछ सबूत हैं कि सिंगापुर से संबंधित शीर्ष गुप्त फाइलें 1990 के दशक में समीक्षा के दौरान नष्ट कर दी गयी थीं।
   
एफसीओ ने अभी भी गायब फाइलों या उनके नष्ट होने के सबूतों का पता लगाने का काम जारी रखा है। एफसीओ ने फाइलों के गायब होने की बात ऐसे समय में कही है जब केन्या और साइप्रस में ब्रिटेन के विवादस्पद गतिविधयों से जुड़ी गुप्त औपनिवेशिक फाइलें, दक्षिण पश्चिम लंदन में द नेशनल आर्काइव्स में सार्वजनिक रूप से उपलब्ध करा दी गयी हैं।
   
केन्या से जुड़ी फाइलें 1963 में केन्या को आजादी मिलने से थोड़े समय पहले सामने आयी थीं। इनसे वृद्ध केन्याइयों के अदालत में किए गए उन दावों को बल मिला था, जिसमें उन्होंने ब्रिटिश सेना द्वारा वर्ष 1950 में किए गए माउ माउ क्रांति के दमन के दौरान उन्हें प्रताडित किए जाने की बात कही थी। अब ये फाइलें आम जनता के लिए सार्वजनिक कर दी गयी हैं।

 
 imageloadingई-मेल Image Loadingप्रिंट  टिप्पणियॉ: (0) अ+ अ- share  स्टोरी का मूल्याकंन
 
टिप्पणियाँ
 

लाइवहिन्दुस्तान पर अन्य ख़बरें

आज का मौसम राशिफल
अपना शहर चुने  
धूपसूर्यादय
सूर्यास्त
नमी
 : 05:41 AM
 : 06:55 PM
 : 16 %
अधिकतम
तापमान
43°
.
|
न्यूनतम
तापमान
24°